जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए भारत बचाओ महारथ यात्रा के आगामी कार्यक्रम....           जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए भारत बचाओ महारथ यात्रा के तत्वाधान में विशाल जनसभा दिनांक : 18 फरवरी 2018 रविवार - ब्राम्हण सभा परेड ग्राउंड जम्मू शहर समय 10 बजे से सम्पर्क 9419109424, 9540391838            दिनांक : 18 फरवरी 2018 रविवार स्थान : दुर्गियाना मंदिर अमृतसर पंजाब समय 8 बजे शाम सम्पर्क 9888799688       चीजे खुद नहीं होती है, उन्हें करना पड़ता है .....

ताज़ा खबर

जनसंख्या नियंत्रण कानून को लेकर 26 दिसम्बर को जंतर- मंतर पर एक दिवसीय धरना प्रदर्शन

दिल्ली जंतर- मंतर : सभी को विदित है कि सुदर्शन राष्ट्र निर्माण संगठन द्वारा जनसंख्या नियंत्रण कानून की मुहिम चलाई जा रही है । जनसंख्या नियंत्रण कानून को लेकर श्री सुरेश चव्हाणके जी ने भारत बचाओ महारथ यात्रा निकाली थी। और यह यात्रा पूरे देश में निकाली गई। इस यात्रा के दौरान सुरेश चव्हाणके जी ने नौ हजार जनसभाएं की और लोगों को जनसंख्या विस्फोट से होने वाली समस्या से अवगत कराया। जिससे देश के सभी लोगों ने जनसंख्या नियंत्रण कानून को लाने में अपना समर्थन दिया। यह कानून देश में लागू हो इसको लेकर जंतर-मंतर पर एक धरना प्रदर्शन किया जा रहा है यह धरना प्रदर्शन 26 दिसंबर को होगा। अतः आप सभी लोगों से अनुरोध है कि आप सभी ज्यादा से ज्यादा संख्या में पहुंचकर इस कानून को बनवाने में अपना समर्थन करें।

फरीदाबाद में जनसंख्या नियंत्रण कानून को लेकर निकाला जाएगा तिरंगा मार्च

फरीदाबाद: सुदर्शन राष्ट्र निर्माण संगठन के द्वारा 16 दिसम्बर 2018 को जनसंख्या नियंत्रण कानून को लेकर तिरंगा मार्च निकाला जाएगा । यह कार्यक्रम नगर निगम मुख्यालय एनआईटी फरीदाबाद में दोपहर 11:00 बजे से होगा। बता दे कि यह एक जागरूकता कार्यक्रम होने जा रहा है। अत: सभी आसपास के लोगों और समाजिक संस्थाएं, NGO से अनुरोध है कि आप सब लोग अपनी पूरी टीम के साथ जरूर पहुंचे ताकि सब मिलकर इस जागरूकता अभियान को आगे बढ़ाये।

सुदर्शन राष्ट्र निर्माण संगठन के द्वारा हाथरस में मातृ पितृ पूजन, तुलसी पूजन का आयोजन किया गया

यूपी, हाथरस: आपको बता दे कि हाथरस के सरस्वती शिक्षा सदन , नगला मोती स्कूल में मातृ पितृ पूजन, तुलसी पूजन का आयोजन किया गया। जहां पर प्रधानाचार्य श्री अशोक प्रताप सिंह जी के साथ साथ श्रीमती बैकुंठी देवी भी इस कार्यक्रम शामिल हुई। इस कार्यक्रम में छात्र छात्राओं को माता पिता के आदर- सम्मान करने के बारे बताया गया। इसके साथ ही छात्रों को याद शक्ति बढ़ाने के प्रयोग सिखाये गये। अभिवाक व बच्चो ने सुदर्शन राष्ट्र निर्माण संगठन द्वारा विद्यालयों में किये जा रहे है आयोजनों की प्रशंसा की, और कहा कि इस तरह के आयोजन होने से बच्चों में अपनी संस्कृति प्रति जागरूकता होगी व बच्चों में संस्कारों का सिंचन होगा।

राष्ट्र निर्माण संगठन की राष्ट्रीय बैठक सम्पन्न हुई

noida: दिनांक 02 - 09 -18 दिन रविवार को राष्ट्र निर्माण संगठन की उत्तर भारत के 10 राज्यों की राष्ट्रीय बैठक संपन्न हुई बैठक में संगठन विस्तार व् कार्ययोजना पर विशेष रूप से चर्चा हुई साथ ही साथ जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए क्या रणनीति हो इस पर भी चर्चा हुई तथा सभी राज्यों के लोगो ने अपने राज्य में जनसंख्या नियंत्रण कानून के लिए चल रहे हस्ताक्षर अभियान की जानकारी भी दी | कार्यक्रम में राष्ट्र निर्माण ट्रस्ट के अध्यक्ष श्रीमान सुरेश चव्हाणके भारत बचाओ यात्रा के संयोजक मेजर जनरल एस. पी. सिन्हा जी , सह संयोजक सुभाष जिंदल जी , विजय यादव जी ,विवेकानंद दीक्षित जी , आलोक आर्यवीर व् संजय परदेशी जी भी उपस्थित रहे कार्यक्रम की शुरुवात दीप प्रवज्ज्वलन व् भारत माता की पूजा के साथ हुई मेजर जनरल एस . पी. सिन्हा जी ने अपने सम्बोधन में संगठन में सक्रियता पर जोर देते हुए जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए क्या - क्या कार्य हो इस पर जोर दिया | इसके बाद माननीय सुरेश चव्हाणके जी ने अपने वक्तव्य में संगठन निर्माण कैसे हो और उसमें क्या - क्या सेवा के कार्य हो इस पर अपना मार्गदर्शन प्रदान किया साथ ही साथ उन्होंने संगठन कैसे मजबूत हो क्या कार्ययोजनाएं हो एवं देश के अंतिम व्यक्ति तक संगठन के कार्य कैसे पहुंचे और लोगो को कैसे इस संगठन से जोड़ा जाए तथा देश में वर्तमान में राष्ट्र निर्माण संगठन द्वारा जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए चलाये जा रहे महाअभियान के बारे में भी चर्चा की तथा ये कानून लागू न होने तक इस पर विशेष रूप से कार्य करना है | उन्होंने आगामी कार्य योजनाओं में देश के सभी प्रदेशों व् सभी जिलों तक समितयों के निर्माण हेतु १५ अक्टूबर तक का समय रखा गया है उसके साथ - साथ ही देश के लिए कार्य करने वाले सभी शहीदों व् ऐसे महापुरुषों के सामूहिक श्राद्ध तर्पण पितृ पक्ष में देश के प्रत्येक जिले में करने का निर्णय लिया गया है एवं नवम्बर माह के अंत व् दिसम्बर माह के प्रारम्भ में राष्ट्रीय अधिवेशन हैदराबाद में संभावित है जिस पर सभी राज्य के लोगो सहमति रही | इसी क्रम में राष्ट्रीय व् राज्य के समितयों के कुछ प्रमुख पदाधिकार तय किये गए | राज्य समितियां :- 1. उत्तरांचल राज्य प्रभारी -अमित चौहान- 9411121115 2 झारखंड राज्य प्रभारी मधु सिंह- 9431124203 4.हिमाचल प्रदेश राज्य प्रभारी - बलराम दास जी-9805624558 5. पंजाब राज्य प्रभारी - महेंद्र पाल सिंह -6280252892 , अमन बग्गा जी - 6 . दिल्ली राज्य प्रभारी - मनीष तिवारी - 9013524156 6.राजस्थान राज्य प्रभारी - ओम कसारा जी - 9352132008 7. छत्तीसगढ़ राजेश मेहरा - 6261803682 8. पश्चिम उत्तर प्रदेश ( मेरठ प्रान्त ) राज्य प्रभारी - सुरेन्द्र सिंह - 90450255255 ९. पश्चिम उत्तर प्रदेश ( मेरठ प्रान्त ) सह राज्य प्रभारी - अमरीश गोयल - 7906791671 राष्ट्रीय समितियां 1 . राष्ट्रीय शिक्षा संस्थान प्रमुख - हरिओम तायल - 9354908878 2. मैजिशियन समिति सदस्य - अशोक खरबंदा-9312233631 3 कथा सत्संग - श्याम जी महाराज - 9822371051 4 राष्ट्रीय उद्योग समिति - सुशील सिंह - 9933489625 5 मार्गदर्शक समिति सदस्य - सुरेश गोयल - 9417473840 6 संपर्क प्रभारी ( राजस्थान , हरियाणा ) विजय यादव - 9910689710

राष्ट्र निर्माण, गरुग्राम की बैठक जनसंख्या नियंत्रण कानून को लाने की चर्चा हुई l

GURUGRAM: दिनांक 25/8/018 को अतुल कटारिया चौक पर हनुमान मंदिर के प्रांगड़ में राष्ट्र निर्माण, गरुग्राम की बैठक जनसंख्या नियंत्रण कानून को लाने की चर्चा हुई l जिसमे गुरुग्राम के हर बार्ड में जा जा कर बैठक करने का निर्णय लिया गया l और बहुत ही जल्दी गुरुग्राम शहर की सड़कों पर राष्ट्र निर्माण के बैनर तले एक बिशाल जुलूस की रूप रेखा तैयार करनी है l जिसमें कि माननीय बृजेश तिवारी जी को सूरत नगर, बार्ड 12 का प्रभारी नियुक्त किया गया है l बैठक की रूप रेखा साइंटिस्ट Dr. Ak singh और Mr. Ok मिश्रा जी ने तैयार की l इस बैठक में काफी सारे लोगों ने अपनी अपनी दिलचस्पी और अपनी अपनी राय रखी l जिसमें कि श्री शरद सिंह सोलंकी, अजय कुमार सिंह, Dr. दीक्षित, DR शर्मा, संजय दीक्षित, राम सिंह सिसोदिया व बीजेपी, सरस्वती मंडल की महिला मोर्चा की अध्यक्ष सीमा कुमारी के साथ -साथ बहुत से लोगों ने भाग लिया l जय -हिन्द, जय -भारत l

जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए दरभंगा बिहार में पूर्व सैनिको ने चलाया हस्ताक्षर अभियान

DARBHANGA , BIHAR :

राष्ट्र निर्माण संगठन के तत्वाधान में चल रहे जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए बुलंदशहर के शिकारपुर तहसील में हुई बैठक

BULANDSAHAR U.P.: राष्ट्र निर्माण संगठन के तत्वाधान में चल रहे जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए बुलंदशहर के शिकारपुर तहसील में हुई बैठक में हम दो हमारे दो तो सबके दो इस कानून को बनाने के लिए हस्ताक्षर अभियान की समिति का गठन किया गया व् शिकारपुर तहसील में जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए हर एक गाँव में जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए हस्ताक्षर अभियान समिति का गठन करके हस्ताक्षर करवाएं जायेंगे इस बैठक में राष्ट्र निर्माण संगठन के केन्द्रीय प्रभारी आलोक आर्यवीर व् दिल्ली के राज्य प्रभारी मनीष तिवारी राज्य कार्यकारिणी के सदस्य सुधांशु जी , दीपक दीक्षित जी व् बैठक के समन्वयक श्रीमान अरविन्द जी व् समिति के सभी सदस्य उपस्थित रहे |

लखीमपुरखीरी में समाज कल्याण मंत्री गुलाबो देवी द्वारा हस्ताक्षर अभियान का उद्घाटन

लखीमपुरखीरी: राष्ट्र निर्माण ट्रस्ट के बैनर तले लखीमपुरखीरी में हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। इस अभियान का उद्घाटन उत्तर प्रदेश की समाज कल्याण मंत्री गुलाबो देवी ने लखीमपुरखीरी की विधानसभा मोहम्दी के ग्राम झारा खेमपुर में किया। उन्होंने जनसंख्या नियंत्रण कानून का महत्व लोगों को समझाया। साथ ही लोगों ने इस मुहिम में बढ़-चढ़कर अपना योगदान दिया, और अपने हस्ताक्षर देकर इस कानून का समर्थन किया। इस कार्यक्रम में विधायक श्री लोकेन्द्र प्रताप सिंह जी, मनोज वर्मा जी, श्याम किशोर अवस्थी जी, अंकुर यादव जी, सौरभ गुप्ता जी, दिनेश गुप्ता जी समेत सैकड़ो कार्यकर्ता मौजूद रहे।

ग्राम प्रधानों ने जनसंख्या नियंत्रण कानून पर लगाई मुहर

अहमदनगर: 12 जून देश कि विस्फोटक जनसँख्या पर शीघ्र व प्रभावी नियंत्रण हेतु राष्ट्र निर्माण संस्था द्वारा जनसँख्या नियंत्रण कानून पर महाराष्ट्र प्रान्त के अहमदनगर जनपद के माउली सभागृह में विशाल जनप्रतिनिधि संसद का आयोजन हुआ। जहाँ सभी क्षेत्रीय ग्राम प्रधान एवं जिला परिषद प्रतिनिधि हजारो कि संख्या में अपनी उपस्थिति निभायी। वही राष्ट्र निर्माण ट्रस्ट के संस्थापक एवं मार्गदर्शक और वरिष्ठ पत्रकार श्री सुरेश चव्हाणके जी ने बताया वैसे देश के कानून संसद में बनते है। परंतु जब संसद इतने महाकाय समस्या पर दशकों से मौन हो तो स्थानीय संस्थाओं के जनप्रतिनिधि द्वारा जनसंसद बुला कर कानून को उस में पारित कर राष्ट्रिय जनमानस को संसद तक पहुचाने का ये अभिन्न प्रयास किया गया है। इसके लिए हमने देश में सबसे बड़ी भारत बचाओ यात्रा पूर्ण कर देश भर में जनजागृति किया। साथ ही 70 दिनों कि 20 हजार किलोमीटर कि इस यात्रा में करोडों लोगों ने हस्ताक्षर कर कानून लाने का समर्थन दिया है। बाद में राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके ने माउली सभागृह में पंचायत संसद को सम्बोधित करते हुए कहा कि देश में अनियंत्रित जन्मदर और अवैध घुसपैठ के कारण देश मे उत्पन्न जनसँख्या असंतुलन देश की सम्प्रभुता के लिए अत्यंत खतरनाक और चिंताजनक है। उन्होंने आगे कहा कि इस असंतुलन के कारण कई राज्यों में कभी बहुसंख्यक रहे हिन्दू अल्पसंख्यक हो चुके हैं। जहां जहां हिन्दू अल्पसंख्यक हुए हैं वहां विभाजनकारी तत्व मज़बूत हुए हैं और देश को बांटने की कोशिशें की हैं। 1947 में भारत का विभाजन धर्म के आधार पर ही हुआ था लेकिन आज एक बार फिर से धर्म के आधार पर देश को विभाजित करने की मांग उठने लगी है। उन्होंने जनसँख्या असंतुलन को इसका जिम्मेदार बताते हुए कहा कि कठोर और प्रभावी जनसँख्या नियंत्रण कानून शीघ्र बनाकर इसे लागू नहीं किया गया तो जनसँख्या असंतुलन के कारण पूरे देश मे हिन्दू अल्पसंख्यक हो जाएंगे। 2029 के बाद कोई हिन्दू देश का प्रधानमंत्री नहीं बन पाएगा। देश के टुकड़े करने वाले तत्व मज़बूत होंगे। आज ही यह स्थिति है कि भारत तेरे टुकड़े होंगे का नारा देने वाले द्रोहियों का तथाकथित सेक्युलर पार्टियां और मीडिया समर्थन करतीं हैं। देश तोड़ने वाले नारे को अभिव्यक्ति की आज़ादी के नाम पर सही बताया जाता है। और हम दो हमारे दो तो सबके दो के समता मूलक नारे को सांप्रदायिक कहा जाता है। उन्होंने आगे कहा कि इतिहास गवाह है कि जब जब हिन्दू घटा है तब तब देश कमज़ोर हुआ है और इसे विभाजन का अभिशाप झेलना पड़ा है।लेकिन अब किसी भी कीमत पर देश को बंटने नहीं देंगे। देश की एक इंच भूमि भी अब देश से अलग नहीं होने देंगे चाहे इसके लिए जो हो जाये। उन्होंने कहा कि यह देश तभी तक सुरक्षित और धर्मनिरपेक्ष है जब तक हिन्दू बहुसंख्यक है। उन्होंने कहा कि दिल्ली की गद्दी पर कोई सुल्तान न बैठ सके इसके लिए देश में जनसँख्या का मौलिक अनुपात बने रहना चाहिए। उन्होंने लोगों को आगाह करते हुए कहा आज़ादी से पहले पाकिस्तान में भी बड़े बड़े मन्दिर और हिंदुओं के व्यावसायिक प्रतिष्ठान थे लेकिन आज उनपर हिंदुओं का कब्ज़ा नहीं है। उन्होंने कहा कि जनसँख्या नियंत्रण कानून देश और धर्म को बचाने की अंतिम लड़ाई है। उन्होंने कहा कि देश में नरेंद्र मोदी की सरकार है और इस समय देश का माहौल भी इस कानून के निर्माण के अनुकूल है। इसलिए इस समय इसके लिए सबको भरपूर प्रयास करना चाहिए। उन्होंने सभी सरपंच लोगों से अनुरोध किया अब आपकी बारी है देश बचाने को। देश के कानून बनने में ग्राम पंचायत का अहम् योगदान होता है। जिससे आप अपने क्षेत्रों में इस अभियान के लिए लोगों को जागरूक करे। साथ ही कैम्प लगाकर हस्ताक्षर अभियान चलाए। श्री जी ने लाखों की संख्या में जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए हस्ताक्षर भेजने की अपील की।

"शामली जनपद की यही पुकार" "चव्हाणके जी आप संघर्ष करे हम तुम्हारे साथ है"

शामली,: शामली में राष्ट्र निर्माण संगठन के बैनर तले जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाने के लिए कैम्प लगाकर हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। जहाँ लोगों ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया। शामलीवाशी अपने साथ-साथ अपने मिलने-जुलने वालो को साथ ले कर अभियान में भागीदारी निभायी। बताते चले कि शामली में सुबह आठ बजे से शाम सात तक अभियान चलाया गया जहाँ लोगों ने भारी उत्साह के साथ हस्ताक्षर किये और पुरे तन मन से इस अभियान को आगे बढाने का संकलप लिया। कार्यक्रम के संयोजक धर्मेन्द्र राणा जी का अहम् योगदान रहा। वही धर्मेंद्र राणा जी ने जनसँख्या नियंत्रण कानून के विशेषताओं पर प्रकाश डालते हुए बताया कि कानून के बिना देश की एकता, अखंडता और सम्प्रभुता की रक्षा सम्भव नहीं है। देश के भीतर जनसँख्या असंतुलन के कारण अब एक और विभाजन की मांग सामने आने लगी है। यह देश तब तक ही धर्मनेपक्ष बना रह सकता है जब तक कि हिन्दू बहुसंख्यक हैं। लेकिन देश मे असंतुलित जन्मदर और अवैध घुसपैठ के कारण कई राज्यों में हिन्दू अल्पसंख्यक हो चुके हैं जो देश की अखंडता के लिए अत्यंत घातक है। अगर बढ़ती असन्तुलित जनसंख्या के कारण अपने ही देश मे बहुसँख्यक हिन्दू अल्पसंख्यक हो जाये तो इससे बड़ी विडंबना क्या होगी??? संगठन के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी कहना है कि यह यात्रा देश, धर्म और संस्कृति को बचाने का अंतिम अवसर है। अगर आज यह कानून हम नहीं बनवा पाए तो 2029 के बाद भारत का प्रधानमंत्री कोई हिन्दू नहीं बन पाएगा। इस बात से कोई इनकार नहीं कर सकता कि एकसमान जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाकर ही अब राष्ट्र की अखंडता और सम्प्रभुता की सुरक्षा सुनिश्चित हो सकेगी। इसके लिए उन्होंने लोगों से लाखों की संख्या में हस्ताक्षरित ज्ञापन सरकार को देने की अपील की। जिससे हस्ताक्षर मुहिम को सफल बनायें।।।

मुरैना में भव्य हस्ताक्षर अभियान का आयोजन, सैकड़ों लोगों ने किया समर्थन

मुरैना: "हम दो हमारे दो तो सबके दो" ये नारा सबके लिए लागू हो तभी देश सुरक्षित होगा। ये नारा मुरैना जनपद के पोरसा तहसील वासियो में गूंजता रहा। आकाश वर्मा जी के नेतृत्व में राष्ट्र निर्माण संगठन के बैनर तले जनसँख्या नियंत्रण कानून पास हो इस मौके पर हस्ताक्षर कैम्प का आयोजन हुआ, लोगो ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया। महिलाओं सहित सैकड़ो लोग इस मुहिम को सफल बनाने का संकल्प लिया। वही आकाश वर्मा जी ने जनसँख्या नियंत्रण कानून के विशेषताओं पर प्रकाश डालते हुए बताया कि कानून के बिना देश की एकता, अखंडता और सम्प्रभुता की रक्षा सम्भव नहीं है। देश के भीतर जनसँख्या असंतुलन के कारण अब एक और विभाजन की मांग सामने आने लगी है। यह देश तब तक ही धर्मनेपक्ष बना रह सकता है जब तक कि हिन्दू बहुसंख्यक हैं। लेकिन देश मे असंतुलित जन्मदर और अवैध घुसपैठ के कारण कई राज्यों में हिन्दू अल्पसंख्यक हो चुके हैं जो देश की अखंडता के लिए अत्यंत घातक है। अगर बढ़ती असन्तुलित जनसंख्या के कारण अपने ही देश मे बहुसँख्यक हिन्दू अल्पसंख्यक हो जाये तो इससे बड़ी विडंबना क्या होगी??? संगठन के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी कहना है कि यह यात्रा देश, धर्म और संस्कृति को बचाने का अंतिम अवसर है। अगर आज यह कानून हम नहीं बनवा पाए तो 2029 के बाद भारत का प्रधानमंत्री कोई हिन्दू नहीं बन पाएगा। इस बात से कोई इनकार नहीं कर सकता कि एकसमान जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाकर ही अब राष्ट्र की अखंडता और सम्प्रभुता की सुरक्षा सुनिश्चित हो सकेगी। इसके लिए उन्होंने लोगों से लाखों की संख्या में हस्ताक्षरित ज्ञापन सरकार को देने की अपील की। जिससे हस्ताक्षर मुहिम को सफल बनायें।।।

शामली हस्ताक्षर अभियान में लोगों ने बढ़-चढ़ कर निभाई भागीदारी

शामली,: जनसंख्या नियंत्रण कानून के लिए हम दो हमारे दो तो सबके दो नारे कि मुहिम मे राष्ट्र निर्माण संगठन द्वारा चलाये गये हस्ताक्षर अभियान को आगे बढ़ाते हुए जनपद शामली में सहारनपुर रोड गुरुद्वारा के सामने कैम्प लगाया गया, इसके साथ ही शामली शहर का दिल कहे जाने वाले सुभाष चौक पर कैम्प आयोजित हुआ, जिसमे आम आदमियों के अलावा और भी कई संघठन इस अभियान में आगे आये और अपना भारी समर्थन दिया लोगो में इस अभियान को लेकर भारी उत्साह हे कुछ मुस्लिम भाई और बहने भी आगे आयी और अपना हस्ताक्षर कर के अपना पूर्ण समर्थन दिया कैम्प में 450 लोगो ने अपन हस्ताक्षर कर के इस अभियान को आगे बढ़ाया और कुछ हिन्दू संघठन जैसे बजरंग दल ने अपना पूर्ण समर्थन दिया और अपने विचार भी व्यक्त किये। जहाँ आयोजक धर्मेंद्र राणा जी अतुलनीय योगदान रहा, देश के भीतर जनसँख्या असंतुलन के कारण अब एक और विभाजन की मांग सामने आने लगी है। यह देश तब तक ही धर्मनेपक्ष बना रह सकता है जब तक कि हिन्दू बहुसंख्यक हैं। लेकिन देश मे असंतुलित जन्मदर और अवैध घुसपैठ के कारण कई राज्यों में हिन्दू अल्पसंख्यक हो चुके हैं जो देश की अखंडता के लिए अत्यंत घातक है। अगर बढ़ती असन्तुलित जनसंख्या के कारण अपने ही देश मे बहुसँख्यक हिन्दू अल्पसंख्यक हो जाये तो इससे बड़ी विडंबना क्या होगी??? संगठन के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी कहना है कि यह यात्रा देश, धर्म और संस्कृति को बचाने का अंतिम अवसर है। अगर आज यह कानून हम नहीं बनवा पाए तो 2029 के बाद भारत का प्रधानमंत्री कोई हिन्दू नहीं बन पाएगा। इस बात से कोई इनकार नहीं कर सकता कि एकसमान जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाकर ही अब राष्ट्र की अखंडता और सम्प्रभुता की सुरक्षा सुनिश्चित हो सकेगी। इसके लिए उन्होंने लोगों से लाखों की संख्या में हस्ताक्षरित ज्ञापन सरकार को देने की अपील की। जिससे हस्ताक्षर मुहिम को सफल बनायें।।।

सिख समुदाय ने किया कानून का समर्थन,दिल्ली के सभी गुरुद्वारों में हस्ताक्षर कैम्प का शुभारम्भ

दिल्ली,: भारत बचाओ के द्वितीय चरण में 10 करोड़ हस्ताक्षर का लक्ष्य पूर्ण करने के लिए सभी राज्यो और जनपदों में हस्ताक्षर कैम्प का आयोजन किये जा रहे है। जहा सभी राष्ट्र निर्माण संगठन के विशिष्ट कार्यकर्त्ता अपनी जिम्मदारियों को सम्हाल रहे है। वही दिल्ली के सुल्तानपुरी इ-6 ब्लॉक के गुरुद्वारा श्री गुरु सिंह सभा के प्रांगण में हस्ताक्षर अभियान का उद्घाटन हुआ जिसमे विशिष्ट अतिथि के रूप में श्री सरदार मल्कियत सिंह जी ने अपने हस्ताक्षर कर शुरुआत किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता मुख्य अतिथि के रूप में श्री आशुतोष अभिलेख जी ने निभाई। उन्होंने जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए अनिवार्य रूप से लागू होने के महत्त्व पर प्रकाश डाला। साथ ही उपस्थिति सैकड़ो प्रतिभागियों को संकल्प पूर्वक अधिक से अधिक लोगो को इस अभियान में शामिल होने की अपील किया। साथ ही 70 दिवसीय 20 हजार किलोमीटर की निकली गई यात्रा के बारे में अनुभव बताये। कार्यक्रम के संयोजक सरदार पप्पू सिंह, अध्यक्ष सिख लीगर वेलफेयर सो., सरदार गुरुदीप सिंह, सरदार हरिदयाल सिंह, सरदार सुखविंदर सिंह, सरदार पप्पू सिंह, सरदार साधु सिंह, सरदार जानी सिंह, सरदार पहलवान सिंह, सरदारनी हरविंद सिंह, सरदारनी मुनिया कौर, सपना कौर, वैजयंती कौर, गुड्डिया कौर, सपना कौर, सरदार निहाल सिंह, सरदार सोहेल सिंह, एवं अन्य कई सिख समुदाय के गणमान्य बधु लोग सम्लित रहे।

'हम दो हमारे दो तो सबके दो' नारे के साथ कराये हस्ताक्षर, कैम्प लगाकर लोगों को किया जागरुक

Delhi: जनसंख्या नियंत्रण कानून के लिए दिल्ली के द्वारका सेक्टर 5 में कैम्प लगाकर हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। कार्यक्रम की संयोजक शांता तनेजा जी ने द्वारका में और भी कई जगह राष्ट्र निर्माण संगठन के बैनर तले हस्ताक्षर अभियान का कैम्प लगाकर मुहिम को आगे बढ़ाने का प्रयास किया है। पतंजली के योग विस्तारक राजकुमार जी मुख्य अतिथि के रुप में इस कैम्प का हिस्सा बने। राजकुमार जी ने मुहिम का समर्थन कर लोगों को जागरुक किया। वहीं शांता तनेजा जी ने कहा कि 70 दिनों की यात्रा में राष्ट्र निर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके जी ने ‘’हम दो हमारे दो तो सबके दो’’ महा अभियान में लोगों का समर्थन मांगा है। साथ ही उन्होंने कहा अपने राष्ट्र और हिंदुत्व को बचाने के लिए, देश को गरीबी से बचाने के लिए, देश को समृद्धशाली बनाने के लिए इस कानून को लाना बहुत जरुरी हैं। इस मौके पर स्नेह लता जी, अशोक जी, लक्ष्मी नारायण जी आदि लोग मौजूद रहे।

कांगड़ा के हस्ताक्षर कैम्प में "हम दो हमारे दो तो सबके दो" के नारे गूंजे

कांगड़ा: "हम दो हमारे दो तो सबके दो" ये नारा सबके लिए लागू हो तभी देश सुरक्षित होगा। ये नारा कांगड़ा जनपद के जयसिंहपुर तहसील के दिभ ग्रामीण वासियो में गूंजता रहा। कल्याण चंद धीमान ने नेतृत्व में राष्ट्र निर्माण संगठन के बैनर तले जनसँख्या नियंत्रण कानून पास हो इस मौके पर हस्ताक्षर कैम्प का आयोजन हुआ, लोगो ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया। महिलाओं सहित सैकड़ो लोग इस मुहिम को सफल बनाने का संकल्प लिया। वही धीमान जी ने जनसँख्या नियंत्रण कानून के विशेषताओं पर प्रकाश डालते हुए बताया कि कानून के बिना देश की एकता, अखंडता और सम्प्रभुता की रक्षा सम्भव नहीं है। देश के भीतर जनसँख्या असंतुलन के कारण अब एक और विभाजन की मांग सामने आने लगी है। यह देश तब तक ही धर्मनेपक्ष बना रह सकता है जब तक कि हिन्दू बहुसंख्यक हैं। लेकिन देश मे असंतुलित जन्मदर और अवैध घुसपैठ के कारण कई राज्यों में हिन्दू अल्पसंख्यक हो चुके हैं जो देश की अखंडता के लिए अत्यंत घातक है। अगर बढ़ती असन्तुलित जनसंख्या के कारण अपने ही देश मे बहुसँख्यक हिन्दू अल्पसंख्यक हो जाये तो इससे बड़ी विडंबना क्या होगी??? संगठन के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी कहना है कि यह यात्रा देश, धर्म और संस्कृति को बचाने का अंतिम अवसर है। अगर आज यह कानून हम नहीं बनवा पाए तो 2029 के बाद भारत का प्रधानमंत्री कोई हिन्दू नहीं बन पाएगा। इस बात से कोई इनकार नहीं कर सकता कि एकसमान जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाकर ही अब राष्ट्र की अखंडता और सम्प्रभुता की सुरक्षा सुनिश्चित हो सकेगी। इसके लिए उन्होंने लोगों से लाखों की संख्या में हस्ताक्षरित ज्ञापन सरकार को देने की अपील की। जिससे हस्ताक्षर मुहिम को सफल बनायें।।।

हस्ताक्षर अभियान के समर्थन में जय बाबा भक्तों का उमड़ रहा जनसैलाब

औरंगाबाद:: जनसंख्या नियंत्रण कानून लाने के लिए हस्ताक्षर अभियान देश भर के राज्यो एवं जनपदों में कैम्प चलाये जा रहे है, जहाँ समर्थन में सैकड़ो लोग अपनी भागीदारी निभा रहे है । इसी क्रम में औरंगाबाद के वेरुल में श्री शांतिगिरी जी महाराज के सानिध्य में जय बाबा जी भक्त परिवार की तरफ से हस्ताक्षर अभियान चलाया गया जहाँ इस अभियान का समर्थन करने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ रही है. महिला पुरुष वह बच्चे भी इस हस्ताक्षर अभियान में अपने हस्ताक्षर करके अपने आप को सौभाग्यशाली मान रहे हैं .वही इस अभियान के दौरान हमारे सुदर्शन चैनल के संवाददाता ने लोगो से बातचीत की, लोगों ने कहा कि अगर हिंदुस्तान को पाकिस्तान नहीं बनने देना है तो इस अभियान में पूरे देशवासियों को एक साथ आना होगा. जनसँख्या नियंत्रण कानून के बिना देश की एकता, अखंडता और सम्प्रभुता की रक्षा सम्भव नहीं है। देश के भीतर जनसँख्या असंतुलन के कारण अब एक और विभाजन की मांग सामने आने लगी है। यह देश तब तक ही धर्मनेपक्ष बना रह सकता है जब तक कि हिन्दू बहुसंख्यक हैं। लेकिन देश मे असंतुलित जन्मदर और अवैध घुसपैठ के कारण कई राज्यों में हिन्दू अल्पसंख्यक हो चुके हैं जो देश की अखंडता के लिए अत्यंत घातक है। अगर बढ़ती असन्तुलित जनसंख्या के कारण अपने ही देश मे बहुसँख्यक हिन्दू अल्पसंख्यक हो जाये तो इससे बड़ी विडंबना क्या होगी??? संगठन के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी कहना है कि यह यात्रा देश, धर्म और संस्कृति को बचाने का अंतिम अवसर है। अगर आज यह कानून हम नहीं बनवा पाए तो 2029 के बाद भारत का प्रधानमंत्री कोई हिन्दू नहीं बन पाएगा। इस बात से कोई इनकार नहीं कर सकता कि एकसमान जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाकर ही अब राष्ट्र की अखंडता और सम्प्रभुता की सुरक्षा सुनिश्चित हो सकेगी। इसके लिए उन्होंने लोगों से लाखों की संख्या में हस्ताक्षरित ज्ञापन सरकार को देने की अपील की। जिससे हस्ताक्षर मुहिम को सफल बनायें।।।

देहरादून में जगह-जगह हस्ताक्षर कैम्प का आयोजन लोगों ने जमकर किया समर्थन

देहरादून: देश को बचाने के लिए साथ ही कठोर जनसँख्या नियंत्रण कानून लागू करने के लिए द्वितीय चरण में देश भर में कैम्प लगाकर हस्ताक्षर अभियान चलाया जा रहा है। जहाँ विभिन्न संगठनों एवं आमजनमानस द्वारा समर्थन मिल रहा है। राष्ट्र निर्माण संगठन के बैनर तले जनसँख्या नियंत्रण कानून लाने को लेकर "हम दो हमारे दो तो सबके दो" कि मुहिम में कैम्प लगाकर हस्ताक्षर अभियान प्रेमनगर, वसंत विहार ,आईएसबीटी के बाद आज देहरादून के दिल कहे जाने वाले घण्टाघर में में चलाया गया। कार्यक्रम के विशिष्ट सहयोगी कृष्ण कुमार जी के नतृत्व में हस्ताक्षर अभियान को गति प्रदान की गई। जहां बजरंगदल विभाग संयोजक विकास कुमार वर्मा जी द्वारा हस्ताक्षर कर बजरंगदल की और से इस कानून के लिए सम्पूर्ण समर्थन देने की घोषणा की वही घण्टाघर के व्यापरियो ने भी इस मुहिम को सराहा ओर जल्द से जल्द केंद्र सरकार से इस कानून को पारित करने की मांग की। जनसँख्या नियंत्रण कानून के बिना देश की एकता, अखंडता और सम्प्रभुता की रक्षा सम्भव नहीं है। देश के भीतर जनसँख्या असंतुलन के कारण अब एक और विभाजन की मांग सामने आने लगी है। यह देश तब तक ही धर्मनेपक्ष बना रह सकता है जब तक कि हिन्दू बहुसंख्यक हैं। लेकिन देश मे असंतुलित जन्मदर और अवैध घुसपैठ के कारण कई राज्यों में हिन्दू अल्पसंख्यक हो चुके हैं जो देश की अखंडता के लिए अत्यंत घातक है। अगर बढ़ती असन्तुलित जनसंख्या के कारण अपने ही देश मे बहुसँख्यक हिन्दू अल्पसंख्यक हो जाये तो इससे बड़ी विडंबना क्या होगी??? संगठन के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी कहना है कि यह यात्रा देश, धर्म और संस्कृति को बचाने का अंतिम अवसर है। अगर आज यह कानून हम नहीं बनवा पाए तो 2029 के बाद भारत का प्रधानमंत्री कोई हिन्दू नहीं बन पाएगा। इस बात से कोई इनकार नहीं कर सकता कि एकसमान जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाकर ही अब राष्ट्र की अखंडता और सम्प्रभुता की सुरक्षा सुनिश्चित हो सकेगी। इसके लिए उन्होंने लोगों से लाखों की संख्या में हस्ताक्षरित ज्ञापन सरकार को देने की अपील की। जिससे हस्ताक्षर मुहिम को सफल बनायें।।।

देश को बचाने का अंतिम प्रयास ‘जनसंख्या नियंत्रण कानून’

दिल्ली: देश मे एक प्रभावी और कठोर जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए द्वितीय चरण में देश भर में कैम्प लगाकर हस्ताक्षर अभियान चलाया जा रहा है। जहाँ विभिन्न संगठनों एवं आमजनमानस द्वारा समर्थन मिल रहा है। राष्ट्र निर्माण संगठन के बैनर तले जनसँख्या नियंत्रण कानून लाने को लेकर दिल्ली के कनॉट प्लेस में कैम्प लगाकर हस्ताक्षर अभियान चलाया गया जहाँ लोगो ने हस्ताक्षर कर मुहिम में समर्थन दिया। आप भी अपने क्षेत्र में हस्ताक्षर कैम्प लगाकर इस मुहिम में भागीदारी निभा सकते है। देश हित में वालिंटियर बन कर समयदान करे। जनसँख्या नियंत्रण कानून के बिना देश की एकता, अखंडता और सम्प्रभुता की रक्षा सम्भव नहीं है। देश के भीतर जनसँख्या असंतुलन के कारण अब एक और विभाजन की मांग सामने आने लगी है। यह देश तब तक ही धर्मनेपक्ष बना रह सकता है जब तक कि हिन्दू बहुसंख्यक हैं। लेकिन देश मे असंतुलित जन्मदर और अवैध घुसपैठ के कारण कई राज्यों में हिन्दू अल्पसंख्यक हो चुके हैं जो देश की अखंडता के लिए अत्यंत घातक है। अगर बढ़ती असन्तुलित जनसंख्या के कारण अपने ही देश मे बहुसँख्यक हिन्दू अल्पसंख्यक हो जाये तो इससे बड़ी विडंबना क्या होगी??? संगठन के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी कहना है कि यह यात्रा देश, धर्म और संस्कृति को बचाने का अंतिम अवसर है। अगर आज यह कानून हम नहीं बनवा पाए तो 2029 के बाद भारत का प्रधानमंत्री कोई हिन्दू नहीं बन पाएगा। इस बात से कोई इनकार नहीं कर सकता कि एकसमान जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाकर ही अब राष्ट्र की अखंडता और सम्प्रभुता की सुरक्षा सुनिश्चित हो सकेगी। इसके लिए उन्होंने लोगों से लाखों की संख्या में हस्ताक्षरित ज्ञापन सरकार को देने की अपील की। जिससे हस्ताक्षर मुहिम को सफल बनायें।।।

ग्राम पंचायत जन प्रतिनिधि संसद

नोएडा: ग्राम पंचायत जन प्रतिनिधि संसद राष्ट्र निर्माण संगठन देश की सभी जनपदों में ग्राम पंचायत जन प्रतिनिधि संसद कि सभाएं आयोजित कि जा रही है। जिसमे आप अपनी सहभागिता निभा सकते है। विस्फोटक जनसँख्या पर शीघ्र व प्रभावी नियंत्रण हेतु "जनसँख्या नियंत्रण कानून" के लिए राष्ट्र निर्माण संस्था द्वारा संचालित अभियान को देश के हज़ारों ग्राम सभाओं ने समर्थन दिया है। वैसे देश के कानून संसद में बनते है। परंतु जब संसद इतने महाकाय समस्या पर दशकों से मौन हो तो स्थानीय संस्थाओं के जन प्रतिनिधी द्वारा जन संसद बुला कर कानून को उस में पारित कर राष्ट्रीय जनमानस को सरकार तक पहुँचाने का हमने प्रयास किया है। इसी क्रम में आपके जनपद / जिला केंद्र में यह आयोजन किया जा रहा है। राष्ट्र निर्माण ट्रस्ट के संस्थापक एवं मार्गदर्शक और वरिष्ठ पत्रकार सुरेश चव्हाणके जी इस के लिए देश की सबसे बड़ी भारत बचाओ यात्रा पूर्ण कर चुके है। 70 दिनों की 20 हजार किलोमीटर की इस यात्रा में करोड़ों लोगों ने हस्ताक्षर कर अपना समर्थन दिया है। अब जनता के प्रतिनिधियों कि बारी है। आशा है देश को बचाने के इस अंतिम अवसर पर आप इस अभियान में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करेंगे।

हस्ताक्षर अभियान की मुहिम में अपनी भागीदारी निभाए और देश को पाकिस्तान बनने से बचाये

नोएडा: "हम दो हमारे दो तो सबके दो" क्या आपने जनसँख्या नियंत्रण कानून के समर्थन में हस्ताक्षर अभियान में भाग लिया यदि नहीं तो आज ही अपने नजदीकी हस्ताक्षर कैम्प में जाये और इस मुहिम का समर्थन करे। हिंदुस्तान में बढ़ती आबादी और जनसँख्या नियंत्रण के लिए राष्ट्र निर्माण द्वारा ये विशाल अभियान चलाया जा रहा है। जिसमे देश भर के लोग इस मुहिम का समर्थन कर रहे है। हिंदुस्तान को पाकिस्तान बनने से रोकने के लिए आज अपना हस्ताक्षर कर कानून को पास कराने में मदद करे। व्यक्ति , परिवार , समाज के सशक्तिकरण और देश के संपूर्ण विकास के लिए इस कानून की आवश्यकता है। यदि अनियंत्रित रूप से जनसंख्या विस्फोट जारी रहे तो कोई भी समाज और देश चाहे जितना विकास कर ले , उसकी बदहाली दूर नहीं हो पाएगी । अनियंत्रित जनसंख्या वृद्धि का गरीबी, बेरोजगारी, अशिक्षा और पारिस्थितिक संकट से अन्योन्याश्रय संबंध है।

राष्ट्र निर्माण संगठन के बैनर तले रोहणी में चलाया गया हस्ताक्षर अभियान

दिल्ली : दिल्ली के रोहणी सेक्टर 7 में राष्ट्र निर्माण संगठन के बैनर तले जनसंख्या नियंत्रण कानून को लेकर कैम्प लगाकर हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। जहां सैकड़ो की संख्या में लोगों ने भाग लिया। अपने हस्ताक्षर कर अभियान का समर्थन किया। इस कार्यक्रम में संयोजक प्रेम गर्ग जी, सुरेंद्र अग्रवाल जी आदि लोगों का अमूल्य योगदान रहा। उन्होंने इस कानून के बारे में लोगों को जागरूक करते हुए जनसँख्या नियंत्रण कानून की बारीकियों को समझया।

हस्ताक्षर अभियान को देहरादून की जनता का भारी संख्या में मिल रहा समर्थन

देहरादून: देहरादून के प्रेम नगर बाजार में राष्ट्र निर्माण संगठन के बैनर तले जनसंख्या नियंत्रण कानून लाने के लिए हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। "हम दो हमारे दो तो सबके दो" के नारे के साथ लोगों ने इस मुहिम का समर्थन किया। आपको बता दें कि देहरादून में और भी कई जगहों पर यह अभियान चलाया जा रहा हैं। 28 मई को उत्तराखंड़ में हस्ताक्षर अभियान की शुरुआत हुई है। यह दूसरी कैनोपी देहरादून के प्रेम नगर में लगाई गई है। आप भी इस मुहिम के भागीदार बने। अपने समय को दान कर इस मुहिम को आगे बढ़ाए।

मोदीनगर में चलाया गया हस्ताक्षर अभियान, नगर वासियों ने जमकर किया समर्थन

मोदीनगर: मोदीनगर में राष्ट्र निर्माण संगठन की तरफ से जनसंख्या नियंत्रण कानून लाने को लेकर कैम्प लगाकर हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। इस कैम्प में मोदीनगर वासियों ने अपनी विशेष भूमिका निभायी। इस कार्यक्रम में विधायक डा. मंजू शिवाच जी , नीरज त्यागी जी सांसद प्रतिनिधि, दिनेश सिंघल जी जिला महामंत्री, संयोजक श्री सोहनलाल त्यागी जी, संचालक महेश ताल जी, साधना शर्मा जी, बबिता शर्मा जी, नीरज कौशिक जी भारत स्वाभिमान, प्रवीण जी, वीरेन्द्र त्यागी, सहित सैकड़ों महानुभावों ने शिरकत किया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप संगठन के वरिष्ठ प्रभारी श्री आशुतोष अभिलेख जी ने हस्ताक्षर अभियान में विशेषताओं और जनसंख्या नियंत्रण कानून की आवश्यकताओं पर प्रकाश डाला।

हर्ष विहार में हस्ताक्षर अभियान समिति का गठन, "हम दो हमारे दो तो सबके दो" नारे के साथ मुहिम को मिला समर्थन...

दिल्ली : दिल्ली के हर्ष विहार में राष्ट्रनिर्माण के बैनर तले जनसँख्या नियंत्रण कानून लाने के लिए कैम्प लगाकर हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। जहां लोगों ने "हम दो हमारे दो तो सबके दो" के नारे लगाते हुए अपने हस्ताक्षर देकर मुहिम का समर्थन किया। कैम्प के संयोजक रवि मालिक जी ने अपना अमूल्य समय दान देकर कार्यक्रम को सफल बनाया। इस दौरान राष्ट्र निर्माण संगठन के तत्वाधान में चलाये जा रहे हस्ताक्षर अभियान में समिति का गठन भी किया गया। इस मौके पर संगठन के केन्द्रीय प्रभारी आलोक आर्यवीर जी, दिल्ली के राज्य प्रभारी मनीष त्रिवारी जी, और राज्य कार्यकारिणी के सदस्य सुधांशु जी, आमित जी, दीपक दीक्षित जी आदि लोग मौजूद रहे।

कृष्णापुरी में जनसँख्या नियंत्रण कानून लाने को लेकर चलाया गया हस्ताक्षर अभियान

मुज़फ्फरनगर: मुज़फ्फरनगर के कृष्णापुरी में जनसँख्या नियंत्रण कानून लाने को लेकर राष्ट्र निर्माण संगठन के बैनर तले कैम्प लगाकर हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। जहाँ सैकड़ो की संख्या में लोगों ने अपनी भागीदारी निभायी। हर जगह से इस मुहिम को समर्थन मिल रहा हैं। इस अभियान का प्रमुख उद्देश्य, समाज और राष्ट्र के विविध सरोकारों के साथ जनसंख्या नियंत्रण के लिए कानून बनाने हेतु सरकार को सहमत करना है। आप भी इस मुहिम के भागीदार बने। अपने समय को दान कर इस मुहिम को आगे बढ़ाए।

देहरादून में वित्त मंत्री प्रकाशपंत जी द्वारा फीता काटकर हस्ताक्षर कैम्प का हुआ उद्घाटन

देहरादून : उत्त्तराखंड की राजधानी देहरादून के एक होटल में जनसँख्या नियंत्रण कानून को लाने के लिए प्रथम हस्ताक्षर कैम्प का उद्घाटन किया गया। वर्तमान वित्त मंत्री प्रकाशपंत जी ने फीता काटकर इसका उद्घाटन किया। भाजपा के वरिष्ठ नेता जोगिन्दर सिंह पुंडीर और बजरंग दल के कई कार्यकर्ताओं का सराहनीय प्रयास रहा। कार्यकर्ताओं ने फूलों का गुलदस्ता देकर मंत्री जी का स्वागत किया। वहीं पन्त जी ने जनसँख्या नियंत्रण कानून को अत्यंत महत्त्वपूर्ण बताते हुए लागू होना जरूरी बताया। साथ ही आम जनता को इस अभियान में ज्यादा से ज्यादा भागीदारी निभाने का आहवान किया।

नांदेड में चलाया गया हस्ताक्षर अभियान, लोगों ने काफी उत्साह के साथ किया समर्थन

नांदेड: महाराष्ट्र के नांदेड में राष्ट्र निर्माण के बैनर तले जनसंख्या नियंत्रण कानून लाने को लेकर कैम्प लगाकर हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। जहां काफी लोगों ने हस्ताक्षर कर अपना समर्थन दिया। इस कानून के परित होने को लेकर नांदेड वासी काफी उत्साहित दिखे। वहीं कार्यक्रम के संयोजक विनोद जी ने अपना समय दान देकर इस मुहिम को आगे बढ़ाया और जनसँख्या नियंत्रण कानून के हित के बारे में समझाकर लोगों को जागरूक किया।

हिन्दू हृदय सम्राट स्वतंत्रवीर सावरकर जी को शत् शत् नमन, हिंदी भवन गाज़ियाबाद में संकल्पसभा का आयोजन

गाज़ियाबाद : राष्ट्र चेतना के जाग्रत ज्वालामुखी हिन्दू हृदय सम्राट स्वतंत्रवीर विनायक दामोदर सावरकर जी के जन्मदिवस की 136 वीं वर्षगांठ पर हिंदी भवन गाज़ियाबाद में संकल्पसभा का आयोजन किया गया। जहाँ राष्ट्र निर्माण संगठन के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी मुख्य वक्ता के रूप में संकल्पसभा को संबोधित करेगे। सावरकर जी भारतीय स्वतन्त्रता आन्दोलन के अग्रिम पंक्ति के सेनानी और प्रखर राष्ट्रवादी नेता थे। उन्हें प्रायः स्वातंत्र्यवीर , वीर सावरकर के नाम से सम्बोधित किया जाता है। हिन्दू राष्ट्र की राजनीतिक विचारधारा (हिन्दुत्व) को विकसित करने का बहुत बडा श्रेय सावरकर को जाता है। वे न केवल स्वाधीनता-संग्राम के एक तेजस्वी सेनानी थे, अपितु महान क्रान्तिकारी, चिन्तक, सिद्धहस्त लेखक, कवि, ओजस्वी वक्ता तथा दूरदर्शी राजनेता भी थे। वे एक ऐसे इतिहासकार भी हैं जिन्होंने हिन्दू राष्ट्र की विजय के इतिहास को प्रामाणिक ढंग से लिपिबद्ध किया है। उन्होंने 1857 के प्रथम स्वातंत्र्य समर का सनसनीखेज व खोजपूर्ण इतिहास लिखकर ब्रिटिश शासन को हिला कर रख दिया था। वे एक वकील, राजनीतिज्ञ, कवि, लेखक और नाटककार थे। उन्होंने परिवर्तित हिंदुओं के हिंदू धर्म को वापस लौटाने हेतु सतत प्रयास किये एवं आंदोलन चलाये। सावरकर ने भारत के एक सार के रूप में एक सामूहिक "हिंदू" पहचान बनाने के लिए हिंदुत्व का शब्द गढ़ा। उनके राजनीतिक दर्शन में उपयोगितावाद, तर्कवाद और सकारात्मकवाद, मानवतावाद और सार्वभौमिकता, व्यावहारिकता और यथार्थवाद के तत्व थे। सावरकर एक नास्तिक और एक कट्टर तर्कसंगत व्यक्ति थे जो सभी धर्मों में रूढ़िवादी विश्वासों का विरोध करते थे।

जनसँख्या नियंत्रण कानून लाने के लिए देश भर में चल रहा हस्ताक्षर अभियान, हर जगह लोगों का मिल रहा समर्थन।

दिल्ली : जनसंख्या नियंत्रण कानून को लेकर हस्ताक्षर अभियान देश भर में चलाया जा रहा है। इसी प्रकार हमारे राष्ट्र निर्माण संगठन के बैनर तले नॉर्थ दिल्ली में कैम्प लगाकर हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। जहाँ इस मुहीम में सैकड़ो की संख्या में लोगों ने अहम भागीदारी निभायी। वहीं हिन्दू एकता संघ के कार्यकर्ताओं ने लोगों को जनसँख्या नियंत्रण कानून के हित के बारे जागरूक किया। आपको बता दें कि दिल्ली में और भी कई जगह कैनोपी लगाकर यह अभियान चल रहा है। इस मुहीम का मुख्य उदे्श्य जनसंख्या नियंत्रण कानून को देश में जल्द से जल्द लागू करवाना हैं, ताकि भारत को मिनी पाकिस्तान बनने से रोका जा सके।

रोहणी में महिलाओं ने जनसँख्या नियंत्रण कानून के समर्थन में दिखाया उत्साह

दिल्ली: देश भर में चल रहे हस्ताक्षर अभियान में महिलाओं की भागीदारी अहम् दिख रही है। खासकर यह कानून महिलाओं के पक्ष में ही सराहनीय है। जो उनको कई सामाजिक समस्याओं से गुजरना पड़ता है। जिसके पक्ष में आज राष्ट्र निर्माण ने अभियान को चलाया है की आज महिलाओं की सशक्तिकरण को मजबूत बनाया जा सके। वहीं ये उत्साहित झलक दिल्ली के रोहणी में लगे हस्ताक्षर कैम्प में दिखी। जिस संख्या में महिलाओं ने अपनी भागीदारी निभायी उससे साफ होता जनसँख्या नियंत्रण कानून पास होना जरूरी है। राष्ट्र निर्माण संगठन द्वारा चलाये जा रहे "हम दो हमारे दो तो सबके दो" के नारे को मजबूत बनाने के लिए महिलाओं ने संकल्प लिया। वहीं इस कानून के बारे में अन्य महिलाओं को जागरूक करते हुए जनसँख्या नियंत्रण कानून के बारीकियों को समझया गया। सनातन प्रज्ञा परि्वार के कार्यकर्ताओ द्वारा प्रतिदिन हस्ताक्षर कैम्प लगाकर सैकड़ो लोगों को जागरूक करने का अभियान चलाया जा रहा है, जहां हर जगह लोगों का जबरदस्त समर्थन मिल रहा है। आप भी अपने क्षेत्र में हस्ताक्षर कैम्प लगाकर इस मुहिम से जुड़े। वालिंटियर बन कर देश के लिए समयदान करे।

अशोक ग्रोवर जी लोगों के बने प्रेरणाश्रोत, उम्रदराज होते हुए भी घर - घर जाकर लोगों से कराये हस्ताक्षर

दिल्ली : दिल्ली के द्वरिका में रहने वाले अशोक ग्रोवर जी ने जनसँख्या नियंत्रण कानून को देश में लागू करवाने का महत्व समझाकर लोगों को इसके प्रति जागरुक किया है। आपको बता दें कि ग्रोवर जी ऑर्डिनेंस गन फैक्ट्री में जनरल मैनेजर के पद से सेवानिबृत्त है। ग्रोवर जी नेक व्यक्तित्व, देश सेवा के प्रति निष्ठावान कुशल सामाजिक कार्यकर्ता के लिए जाने जाते है। इन्होंने राष्ट्र निर्माण संगठन के अभियान से प्रेरित होकर हिंदुत्व को बचाने की यज्ञाहुति में आर्थिक सहयोग देते हुए अपने अमूल्य समय को राष्ट्र निर्माण द्वारा चलाये जा रहे हस्ताक्षर अभियान में घर घर जाकर लोगो को जागरूक किया। दरअसल ग्रोवर जी 22 अप्रैल को रामलीला मैदान के विशाल जनसभा में उपस्थिति हुए थे, और वहीं राष्ट्र निर्माण संगठन के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी के उदबोधन से प्रभावित हुए। तभी से ग्रोवर जी ने यह संकल्प लिया कि मैं घर घर जाकर लोगों को जागरूक कर जनसँख्या नियंत्रण कानून लाने के लिए हस्ताक्षर अभियान को आगे बढ़ाने का प्रयत्न करुगा। इसके साथ ही इन्होंने अपनी मेहनत को साकार करते हुए 25 मई को सुदर्शन मुख्यालय में पहुँचकर 550 लोगों के हस्ताक्षर और सात हजार रूपये एकत्रित कर राष्ट्र निर्माण संगठन के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी को प्रदान कर उनके हाथों को मजबूत किया। ताकि हिंदुस्तान पाकिस्तान बनने से बच सके।

उदयपुर में चला हस्ताक्षर अभियान, भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा के मंडल अधिकारी का मिला समर्थन

उदयपुर: जनसंख्या नियंत्रण कानून देश में लाने के लिए उदयपुर के हिरन मंगरी सेक्टर तीन में कैनोपी लगाकर हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। इस अभियान में वार्ड नम्बर 30 के पार्षद श्रीमान प्रवीन जी मारवाड़ी और भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा के मंडल अधिकारी आयूष लोढ़ा, चिराग यादव ने समर्थन किया, और इस कार्य में निखिल मेनारिया,मुकुल मेनारिया,उमेश मेनारिया,लकी मेनारिया,संतोष मेनारिया, निर्मल मेनारिया ने प्रमुख भूमिका निभाई ।

मोदी सरकार के 4 साल हुए पूरे, सुदर्शन न्यूज़ द्वारा कॉन्क्लेव का आयोजन

Delhi: मोदी सरकार के 4 साल पूरे होने पर सुदर्शन न्यूज़ द्वारा कॉन्क्लेव का आयोजन किया गया। दिल्ली के ताज महल होटल में इसका आयोजन हुआ। वहीं राष्ट्र निर्माण संगठन की तरफ से हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। जिसमें लोगों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया। आपको बता दें कि जनसंख्या नियंत्रण कानून को लेकर प्रदेशों के जनपदों में हस्ताक्षर अभियान चलाया जा रहा हैं। जगह – जगह संगठन के कार्यकर्ता कैनोपी लगाकर लोगों के हस्ताक्षर करवा रहे है, और आम जनता का भी इसमें भरपूर समर्थन मिल रहा हैं।

किडनी ट्रांसप्लांट होने के बावजूद हस्ताक्षर अभियान से जुड़े सत्यवीर पवार, ताकि हिंदुस्तान न बन जाए पाकिस्तान...

नरेला (दिल्ली): भारत को मिनी पाकिस्तान बनने से बचाने के लिए दिल्ली के नरेला निवासी डीडीए में काम करने वाले सत्य वीर पवार जी किडनी ट्रांसप्लांट होने के बावजूद जनसंख्या नियंत्रण कानून का समर्थन कर रहें है।सत्य वीर पवार जी न सिर्फ जनसंख्या नियंत्रण कानून का समर्थन करते हुए हस्ताक्षर करवा रहे है बल्कि आर्थिक अनुदान देकर जनसंख्या नियंत्रण कानून लाने में पूरा समर्थन कर रहे है।बता दें सत्य वीर पवार जी ने हिंदुस्तान को पाकिस्तान बनने से बचाने के लिए 6 हजार हस्ताक्षर करवाकर और 6000 का अनुदान देकर अपना समर्थन दिया। उन्होने हमसे बात करते हुए बताया कि अगर ये कानून जल्द से जल्द नहीं लाया गया तो आने वाले समय में लोगों के पास खेती करने के लिए ज़मीन तक नहीं बचेगी, इसलिए जब तक ये कानून देश में नहीं आ जाता मैं शांति से नहीं बैठूंगा।

हस्ताक्षर अभियान का आयोजन, लोगों ने जनसँख्या नियंत्रण कानून लागू करवाने की ली शपथ

तापी: जनसंख्या नियंत्रण कानून को लेकर गुजरात के तापी जनपद के वालोड में हस्ताक्षर अभियान का आयोजन किया गया। जहाँ कार्यकर्ताओं और वालोड वासियो ने अभियान की मुहिम में समर्थन करते हुए हस्ताक्षर किए। और साथ ही जनसँख्या नियंत्रण कानून बनने के लिए शपथ भी ली। वहीं बजरंगी भाई हिन्दू जी ने कार्यक्रम में अहम् भूमिका निभाते हुए कार्यक्रम को सफल बनाया। आपको बता दंय देश के कई राज्यों में जगह- जगह पर केनोपी लगाकर यह अभियान चलाया जा रहा हैं, और लोग इसका समर्थन करते हुए मुहिम में बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रहे है। इस अभियान का प्रमुख उद्देश्य है समाज और राष्ट्र के विविध सरोकारों के साथ जनसंख्या नियंत्रण के लिए कानून बनाने हेतु सरकार को सहमत करना।

लव-जिहाद जैसे जहर के संक्रमण से पूरे भारत को बचाएं,जनसंख्या नियंत्रण कानून लाएं

Sonipat: हमारे देश में बच्चों को भगवान का रूप माना जाता है लेकिन हमारे देश की यह बहुत बड़ी विडंबना है कि जिसे भगवान मानते हैं उसे अब बख्शा नहीं जा रहा है,यह सब घटनाएं और कोई नहीं हमारे देश में मौजूद कट्टरपंथी कर रहे हैं,ख़बर है कि 35 साल के सबीर अली ने ईंट भट्ठे पर काम करने वाली नाबालिग को भी नहीं बख्शा.उसने पहले नाबालिग को प्यार में फंसाने की कोशिश की, लेकिन जब युवती ने मना कर दिया तो बहला फुसला कर भगा ले गया. देश में तेजी से फैलते जा रहे लव जिहाद के कैंसर की ये घटना हरियाणा के सोनीपत में घटित हुई है.सोनीपत-खरखोदा के गांव में ईट भट्टे पर काम करने वाली महिला की नाबालिग बेटी को 35 साल का साबिर धोखे से अपहरण करके ले गया. आरोपी भी उसी भट्टे पर काम करता था. हर दिन हमारे देश के हिंदु बहन बेटियों के साथ इस तरह के क्रुरता पर आवाज़ उठाना अतिआवाश्यक है और वो एक कानून ला कर हो सकता है और वो है जनसंख्या नियंत्रण कानून.

जबरन इस्लामीकरण होगी देश की सच्चाई अगर नहीं लाया गया जनसँख्या नियंत्रण कानून

Assam: हमारे देश में कट्टरपंथियों का कहर बढ़ता ही जा रहा है कभी लव-जिहाद के नाम पर हिंदु युवतियों को फंसाकर उनका धर्मांतरण करवाया जाता है तो कभी गैर इस्लामिक कपड़े पहनने के लिए मौत के घाट उतार दिया जाता है,यह घटना कहीं और की नहीं बल्कि अपने ही देश असम की है,इस घटना को सुनकर आप एक बार फिर धर्मनिरपेक्षता पर सवाल खड़े करती हैं, इस बार इन इस्लामिक कट्टरपंथियों ने तालिबान, ISIS को पीछे छोड़ते हुए 6 साल के हिन्दू बच्चे को घर से अपहरण कर लिया तथा उसका जबरन खतना किया गया,कट्टरपंथियों को देश से खत्म करना ही होगा नहीं तो वो दिन दूर नहीं जब हिंदु समाज इस तरह के कट्टरता का शिकार बनता रहेगा. अपने देश को जबरन इस्लामीकरण से बचाना होगा,अपने हिंदु बहन,बेटी और बच्चों को कट्टरपंथियों से बचाना होगा जनसंख्या नियंत्रण कानून लाना होगा.

अब घरों का निर्माण भी होगा धर्म के नाम पर,आखिर कहां गई हमारे देश की धर्मनिरपेक्षता?

Kerala: भारत को एक धर्मनिरपेक्ष देश कहा जाता है लेकिन कुछ ऐसी घटनाएं सामने आ जाती हैं जो इस तथाकथित धर्मनिरपेक्षता पर सवाल खड़े करती हैं,अब हमारे देश में बहुत जल्द धर्म के हिसाब से घरों का निर्माण किया जाएगा,यह ख़बर है केरल की है जहां पर केरल के बिल्डर एक शरीया अपार्टमेंट बनाने वाला है जिसका लक्ष्य मजहब के प्रति आस्था रखने वाले मुस्लिमों को उनके धर्म के मुताबिक आवास मुहैया कराना है। इस आवास के हर कमरे को बनाने में शरीया का पूरा ख्याल रखा जाएगा। पश्चिम कोच्चि में बनने जा रहे इस आवास में मक्का की तरफ फेस वाले फ्लैट बनेंगे। इसमें शरीया कानून के तहत प्रार्थना घर और बाथरुम के साथ ही प्रार्थना के समय को बताने वालीं घड़ियां लगाई जाएंगी. हिंदुस्तान ऐसे भी अलग-अलग जाति और धर्म के हिसाब से बँटा हुआ है और ऐसी घटनाएं देश के नींव को और कमजोर बनाती है और अगर हम इस आपर्टमेंट को धर्म के हिसाब से न बनने दें और इसका विरोध करेंगे तो हमारे तथाकथित सेक्यूलृर लोग ऐक्टिव हो जाएंगे और कहा जाएगा कि फ्लैट अगर धर्म के आधार पर बनाया जा रहा है तो इसमें हर्ज ही क्या है,इसको भी संवैधानिक कह दिया जाएगा. अगर इन घटनाओं पर लगाम नहीं लगवाया गया तो बहुत जल्द हमारा देश इस्लामिक देश बन जाएगा क्योंकि भविष्य में जब कट्टरपंथी बहुसंख्यक हो जाते हैं तो हो सकता हर घर को एक विशेष धर्म के नक्शे में बदल दिया जाएगा.

हिंदुत्व के पावन ब्रहमचर्य को कांग्रेस ने दी गाली,ब्रहमाचारियों को बताया बलात्कारी

Madhya Pradesh: हमारे देश में कुछ ऐसी पार्टियाँ मौजूद है जो हिंदु विरोधियों को खुश करने में लगी है क्योंकि इन पार्टियों को वोटबैंक पाने की इतनी बुरी बीमारी लग चुकी है कि उसके लिए किसी भी हद तक गिर सकते हैं,जी हाँ हम बात कर रहें हैं कांग्रेस पार्टी की हुआ यूँ कि मध्य प्रदेश के एक बेहद आपत्तिजनक बयानबाज और ओसामा बिन लादेन को जी कहने वाले दिग्विजय सिंह के करीबी नेता द्वारा जिन्होंने दिग्विजय सिंह का भी रिकार्ड तोड़ डाला है.मध्यप्रदेश में इसी वर्ष संभावित विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने अपनाया है एक बेहद आपत्तिजनक स्वरूप जिसमें उन्होंने निशाना बनाया है हिन्दुओ की कठोरतम परम्परा के वाहक ब्रह्मचारियों को. राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ पर निशाना साधते हुए कांग्रेस के मध्य प्रदेश के प्रवक्ता मानक अग्रवाल ने एक बेहद आपत्तिजनक बयान देते हुए कहा है की जो शादी नहीं करते और ब्रह्मचारी होने का नाटक करते हैं वो ही असल में बलात्कारी होते हैंं.ध्यान देने योग्य हैं की ये वही ब्रह्मचारी हैं जो हिंदुत्व की परम्परा के सबसे कठोर साधना के प्रतीक माने जाते हैं . हमारे लिए इन पार्टियों का भी पर्दाफाश करना जरूरी है जो तुष्टिकरण की राजनीति करते हैं और हिंदु विरोधियों को खुश करते हैं,ऐसी पार्टियों से देश को बचाएं क्योंकि एक बार मज़हबी ठेकेदारों की जनसँख्या बढ़ी तो हिंदुओं पर हो रहे अत्याचारों के बारे में सुनने वाला कोई नहीं होगा और अंत में हिंदुओं का हमारे देश से वजूद खत्म हो जाएगा और हम हिंदुस्तान को पाकिस्तान बनने से नहीं बचा पाएंगे.

क्या जींस पहनना मौत का कारण हो सकता है?जानिए क्या है वजह

Bangladesh: आज के ज़माने में लड़की होना सबसे बड़ा गुनाह है क्योंकि कुछ ऐसी घटनाएं सामने आ रही है जो बहुत शर्मनाक है,एक तरफ हमारे सेक्यूलर बुद्धिजीवी कहते हैं रेप की घटनाएं वेश-भूषा से नहीं होती,लेकिन आज हम आपको एक ऐसी घटना से रुबुरू कराने जा रहें हैं जो आप सभी को हैरान कर देगा,दरअसल ख़बर है कि बंगालादेश में एक लड़की को सिर्फ इसलिए मौत के घाट उतार दिया गया क्योंकि वो जींस पहनकर कॉलेज गई थी,हमारा सवाल उन सेक्यूलर बुद्धिजीवियों से है कि वो इस घटना पर चुप क्यों हैं? हद तो तब हो गयी जब आक्रान्ताओं ने उसकी ह्त्या को सुसाइड करार दिया. बता दें कि मृतक छात्रा का नाम रॉदा अतीफ है तथा वह बांग्लादेश के इस्लामिक बैंक मेडिकल कॉलेज में पढती थी. बांग्लादेश में इस्लामी बैंक मेडिकल कॉलेज में हुई छात्रा की मौत को फैमिली ने मर्डर करार दिया है.परिजनोंं का कहना है मृतक छात्रा को सिर्फ इसलिए मार दिया गया क्योंकि उसने गैर इस्लामिक कपड़े पहने थे,हालांकि रॉदा की पोस्र्टमार्टम रिपोर्ट में सुसाइड का जिक्र किया गया है, लेकिन उनके पिता ने इस रिपोर्ट को खारिज करते हुए इसे मर्डर बताया है. अब सवाल है कि क्या हमारे बहन बेटियों को जींस पहनने के लिए मौत की सुली पर चढ़ना पढ़ेगा?कट्टरपंथियों के इस कट्टरता से बचाने का उपाय ढुढ़ना अतिआवाश्यक है नहीं तो रोज़ ऐसी घटनाएं सुनने को मिलेगी और हम कुछ नहीं कर पाएंगे क्योंकि भविष्य में कट्टरपंथियों की आबादी इतनी बढ़ जाएगी कि हमारे हिंदु भाईयों का सुनने वाला कोई नहीं होगा और हमें अपनी बेटियों को ऐसे ही मरते छोड़ना पड़़ेगा.

आपकी बेटी भी हो सकती है लव-जिहाद का शिकार और इसके जिम्मेदार और कोई नहीं आपकी चुप्पी होगी,अपनी आवाज़ को करें बुलंद और बचाएं अपनी बेटी को

Assam: हमारे देश में लव जिहाद की घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही है और मज़हबी ठेकेदार एक साजिश के तहत हिंदु लड़कियों को प्रेम के जाल में फंसाकर धर्मांतरण कर शोषण कर रहे हैं ,यह लव जिहाद की घटना पहली नहीं बल्कि हर दिन ऐसी घटनाएं सुर्खियाँ बटोर रही है,दरअसल असम के जोहराहट में सईद मोहम्मद नामक एक व्यक्ति मैट्रिक पढ़ने वाली एक हिंदु युवती को लेकर भाग गया है,युवती की मां ने पुलिस में आरोपी के खिलाफ दर्ज कराई है. लड़की की मां की शिकायत पर पुलिस ने भारतीय दंड सहिता की धारा 366(ए) के तहत एक मामला(1060/18) दर्ज किया है. पुलिस ने तत्काल कार्रवाई करते हुए आरोपी लड़के के पिता मोहम्मद उवैद को हिरासत में ले लिया. ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए पुरे हिंदु समाज को एक होना होगा और अपनी चुप्पी तोड़नी होगी क्योंकि हर दिन कहीं न कहीं ऐसी घटनाएं सुनने को मिल जाती है जहां हमारी कौम के लड़कियों को प्रेम के जाल में फंसाकर भागा के ले जाया जाता है और हम कुछ नहीं कर पाते अब आवाज़ बंद करने का नहीं बल्कि आवाज़ उठाने का वक्त है,अपनी आवाज़ बुलंद करें और अपनी बहन बेटियों को ऐसी लव जिहाद की घटनाओं से बचाएं और इसका एक ही इलाज है देश में कट्टपंथियों के जनसंख्या विस्फोट को रोकना.

कैनोपी लगाकर चलाया हस्ताक्षर अभियान, वरिष्ठ नागरिकों ने किया समर्थन

उदयपुर : भारत को मिनी पाकिस्तान बनने से रोकने के लिए राष्ट्र निर्माण संस्था की तरफ से हस्ताक्षर अभियान चलाया जा रहा हैं। उदयपुर शहर के फतेहसागर झील पर प्रातः काल 6:00 बजे से कैनोपी लगाकर वरिष्ठ नागरिकों एवं जागरूक सज्जनों द्वारा भारत बचाओ महाअभियान का हस्ताक्षर करके समर्थन किया गया, तथा मुस्लिम और ईसाई महिलाओं द्वारा भी एवं नीजी सुरक्षा कर्मचारियों द्वारा “हम दो हमारे दो तो सबके दो” नारे का समर्थन किया गया। साथ ही प्रचार सामिग्री बांटी गई हस्ताक्षर अभियान को लेकर लोगों में काफी उत्साह देखने को मिला।

"इंशाअल्लाह फ़तेह करेंगे हिन्दोस्तां और खात्मा होगा काफिरों का,अगर जनसंख्या नियंत्रण कानून नहीं लाया गया तो कट्टरपंथी करेंगे काफिरों का यानी हिंदुओं का यही हर्ष.

kashmir: कहते हैं आतंकवाद का कोई धर्म नहीं होता लेकिन इस वाक्य में जरा सी भी सच्चाई नहीं बची है क्योंकि हमारे देश में मौजूद कट्टरपंथी धर्म के नाम पर जहर फैला रहें हैं और उनका सिर्फ एक ही मकस्द है काफिरों यानी हिंदुओं को देश से निकाल कर हिंदुस्तान पर कब्ज़ा करना,हम जिस घटना के बारे में जिक्र करने वाले हैं उससे आप लोगों को स्पष्ट हो जाएगा कि जो हम कह रहें हैं वो 100 प्रतिशत सच है ,दरअसल, "इंशाअल्लाह फ़तेह करेंगे हिन्दोस्तां और खात्मा होगा काफिरों का " बोल कर बशरत अहमद भर्ती हो गया लश्कर में,आपको बता दें कि इस कट्टरपंथी के मन में बचपन से ही भारत के लिए जहर भरा गया था इसके अब्बा के मुह से कभी कश्मीर छोड़ कर भागे कश्मीरी हिन्दुओ के लिए एक भी शब्द नहीं निकले सहानभूति के इसलिए इसको पता ही नही थी कि धर्मनिरपेक्षता किसे कहते हैं और क्या इस नाम की कोई चीज होती है . हम आपके सामने इस घटना का जिक्र इसलिए कर रहें हैं क्योंकि कट्टरपंथियों की आबादी बढ़ती जा रही है और भविष्य में यह लोग हिंदुस्तान पर कब्ज़ा करने के लिए हिंदुओं को देश से आतंकवाद और धर्मांतरण के जरिए भारत से बाहर निकाल फेंकेंगे,हिंदुओं पर आने वाले इस काले भविष्य से बचाएं नहीं तो वो दिन दूर नहीं जब हिंदुओं का धर्मांतरण कर आतंकवाद के रास्ते में ढकेल दिया जाएगा. हिंदुओं को जबरन आतंकवादी बनने से बचाएं जनसंख्या नियंत्रण कानून लाएं.

दो मुस्लिम परिवारों ने किया हिन्दु परिवारों को पलायन के लिए मजबूर,अगर इस स्थिति को नहीं रोका गया तो यही होगी देश की सच्चाई

AGRA: राष्ट्र निर्माण के संस्थापक सुरेश जी हमेशा अपने भारत बचाओ यात्रा के दरमियाँन आवाज़ उठा रहे थे हिन्दुस्थान को पाकिस्तान न बनने देने की, लेकिन धीरे-धीरे ये बातें सच साबित होती जा रही है ऐसा हम इसलिए कह रहे है क्योंकि बात ही कुछ ऐसी है दो मुस्लिम परिवारों ने हिन्दू परिवारों का जीना दुश्वार कर दिया की अंत में उन्हें पलायन करने के लिए मजबूर होना पड़ा. पूरी घटना कुछ इस तरह से है कि आगरा के शमशाबाद रोड स्थित शास्त्री नगर कालोनी पावन धाम मोड़ में दो मुस्लिम परिवारों ने हिन्दू परिवारों का जीना दुश्वार कर रखा है। आये दिन मुस्लिम परिवार के लोग बाहरी अराजक तत्वों को लाकर कालोनी में गाली गलौज और झगड़ा करते रहे हैं। जिससे प्रताड़ित होकर समस्त हिन्दू परिवारों ने अपने अपने मकान बेचने का निर्णय लिया है. आपको बता दें की जब दो मुस्लिम परिवार हिन्दुओं पर इतने भारी पड़ सकते है तो सोचिये जब इनके आबादी बढ़ जाएगी तो क्या होगा एक-एक करके हिन्दुओं को देश से पलायन करने में मजबूर होना पड़ेगा क्योंकि अगर देश में हिन्दू नहीं रहेगा तो हिन्दुस्थान भी नहीं रहेगा.

क्या भविष्य में बंगलादेशी हिन्दुओं की तरह सबकुछ लूटाकर दूसरे देश में रहना चाहेंगे?

Assam: आज जो स्थिति बंगलादेशी हिन्दुओं की है उन्हें हमारे देश में शरण लेना पढ़ रहा कल को यही स्थिति भारत के हिन्दुओं की अगर आती है तो सवाल ये उठता है कि तब हमारे देश के हिन्दुओं को कौन शरण देगा? ज्ञात हो की काफी दिन से असम में बंगलादेशी हिन्दू बसेंगे या नहीं इस पर चर्चा चल रही है, कभी कांग्रेस पार्टी ने असम की विधानसभा में सीधे सीधे इन हिन्दुओं को तत्काल असम से निकालने की मांग करते हुए कहा था कि अब असम किसी और को रखने के लिए तैयार नहीं है इसलिए इन्हे फ़ौरन निकाला जाए . कांग्रेस के इस भारी विरोध के बाद काफी संदेह में जीने लगे थे बंगलादेश से अपनी जान को बचा कर बाकी सब लुटा कर आये हिन्दू .लेकिन आख़िरकार भारतीय जनता पार्टी के केंद्रीय मंत्री का एक ऐसा बयान आया जो जहर के कुंड से निकल कर आये बंगलादेशी हिन्दुओ के लिए अमृत के जैसे रहा लेकिन हम आपको बता दें की आज तो बंगलादेशी हिन्दुओं को हमारे देश ने बचा लिया शरण दे दी पर भविष्य में हमारे देश में भारत के हिन्दुओं अगर ऐसा हुआ तो हमे कोई बचाने नहीं आएगा. भारत में हिन्दुओं को अल्पसंख्यक होने से बचाएँ ताकि कल को हमें बंगलादेशी हिन्दुओं की तरह किसी और देश में शरण लेना न पड़े.

पानी का बहाना ले कर लगा दी सम्भाजी के नगर में आग,मज़हबी उन्माद के बारे में सुरेश जी ने की थी बात जो हुई 100 प्रतिशत सच

aurangabad: संभाजीनगर जो कभी संभाजी की नगरी थी वहां आज मज़हबी ठेकेदारों ने वही किया जो हमारे भारत बचाओ यात्रा के दरमियाँन हमारे संस्थापक सुरेश चाव्हाणके जी ने उठाई थी आखिरकार उसको औरंगाबाद के कुछ आक्रांताओं ने सच ही साबित कर डाला और झोंक दिया सम्भाजी की नगरी को दंगे की आग में जिसमे हमले हुए है सभ्य और सहिष्णु समाज के ऊपर और बहा है निर्दोषों का रक्त . बता दें कि भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना शासित महाराष्ट्र का औरंगाबाद झुलस गया है साम्प्रदायिक दंगे से .पूरी रात चले दंगे में जला कर राख कर दी गयी हैं 50 से ज्यादा दुकाने और लगभग इतने ही वाहन .झगड़े की शुरुआत पुराने औरंगाबाद क्षेत्र कहे जाने वाले राजा बाज़ार इलाके से बताई जा रही है जहां एक मज़हबी उन्मादी की जिद से पानी को ले कर विबाद बढ़ गया. अगर जनसँख्या नियंत्रण कानून नहीं लाया गया तो महज़ब के नाम पर दंगे रोज़ होंगे और ऐसे ही धीरे-धीरे हिंदुस्तान के शहरों को आग में झोंक दिया जाएगा इसलिए ऐसे मामलों में मौन न हो बल्कि आवाज़ उठाये और हमारे हम दो हमारे तो सबके दो के महाभियान में जुड़े

जनसँख्या नियंत्रण कानून देश में नहीं लाया गया तो ये होगा अंजाम

Raipur: हमारे देश भारत में रेलवे स्टेशन,बस स्टॉप,जलपान की जगह में कुछ धर्म से सम्बंधित नहीं होता क्योंकि लेकिन हमारे देश में मौजूद कट्टरपंथियों ने इन जगाओं को भी धर्म से जोड़ दिया है ,जब कोई पूरा रेलवे स्टेशन ही मज़हबी रंग में रंगने को तैयार हो जाए तो उस समय सवाल ये उठने लगता है की क्या इस्लामिक कानून भारत के धर्मनिरपेक्ष संविधान से भी ऊपर हैं . अगर उन्हें किसी कानून का डर होता तो निश्चित तौर पर छत्तीसगढ़ के रायपुर स्टेशन पर ऐसा लिखने का साहस न कर पाते . आपको बता दें कि कट्टरपंथियों ने जल को भी धार्मिक रूप देने में कसर नहीं छोड़ी,कहा जाता है जल ही जीवन है लेकिन छत्तीसगढ़ के रेलवे स्टेशन पर कुछ ऐसा लिखा मिला है जो आपको हैरान कर देगा रेलवे स्टेशन पर लिखा गया है "drink water think husain" ये वाक्य साफ तौर पे ये दर्शाता है आप हुसैन के वजह से ही पानी पी रहे हैं. आपको बता दें की अगर ऐसे ही चलता रहा तो देश के हर चीज़ पर एक नाम लिखा होगा और वो है हुसैन्न का,कट्टरपंथियों की आबादी बढ़ते ही हर चीज़ पर कब्ज़ा किया जाएगा,हर चीज़ में कट्टरपंथियों के कब्ज़े से बचाएँ जनसँख्या नियंत्रण कानून लायें. अब तक की मिली जानकारी के अनुसार मामले को तूल पकड़ने पर रेलवे प्रबंधन ने उस प्याऊ में आनन फानन में टेप चस्पा कर इसे ढँकवा दिया है, और कार्यवाही सम्पन्न करने की बात कही गई। अब क्या कोई धर्म संगठन रेलवे स्टेशनों को भी प्रचारित करने के लिए प्रयोग कर सकता है ? निश्चित तौर पर ऐसे दुष्प्रचारित संगठनों पर कार्यवाही करना रेल मंत्रालय का फ़र्ज़ बनता है.

अब आपकी हिन्दू बहन बेटी नहीं है सुरक्षित,अगर सुरक्षित देखना चाहते है तो ये है उपाय

Uttar Pradesh : आपको याद होगा उत्तर प्रदेश के आज़मगढ़ की घटना जिसने पुरे देश को सन्न कर दिया था,हुआ यूँ था की आजमगढ़ में मोहम्मद सफी नामक एक दरिन्दे ने एक युवती को आग में झोंक दिया था क्योंकि उस युवती ने सफी के प्रेम जाल में फंसने से इनकार कर दिया था. मोहम्मद सफी द्वारा तालिबानी क्रूरतम अंदाज में अंजाम दी गयी इस वारदात के बाद हर किसी के रौंगटे खड़े हो गये थे. बिलकुल इसी अंदाज में एक और घटना बुलंदशहर में भी घटित हुई जहाँ शाहरुख तथा शहजाद ने एक युवती को मिट्टी का तेल डालकर आग लगा दी तथा इलाज के दौरान युवती की मौत हो गयी थी. मजहबी उन्मादी आक्रान्ताओं द्वारा अंजाम दी गयी इन घटनाओं से पूरा देश दंग रह गया था. हम इन घटनाओं से आपको डरना नहीं बल्कि भविष्य में आने वाले काल से आपको सावधान करना चाहते हैं क्योंकि अपने नोट किया होगा ज़्यादातर घटनाओं में मुजरिम एक कट्टरपंथी ही है,बता दें कि आने वाले समय जब इन मजहबी ठेकेदारों की जनसँख्या जैसे ही बढ़ेगी वैसे ही इस तरह की घटनाए हर रोज़ होंगी. अपने हिन्दुओं बहन बेटियों को इन संगीन वारदातों से बचाना है तो जनसँख्या नियंत्रण कानून हर हाल में लाना है. अपनी बहन बेटियों को सुरक्षित देखना चाहते है तो करें हमारे राष्ट्र निर्माण के अध्यक्ष सुरेश जी का हाँथ मजबूत क्योंकि उनका ये संघर्ष तभी सफल होगा जब आप हमारा साथ देंगे.

नमाज़ न पढ़ने के लिए मिलती है मौत,जानिए आखिर कट्टरपंथी क्यों है इतने असिहिषुण ?

mumbai: आज हम आपके लिए एक ऐसी आश्चर्यजनक घटना लेकर आयें जो शायद आपकी रातों की नींद उड़ा दें लेकिन हम आपको डराने नहीं बल्कि जागरूक और सावधान करने आये हैं,हुआ यूँ कि एक 15 साल के मुसलमान लड़की के रिश्तेदार ने सिर्फ इसलिए गला दबाकर मार दिया क्योंकि उसकी तबियत ख़राब हो गयी थी जिसके वजह से वो नमाज़ अदा नहीं कर पाई ये बात उसके रिश्तेदारों को रास नहीं आई और उस लड़की को मार दिया गया,इस घटना से जहाँ पूरा राष्ट्र सन्न रहा गया है वहीं ये घटना उन लोगों के मुंह पर करारा तमाचा है जो सेक्यूलरिज्म के, मानवता के ठेकेदार बने बैठे हैं. अफ़सोस ये लोग इस घटना पर मौन साध गये हैं. लेकिन हम इस खबर पर मौन नहीं साध सकते क्योंकि नमाज़ न पढ़ने पर जब एक मुसलमान लड़की को मौत के घाट उतर दिया जाता है तो ज़रा सोचिए जैसे ही कट्टरपंथियों की आबादी बढ़ती है तो हिन्दुओं के साथ भी कुछ ऐसा ही होगा,हिन्दुओं को जबरन नमाज़ पढने के लिए प्रतारित किया जायेगा. हिन्दुओं को इस प्रतारणा से बचाइए जनसँख्या नियंत्रण कानून लायें.

आखिर पाकिस्तान में रहने वाले हिन्दुओं की मानवाधिकारों की क्यों की गई तौहीन जानिए पूरा मामला

pakistan: आप सभी भली भांति जानते है कि पाकिस्तान में हिन्दू होना गुनाह है क्योंकि पाक में हिन्दुओं को भेस बदल कर जीना पड़ता है,दरअसल हुआ यूँ कि पाकिस्तान में एक शक्श जो एक हिन्दू था और उसने ब्याज पर पैसे देता था यही बात पाकिस्तान में बैठे कट्टरपंथियों को रास नहीं आई तो उसे ऐसी खौफनाक सज़ा दी गयी है जिसे सुनकर आपकी रूह काँप उठेगी,हुआ यूँ कि पाकिस्तान में एक हिन्दू व्यक्ति का सर मुंडवा दिया गया , दाढ़ी, मूंछ तथा भौंहें छील दी गईं और अगर इस घटना को भारत से जोड़ा जाये तो गलत नहीं होगा क्योंकि वो दिन दूर नहीं जब हमारे देश में भी हिन्दू भाइयों के साथ ऐसा होगा जब हिन्दू हमारे देश में अल्पसंख्यक हो जायेंगे और मुसलमान बहुसंख्यक. अपने देश को इस काले भविष्य से बचाएँ तथा हिन्दुओं के मानवाधिकारों को छलनी होने से रोके और जनसँख्या नियंत्रण कानून लागु करवाने में हमारे राष्ट्र निर्माण के संस्थापक सुरेश जी के हाँथ मजबूत करें.

क्या आप हिन्दुस्थान को मुस्लिम बहुल देश बनते देखना चाहते है? अगर नहीं तो जनसँख्या नियंत्रण कानून है आवश्यक

New Delhi: हमारा देश बहुत जल्द एक इस्लामिक देश बनने जा रहा है क्योंकि बहुत जल्द हिंदुस्तान में हिन्दू अल्पसंख्यक और मुसलमान बहुसंख्यक होने वाले है और इसलिए जनसँख्या नियंत्रण कानून लाना ज़रूरी है. आपको बता दें कि मलेशिया एक मुस्लिम बहुल देश है और वहां के प्रधानमंत्री नजीब रजाक ने जाकिर नाईक जैसे आतंकी को अंतिम समय तक बचाया लेकिन वहां की जनता ने उन्हें चुनाव में सत्ता से उखार फैंका इसी तरह अगर बात की जाये हिन्दुस्थान की तो जैसे ही हमारे देश में मुसलमानों की जनसँख्या बढ़ेगी तब देश में कोई भी हिन्दू प्रधानमंत्री नहीं बन पायेगा और जो स्थिति आज मलेशिया में हुई वो हमारे देश में हो सकती है, कल को एक औरंगजेब अगर हमारे देश का प्रधानमंत्री बनता है तो कल हफ़ीज़ सईद जैसे आतंकी को बुलाया जायेगा ऐसे आतंकियों को अपने देश की तौहीन करने से बचाएँ जनसँख्या नियंत्रण कानून लायें

देश में शिक्षकों को आतंकी बनने से बचाना है जनसंख्या नियंत्रण कानून लाना है

kashmir: हमारे देश के लिए ये बहुत दुर्भाग्य की बात है कि शिक्षा के मंदिरों में पाकिस्तान से प्यार करने वाले भक्तों की जनसँख्या बढती जा रही है,आपको बता दें की जिस यूनिवर्सिटी की हम बात कर रहे है इसमें हिंदुस्तान से नफरत करने वाल और कोई नहीं इस यूनिवर्सिटी का शिक्षक है जब हमारे देश का शिक्षक ही ऐसा होगा तो हमारे देश के छात्रों पर पाक प्रेमी बनना लाज़मी है,ऐसी स्थिति को रोकने अपने युवा शक्ति को आतंक के रास्ते में जाने से रोकना है और अगर हिंदुस्तान को पाकिस्तान बनने से बचना है तो जनसँख्या नियंत्रण कानून लाना आवश्यक है. शुक्र है की हमारे देश में ऐसे देशद्रोहियों का खात्मा करने के लिए हमारी सेना है क्योंकि प्रोफेसर से आतंकी बना मोहम्मद रफ़ी भट्ट सेना ने गोलियों के तूफ़ान में दफ़न कर दिया .बता दें कि कश्मीर यूनिवर्सिटी में सेना द्वारा मारे गये आतंकी मोहम्मद रफ़ी भट्ट के समर्थन में कार्यक्रम किया गया तथा पाकिस्तान का झंडा फहराया गया.पाकिस्तान से प्यार करने वालों का करें खात्मा जनसँख्या नियंत्रण कानून के ज़रिये क्योंकि अगर ये कानून हम इस देश में लागू नहीं करवा पाते है तो हमारे देश में हिंदुस्तान के झंडे की जगह पाकिस्तान का फैराया जाएगा इसलिए हिंदुस्तान को पाकिस्तान बनने से बचाएँ.

अगले जन्म में मुसलमान बनने का इच्छा रखने वालों का होगा खुलासा जनसँख्या नियंत्रण कानून के ज़रिये

New Delhi: हमारे देश के नेताओं में वोटबैंक की ऐसी बीमारी है की ये लोग अब अगले जन्म में इश्वर से मुसलमान बनने की इच्छा रखने लगे है,ये बयान हमारे देश के पूर्व प्रधानमंत्री ए.डी देवगौड़ा की है जो कभी अपने पार्टी के प्रचार के लिए हिन्दुओ का नरसंहार करवाने की धमकी देने वाली आतंकी समर्थन पार्टी के मुखिया ओवैसी को बुलाते हैं तो कभी अपने बेटे को पार्टी से निकालने तक की धमकी दे डालते हैं. आपको बता दें की हमारे राष्ट्र निर्माण के संस्थापक सुरेश जी ने लगातार इन घटनाओं से आप सब को अवगत कराया था और धीरे-धीरे उनकी कही गयी एक-एक बातें सच होती जा रही है क्योंकि आज भी हमारे देश में पूर्व प्रधानमंत्री जैसे नेता मौजूद है जो वोटबैंक की आड़ में अगले जन्म में मुसलमान बनने की इच्छा रखते हो. हमारे संस्थापक सुरेश जी का जनसंख्या नियंत्रण कानून लाने का मकसद राजनेतिक नहीं बल्कि देशहित है और इसलिए देश में मौजूद अगले जन्म में मुसलमान बनने की इच्छा रखने वालों को पहचाने हम दो हमारे दो तो सबके दो के अभियान के ज़रिये.

अगर करना चाहते है हिन्दू विरोधी मानसिकता रखने वालों का खात्मा तो लायें जनसंख्या नियंत्रण कानून

Jammu: आप सभी को याद होगा जम्मू का कठुआ रेप का मामला जो हिन्दू विरोधी मानसिकता रखने वालों के लिए बड़ी उम्मीद बनकर आया तथा उन्होंने इस मामले को लेकर पुरे देश में हिन्दू समुदाय को बलात्कारी और अपराधी साबित करने की कोशिश की. हिन्दू तथा हिंदुत्व को बदनाम करने वाली ये साजिशें कठुआ मामले में ही नहीं बल्कि कई अन्य मामलों में भी सामने आ रही हैं, ये हिंदुस्तान की मूल सभ्यता तथा संस्कृति को नष्ट करने की साजिश के तहत हो रहा है. अगर इसको रोकना है, हिन्दुओं को, हिंदुस्तान को बचाना है जनसँख्या नियंत्रण कानून लायें. राष्ट्र निर्माण के संस्थापक सुरेश जी का हाँथ मजबूत करें और हिन्दुओं को अपराधी कहने वाले कट्टरपंथियों को दें मात. आपको बता दें कि कश्मीर में हिन्दू अल्पसंख्यक है और जम्मू में हिन्दुओं को अल्पसंख्यक बनाने की साजिश चल रही है और कट्टपंथियों को इस मकसद को पूरा करने के लिए कठुआ जैसा मामला मिल गया हिन्दुओं को बदनाम करने के लिए.हमारी भारत बचाओ यात्रा भी जम्मू से ही शुरू हुई थी जहाँ के हिन्दुओं ने भरपूर समर्थन दिया था.

कट्टरपंथी की 2025 तक एक नए मुल्क की धमकी, सुरेश जी की बात हुई 100 प्रतिशत सच

kashmir: 70 दिनों की यात्रा में जो हमारे राष्ट्र निर्माण के संस्थापक गुहार लगा रहे थे आखिरकार वो सच सामने आ ही गया,आपको बता दें की हमारे देश में मौजूद कट्टरपंथी का कहना है की 2025 तक इंतज़ार करो हमारी सेना घुटने टेक देंगी और मिल जायेगा एक नया मुल्क,सच ही कहा था हमारे संस्थापक सुरेश चाव्हाणके जी ने की अगर जनसँख्या नियंत्रण कानून नहीं लाया गया तो इन अलगावादियों के नापाक मंसुभे सच साबित हो जायेंगे इन कट्टरपंथियों से देश को बचाएँ जनसंख्या नियंत्रण कानून लायें क्योंकि हमे एक नए मुल्क की नहीं हिन्दुस्थान को बचने की ज़रूरत है हिन्दुस्थान को पाकिस्तान न बनने दें और इन नापाक मंसुभे वाले कट्टरपंथियों से देश को बचाएँ

पाक परस्त जिन्ना समर्थकों पर लगाम लगाने के लिए जरूरी है जनसंख्या नियंत्रण कानून

New Delhi: पिछले दिनों AMU में जो पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना के तस्वीर को लेकर बवाल मचा हुआ है इस खबर में आग में घी डालने का काम कर रहे है हमारे देश में मौजूद जिन्ना के समर्थक.ये हमारे देश के लिए बहुत ही चिंताजनक है क्योंकि जिस जिन्ना ने हमारे देश का विभाजन करवाया उसकी तस्वीर देश की एक मशहूर यूनिवर्सिटी में लगी हुई है तथा वहां के कुछ छात्र उसकी तस्वीर को न हटाने पर अड़े हुए हैं. आपको बता दें जहाँ एक तरफ देशभक्त गुहार लगा रहे है AMU से जिन्ना के तस्वीर को यूनिवर्सिटी से हटाने की तो वहीँ दूसरी ओर पाकिस्तान प्रेमी कट्टपंथी जिन्ना की तस्वीर के समर्थन में उतर आये हैं. आज भी हम नहीं जागे तो जो घटना AMU में हुआ वो भविष्य में हर विश्वविध्यालाय में होगा,इस घटना को भविष्य में रोकने का एक ही इलाज है जनसँख्या नियंत्रण कानून जो की राष्ट्र निर्माण के संस्थापक सुरेश जी चला रहे हैं. अगर इस समस्या को दूर करना है तो राष्ट्र निर्माण के संस्थापक सुरेश जी के साथ जुड़े और जनसँख्या नियंत्रण कानून को हकीकत बनाये. क्योंकि अगर इस देश में कानून लागू नहीं हो पाया तो हमारे देश का एक और विभाजन निश्चित है और इसका जिम्मेदार और कोई हम सब होंगे क्योंकि जिन्ना समर्थक लोग इसकी तैयारी मैं लगे हुए हैं तथा ये इतिहास रहा है कि जब-जब देश में हिन्दू घटा तब-तब देश बंटा. इसलिए जनसँख्या नियंत्रण कानून लायें व् पाक प्रेमी कट्टरपंथियों से देश को बचाएं.

दिल्ली के प्रगति मैदान की योगशाला में जनसंख्या नियंत्रण कानून के लिए अपने संघर्ष और आपेक्षित सहयोग पर चर्चा करते श्री सुरेश चव्हाणके जी

नई दिल्ली : राष्ट्र निर्माण संस्था के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी ने भारत की अखंडता बचाए और बनाए रखने के लिए एक महाभियान जिसे जनसंख्या नियंत्रण कानून का नाम दिया गया है , के लिए वो तमाम प्रयास और वो सभी कठिनाइयो को एक एक कर के आम जनमानस को बताया और विधिवत समझाया भी . इस अवसर पर तमाम गणमान्य लोगों ने श्री सुरेश चव्हाणके जी के एक एक शब्दों से शत प्रतिशत सहमति व्यक्त की और उनके साथ इस महाभियान को आगे बढाने का संकल्प लिया . श्री सुरेश चव्हाणके जी ने साफ़ शब्दों में सबको समझाते हुए इस लड़ाई को न सिर्फ वर्तमान की जरूरत बताया बल्कि भविष्य की बुनियाद के रूप में चित्रित किया .. प्रगति मैदान में चल रहे योगशाला महोत्सव के अंतिम दिन के खास कार्यक्रम में राष्ट्र निर्माण संगठन के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी ने शिरकत किया। वही योगशाला में आये हुए सभी आगुन्तको को संबोधित कर 70 दिवसीय 20 हजार किमी यात्रा के अनुभव को बताया। साथ हम दो हमारे दो तो सबके दो कानून को लाने के लिये जरूरी बताते हुए ज्यादा से ज्यादा हस्ताक्षर अभियान की मुहिम को सफल बनाने का सभी लोगों से आवाहन किया।।

दिल्ली के यमुना विहार में लगा "जनसंख्या नियंत्रण कानून" के लिए हस्ताक्षर शिविर. स्थानीय जनता उमड़ी अपनी सहमति देने के लिए

नई दिल्ली : भारत की एकता और अखंडता को बचाए और बनाये रखने के लिए बेहद जरूरी जनसंख्या नियंत्रण कानून के लिए राष्ट्र निर्माण संस्था के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी द्वारा छेड़ी गयी हम दो हमारे दो तो सबके दो की मुहिम ने अब धीरे धीरे राष्ट्रव्यापी रूप लेना शुरू कर दिया है . राष्ट्र के हर हिस्से से लोगों ने इसमें बढ़ चढ़ कर भाग लेना शुरू कर दिया है और देश के विभिन्न हिस्सों में जागरूक लोगों ने स्वयं से ही हस्ताक्षर अभियान के लिए खुले मंच और शिविर लगाने शुरू कर दिए हैं . इसी क्रम में आज नई दिल्ली के यमुना विहार इलाके में जनसंख्या नियंत्रण कानून के लिए हस्ताक्षर अभियान के लिए शिविर का आयोजन किया गया है जिसमे स्थानीय जनता ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया . "राष्ट्र निर्माण ट्रस्ट" द्वारा आयोजित *जनसंख्या नियंत्रण कानून* बनाने हेतु *हस्ताक्षर अभियान* की शुरुआत दिल्ली के *यमुना विहार सी ब्लॉक भगत सिंह पार्क में आयोजित किया गया। जहाँ सैकड़ो कि संख्या में लोगो ने भाग लिया। वही राष्ट्र निर्माण के वरिष्ठ कार्यकर्त्ता आशुतोष अभिलेख सुनील मौर्या, महंथ त्रिभुवन दास आदि कई प्रबुद्ध लोगों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया .

दिल्ली के प्रगति मैदान में लगा जनसंख्या नियंत्रण कानून के लिए हस्ताक्षर कैम्प जिसमे बढ़ चढ़ कर हिस्सा ले रहे लोग

नई दिल्ली : जनसंख्या नियत्रण क़ानून के दूसरे चरण में अब हस्ताक्षर अभियान की शुरुआत हुई है जिसमे विभिन्न इलाको में तमाम सम्मानित लोगों ने हस्ताक्षर अभियान का आरम्भ किया .. इसमें कई स्थानों पर कैनोपी और कई स्थलों पर जनसंपर्क आदि के माध्यम से स्थानीय लोगों को बढती जनसंख्या के कुप्रभावो से अवगत करवाया गया और लोगो से जनसंख्या नियत्रंण कानून के निर्माण में सहयोग और भागीदारी मांगी गयी . प्रगति मैदान में कैम्प लगाकर हस्ताक्षर अभियान शुरू। सैकड़ो कि संख्या में लोग हो रहे सम्मिलित . इस अभियान का प्रमुख उद्देश्य है समाज और राष्ट्र के विविध सरोकारों के साथ जनसंख्या नियंत्रण के लिए कानून बनाने हेतु सरकार को सहमत करना। राष्ट्र निर्माण ट्रस्ट के संस्थापक एवं मार्गदर्शक सुरेश चव्हाणके की भारत बचाओ महा अभियान राष्ट्र निर्माण संगठन के अथक प्रयासों और भारत परिक्रमा के बाद सामाजिक-सांस्कृतिक एवं राष्ट्रीय सरोकार के मिशन और देश की एकता-अखंडता को समर्पित है।

भारत बचाओ अभियान के द्वितीय चरण की बैठक, जगह जगह सिग्नेचर कैम्पेन लगाए जाए: सुरेश चव्हाणके

शिरडी: भारत बचाओ यात्रा के द्वितीय चरण की प्रथम बैठक शिरडी के केबी ग्रांड होटल में आयोजित हुई। जहां राष्ट्र निर्माण संगठन के महानायक श्री सुरेश चव्हाणके जी ने शिरडी में ट्रस्ट के सभी नियोजको के साथ एक बैठक कर हस्ताक्षर अभियान को जल्द से जल्द पूरा करने का आवाह्न किया। जगह जगह कैम्प लगाकर लोगों को इस मुहिम में जोड़ने की जन जागृति करने कि जरूरत अहम् बताई। वही संबोधन श्री सुरेश जी ने प्रथम चरण की 70 दिन तक चली इस 20 हजार किलोमीटर की यात्रा के अनुभव रखे। साथ ही इस मुहिम को और मजबूत कैसे बनाया जाय इस पर मार्गदर्शन किया। इस कार्यक्रम में आये हुए यात्रा के सभी नियोजको ने इस 20 हजार किलोमीटर की यात्रा के अनुभव बताये व यात्रा के दूसरे चरण की तैयारी पर कैसे जोर दिया जाय इस विषय पर विस्तार से चर्चा हुई। बैठक में यात्रा के महानायक श्री सुरेश चव्हाणके जी, संजय परदेशी जी अन्य सभी पदाधिकारी मौजूद रहे।

गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मिला राष्ट्रनिर्माण संगठन का प्रतिनिधिमण्डल, भारत बचाओ यात्रा संबन्धी ज्ञापन सौंपा

Delhi: जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए आयोजित श्भारत बचाओ महा रथयात्रा के प्रथम चरण के सम्पन्न होने पर राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके जी ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह से उनके आवास पर मिलकर उनको यात्रा सम्बन्धी ज्ञापन सौंपा। सुरेश जी ने यात्रा का विवरण देते हुए गृहमंत्री को बताया कि 20 हजार किलोमीटर की इस यात्रा में देश भर में लोगों ने धर्म जाति और सम्प्रदाय से ऊपर उठकर इस यात्रा को सम्पूर्ण समर्थन दिया। गृहमंत्री के साथ प्रतिनिधिमंडल की आधे घण्टे की बैठक में अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके जी के नेतृत्व में जनसँख्या नियंत्रण कानून के समर्थन में देश भर से 10 करोड़ लोगों के हस्ताक्षर संग्रह अभियान के बारे में गृहमंत्री राजनाथ सिंह जी को विस्तार से अवगत करवाया। इस दौरान गृहमंत्री ने प्रतिनिधिमण्डल की बातों को बहुत ही तल्लीनता से सुना और जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए हर तरह के सहयोग का वचन दिया। साथ ही गृहमंत्री ने सुरेश जी को बताया कि उन्हें भारत बचाओ महा रथयात्रा के बारे में मंत्रालय के पदाधिकारियों और विभिन्न संचार माध्यमों से लगातार सूचनाएं मिल रहीं थीं, और वो स्वयं इस यात्रा की पूरी स्थिति पर नज़र रख रहे थे। उन्होंने चव्हाणके जी सहित संगठन के सभी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं की इस ऐतिहासिक यात्रा के सफल समापन के लिए प्रशंसा की। जिसके बाद संगठन के अध्यक्ष सुरेश जी ने कहां कि आगामी मानसून सत्र में सरकार प्रस्तावित कानून के लिए आवश्यक पहल करेगी। कई सांसदों ने भी इस कानून के समर्थन की घोषणा कर रखी है। इस दौरान संगठन के प्रतिनिधिमण्डल में राष्ट्रनिर्माण के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके सुदर्शन आयुर्वेद की निदेशक माया चव्हाणके सह संयोजक कर्नल टीपीएस त्यागी कर्नल यूबी सिंह कर्नल शैलेन्द्र सिहं सह संयोजक विजय यादव प्रणव भाई हिन्दू आदि लोग शामिल थे।

श्री सुरेश चव्हाणके जी ने विशाल जनसभा को किया संबोधित, कहां - "युवाओं को जागरूक होना होगा हिंदुत्त्व को बचाना होगा"

Gaziabad/up: जनसंख्या नियंत्रण कानून के लिए भारत बचाओ द्वितीय चरण यात्रा की शुरुआत आज से हो गई है। शाहिबाबाद के आईएमई कॉलेज में विशाल जनसभा का आयोजन हुआ। सुरेश चव्हाणके जी ने छात्र – छात्राओं को देश की बढ़ती जनसंख्या से होने वाले खतरे से अवगत कराया। उन्होंने जनसभा को संबोधित करते हुए कहां कि देश में एक ऐसा कानून आना चाहिए, जिस कानून के बाद देश का विभाजन दोबारा नहीं होगा। और इसलिए 1992 में हमारे देश की सरकार ने हम दो हमारे दो का एक नारा दिया था, इस नारे का पालन सिर्फ हिदुंओं ने किया हैं। जहां जहां हिन्दू अल्पसंख्यक हुए हैं वहां विभाजनकारी तत्व मज़बूत हुए हैं और देश को बांटने की कोशिशें की हैं। 1947 में भारत का विभाजन धर्म के आधार पर ही हुआ था, लेकिन आज एक बार फिर से धर्म के आधार पर देश को विभाजित करने की मांग उठने लगी है। उन्होंने जनसँख्या असंतुलन को इसका जिम्मेदार बताते हुए कहा कि कठोर और प्रभावी जनसँख्या नियंत्रण कानून शीघ्र बनाकर इसे लागू नहीं किया गया तो जनसँख्या कई राज्यों में कभी बहुसंख्यक रहे हिन्दू अल्पसंख्यक हो चुके हैं। असंतुलन के कारण पूरे देश मे हिन्दू अल्पसंख्यक हो जाएंगे। 2029 के बाद कोई हिन्दू देश का प्रधानमंत्री नहीं बन पाएगा। देश के टुकड़े करने वाले तत्व मज़बूत होंगे। आज ही यह स्थिति है कि भारत तेरे टुकड़े होंगे का नारा देने वाले द्रोहियों का तथाकथित सेक्युलर पार्टियां और मीडिया समर्थन करतीं हैं। देश तोड़ने वाले नारे को अभिव्यक्ति की आज़ादी के नाम पर सही बताया जाता है। और हम दो हमारे दो तो सबके दो के समता मूलक नारे को सांप्रदायिक कहा जाता है। उन्होंने आगे कहा कि इतिहास गवाह है कि जब जब हिन्दू घटा है तब तब देश कमज़ोर हुआ है और इसे विभाजन का अभिशाप झेलना पड़ा है।लेकिन अब किसी भी कीमत पर देश को बंटने नहीं देंगे। देश की एक इंच भूमि भी अब देश से अलग नहीं होने देंगे चाहे इसके लिए जो हो जाये। उन्होंने कहा कि यह देश तभी तक सुरक्षित और धर्मनिरपेक्ष है जब तक हिन्दू बहुसंख्यक है। उन्होंने कहा कि दिल्ली की गद्दी पर कोई सुल्तान न बैठ सके इसके लिए देश में जनसँख्या का मौलिक अनुपात बने रहना चाहिए। उन्होंने लोगों को आगाह करते हुए कहा आज़ादी से पहले पाकिस्तान में भी बड़े बड़े मन्दिर और हिंदुओं के व्यावसायिक प्रतिष्ठान थे लेकिन आज उनपर हिंदुओं का कब्ज़ा नहीं है। उन्होंने कहा कि जनसँख्या नियंत्रण कानून देश और धर्म को बचाने की अंतिम लड़ाई है। उन्होंने कहा कि देश में नरेंद्र मोदी की सरकार है और इस समय देश का माहौ… ता की जय नहीं बोलूंगा। ऐसे लोग देश के लिए खतरा हैं ऐसे लोगो पर कार्यावाही होनी चाहिए। अंतिम लड़ाई है। उन्होंने कहा कि देश में नरेंद्र मोदी की सरकार है और इस समय देश का माहौल भी इस कानून के निर्माण के अनुकूल है। इसलिए इस समय इसके लिए सबको भरपूर प्रयास करना चाहिए। उन्होंने उज्जैन के लोगों से लाखों की संख्या में जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए हस्ताक्षर भेजने की अपील की। वहीं यात्रा के संयोजक मेजर जनरल एस पी सिन्हा ने सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि जनसँख्या असंतुलन के कारण आज देश एक बार फिर विभाजन की ओर बढ़ रहा है और देश की अखंडता खतरे में हैं, जब देश खतरे में हो तो एक फौजी कैसे आराम से रह सकता है। यही कारण है कि 70 साल की उम्र में एक रिटायर्ड फौजी अधिकारी अपनी आरामदेह जिंदगी को छोड़कर इस अभियान में लग गया है। ये आप लोगो को सबक लेने की बात है। संगठन के सह संयोजक वीर चक्र सम्मानित कर्नल टी पी एस त्यागी ने प्रस्तावित जनसँख्या नियन्त्रण कानून को समय की अनिवार्यता बताते हुए कहा कि इस कानून के बिना देश के अखण्डता की रक्षा सम्भव नहीं है। उन्होंने यात्रा के सफल संचालन के लिए लोगों से तन,मन, धन से सहायता करने की अपील की।

भारत बचाओ यात्रा के द्वितीय चरण का आज से आईएमई कालेज में शुभारंभ, महानायक श्री सुरेश जी ने देश में बढ़ती जनसंख्या के खतरे से छात्र - छात्राओं को अवगत कराया

gaziabad/up: "हम दो हमारे दो तो सबके दो" के नारे के साथ 18 फरवरी को जम्मू से शुरू हुई 70 दिवसीय "भारत बचाओ महा रथयात्रा" 26 राज्यों में लगभग 20 हज़ार किलोमीटर की दूरी तय कर पहला चरण संपन्न करते हुए दूसरे चरण का आगाज करते हुए देश भर के सभी विश्व विद्यालय एवं इंजीनिरिंग कॉलेज में युवाओं को जागरूक करने का संकल्प राष्ट्र निर्माण संगठन के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी ने लिया। वहीं इस अभियान की पहली शुरूआत गाजियाबाद के आईएमइ इंजीनियरिंग कालेज से हुई। आईएमई कॉलेज के वाइस चेयरमैन एच.पी गुप्ता ने भारत बचाओ अभियान के महानायक श्री सुरेश जी, और सह संयोजक जनरल एसपी सिन्हा जी, कर्नल टीपीएस त्यागी जी का फूल मालाओं के साथ भव्य स्वागत किया। कॉलेज के सभी छात्र भारत माता की जय घोष के नारे लगाते हुए सभा स्थल तक पहुंचे। जिसके बाद में राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके जी ने जनसभा को सम्बोधित करते हुए 70 दिनों की 20 हजार किलोमीटर की यात्रा के अनुभव के बारे में छात्र छात्राओं को बताया। देश भर का भारी समर्थन मिलने का आभार व्यक्त करते हुए श्री जी ने युवाओं को आगे बढ़कर आने का आवाहन किया। साथ ही बढ़ती जनसंख्या के प्रभावी कारणों को विस्तार से बताया।

भारत बचाओं महाअभियान के द्वितीय चरण का शुभांरभ, आईएमई कॉलेज में विशाल जनसभा का आयोजन

sahibabad: राष्ट्र निर्माण के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके जी के ने्तृत्व में “हम दो हमारे दो तो सबके दो” के नारे के साथ शुरु हुई जनसंख्या नियंत्रण कानून के लिए भारत बचाओ महारथ यात्रा के द्वितीय चरण की शुरुआत हो गई हैं। इसके तहत हस्ताक्षर अभियान की मुहीम भी जारी रहेगी। 28 अप्रैल शनिवार को आईएमई कालेज शाहिबावाद मे एक विशाल जनसभा का आयोजन रखा गया हैं। जिसमें सुरेश जी विश्वविधालय के छात्र - छात्राओं को संम्बोधित करेंगे। आपको बता दें कि प्रथम चरण की यात्रा का सफलतापूर्ण समापन जरुर हो चुका हैं लेकिन आन्दोलन अभी जारी हैं। और यह आन्दोलन तब तक जारी रहेगा, जब तक कि जनसंख्या नियंत्रण कानून बन नहीं जाता। तब तक इसी प्रकार से विशाल जनसभाएं होती रहेगी।

राजस्थान के जिस अलवर में सुरेश चव्हाणके जी ने उठाया था आबादी बढ़ा रहे अवैध घुसपैठियों का मुद्दा, उसी अलवर से गिरफ्तार हुए 33 बंगलादेशी

अलवर / राजस्थान : अभी मात्र 3 दिन पहले अलवर की यात्रा के दौरान एक बड़ी जनसभा में राष्ट्र निर्माण संस्था के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी ने खुले शब्दों में अलवर की जनता और अलवर के प्रशासन को भारत के अन्दर बेतहाशा बढ़ रहे अवैध बंगलादेशी और अवैध रोहिंग्या के बारे में चेताया था और बताया था कि जल्द ही ये भारत के लिए एक बड़े खतरे और हिन्दू समाज के लिए एक बड़ी विपत्ति के रूप में सामने आने वाले हैं . यदि आप बंगाल और असम को ही घुसपैठ प्रभावित मानते हैं तो यकीनन इस खबर के बाद आप के विचार बदल जायेंगे क्योकि बंगलादेश से सुदूर राजस्थान तक आ चुका है इस सक्रमण के चलते . उसी अलवर में सतर्क और चौक्कने प्रशासन ने आख़िरकार की है एक बड़ी कार्यवाही और भयमुक्त भारत के निर्माण में बड़ा कदम उठाते हुए दबोच लिया है 33 अवैध घुसपैठी बंगलादेशियो को जिनकी इतनी बड़ी संख्या जान कर खुद अलवर के वासी तो दूर राजस्थान के निवासी भी हैरान हो गये हैं . राजस्थान की ख़ुफ़िया एजेंसी और जिले की पुलिस ने ये कार्यवाही अलवर के नीमराना के माजरीकलां में अवैध रूप से रहे रहे 33 बांग्लादेशी नागरिकों को पुलिस ने पकड़ा है। इस पूरे मामले में घर का ही एक जयचंद पकड़ा गया है जो ईंट भट्टे का मालिक होने के बाद भी उन्हें छिपा कर केवल सस्ती मजदूरी के लालच में राष्ट्र के साथ इतनी बड़ी गद्दारी कर रहा था . फिलहाल वो तथाकथित जयचंद भी पूछताछ की जद में हैं . इस कार्यवाही के बाद हुई गिरफ्तारी ने न सिर्फ सुदर्शन न्यूज के कई बार किये गये दावों को शत प्रतिशत सही साबित कर दिया है अपितु राष्ट्र निर्माण संस्था के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी के हर सभा में बताये गये तथ्यों को सही ठहरा दिया है. इन अवैध बांग्लादेशी घुसपैठियों ने ई-मित्र संचालक से 400 रुपए में आधार कार्ड व अन्य पहचान पत्र बनवा लिए थे और यहां ईंट-भट्‌टा संचालक की पनाह में छिप कर रह रहे थे। रविवार को इंटेलीजेंस ब्यूरो और पुलिस की विशेष शाखा टीम ने भट्‌टे से इन्हें पकड़ लिया। ये लोग लगभग रोजाना बांग्लादेश में आईएसडी कॉल करते थे। इससे खुफिया एजेंसियों ने इन्हें ट्रैस कर लिया। महिला व बच्चों सहित सभी 33 बांग्लादेशी नागरिकों को शांतिभंग के आरोप में गिरफ्तार कर रविवार शाम नीमराना उपखंड मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया। जहां से उन्हें महिला व पुरुष जेलों में भेजा गया है।

सत्ता ने सुर में सुर मिलाये श्री सुरेश चव्हाणके जी के और आश्वासन दिया जल्द ही सख्त जनसंख्या नियंत्रण कानून के निर्माण का

नई दिल्ली : "हम दो हमारे दो तो सबके दो" के मिशन के साथ शुरू हुई भारत बचाओ यात्रा का आज आखिरी दिन था. राष्ट्र निर्माण ट्रस्ट के अध्यक्ष तथा सुदर्शन टीवी के चेयरमैन श्री सुरेश चव्हाणके जी के नेतृत्व में 18 फरवरी को जम्मू से शुरू हुई 20 हजार किलोमीटर की 70 दिवसीय भारत बचाओ महारथ यात्रा पूरे देश का भ्रमण करते हुए आज 22 अप्रैल को दिल्ली पहुँची, जहाँ ऐतिहासिक रामलीला मैदान में विशाल जनसमुदाय तथा कई महान विभूतियों की उपस्थिति में यात्रा की पूर्णाहुति संपन्न हुई. भारत बचाओ यात्रा के समापन समारोह में केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह, केन्द्रीय मंत्री रामदास आठवले, माँ कालका पीठाधीश्वर पूज्य सुरेन्द्रनाथ अवधूत जी महाराज, पूर्व मेजर जनरल एसपी सिन्हा, पूर्व कर्नल टीपीएस त्यागी तथा अन्य कई गणमान्य लोग उपस्थित रहे तथा भगवा रंग में रंगे विशाल रामलीला मैदान में उपस्थित जनसमुदाय को संबोधित किया. लोकप्रिय हिन्दू राष्ट्रवादी नेता तथा केन्द्रीय मंत्री श्री गिरिराज सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि ये यात्रा हिन्दुस्तान को आसुरी ताकतों से बचाने के अभियान में सबसे अहम् पड़ाव साबित होगी. उन्होंने कहा कि सुदर्शन टीवी के चेयरमैन श्री सुरेश चव्हाणके जी को धन्यवाद देता हूँ कि उन्होंने देश की सबसे विकराल समस्या को उठाया और जनता के सामने लाये. उन्होंने कहा कि में जनसंख्या नियंत्रण का समर्थन करता हूँ तथा भारत सरकार से इस कानून के लिए अपने स्तर पर प्रयास करूंगा. दुसरे केन्द्रीय मंत्री श्री रामदास आठवले ने संबोधित करते हुए कहा कि वह देश को बचाने के लिए चलाये गये इस महाभियान के लिए सुदर्शन चैनल तथा श्री सुरेश चव्हाणके जी का हार्दिक धन्यवाद तथा अभिनन्दन करते हैं. अठावले जी ने कहा कि आज देश में जितनी समस्याएं हैं उनमें सबसे महत्वपूर्ण समस्या बढ़ती हुई आबादी है. उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान सुरेश चव्हाणके जी का आभारी रहेगा जो उन्होंने इस विकराल समस्या को समझा, देश की जनता को इसके लिए जगाया तथा आज केंद्र सरकार के समक्ष अपनी आवाज उठाई कि हिन्दुस्तान अब जनसंख्या नियंत्रण कानून मांगता है. उन्होंने कहा कि में देश की जनता की इस आवाज को प्रधानमंत्री मोदी जी तक पहुचाऊंगा कि देश की जनता की आवाज को समझिये व देश को बचाने के लिए जनसँख्या नियंत्रण कानून लागू कीजिये.

यात्रा के दौरान हुई हर तकलीफ को भुला कर दिल्ली के रामलीला मैदान से सिर्फ राष्ट्ररक्षा का मंत्र दे गये श्री #SureshChavhannke जी

नई दिल्ली : जिस तरह से कश्मीर में हिन्दुओं पर अत्याचार हुए तथा उन्हें पलायन करना पड़ा, जिस तरह से कैराना से हिन्दुओं को पलायन करना पड़ा, जिस तरह से पश्चिम बंगाल, केरल तथा देश में कई अन्य जगहों पर कुछ मजहबी आक्रान्ताओं द्वारा हिन्दुओं का दमन हुआ तथा अभी भी हो रहा है, उससे साग संकेत मिल रहे हैं कि हिन्दुस्तान एक बार दिर से गुलामी की तरफ बढ़ रहा है, मुगलिया सल्तनत की तरफ बढ़ रहा है. हिंदुस्तान की सभ्यता, संस्कृति पर होते इन अत्याचारों को राष्ट्र निर्माण संस्था के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी सह न सके तथा देश को बचाने के लिए, हिंदुस्तान को मुगलिस्तान/पाकिस्तान बनने से बचाने के लिए देश में अलख जगाने के लिए निकल पड़े. हिंदुस्तान को बचाने के लिए "हम दो हमारे दो तो सबके दो" के मिशन के साथ 18 जनवरी को जम्मू से शुरू हुई 20 हजार किलोमीटर की 70 दिवसीय भारत बचाओ महारथ यात्रा आज अपने अंतिम पड़ाव पर देश की राजधानी दिल्ली पहुँची जहाँ रामलीला मैदान में यात्रा की पूर्णाहुति हुई. यात्रा के समापन समारोह को संबोधित करते हुए श्री सुरेश चव्हाणके जी ने कहा कि जब वह यात्रा को लेकर निकले थे तो उन्हें संशय था कि देश की जनता इस मिशन का साथ देगी या नहीं लेकिन यात्रा के शुरू होते ही सारे कयास, सारे संशय दूर गये जब देश की जनता ने इस यात्रा को हाथों हाथ लिया तथा उम्मीद से कही ज्यादा सहयोग तथा समर्थन दिया. उन्होंने कहा कि राष्ट्र रक्षा, राष्ट्र सेवा से बड़ा कुछ नहीं है बस यही सोचकर वह यात्रा लेकर निकले थे. श्री चव्हाणके जी ने कहा कि देश में बेतहाशा बढ़ती हुई जनसँख्या को अगर नहीं रोका गया तो वो दिन दूर नहीं जब हिंदुस्तान का मूल स्वरूप मिट जायेगा तथा अपना प्यारा हिंदुस्तान गजवा-ए-हिन्द बन जायेगा. उन्होंने कहा कि इस बढ़ती हुई आवादी में सर्वाधिक जनसंख्या मुस्लिम समुदाय की है. उन्होंने कहा कि अगर इसी गति से मुस्लिम समुदाय की जनसँख्या बढ़ती रही तो 2029 के बाद हिन्दुस्तान का प्रधानमंत्री कोई हिन्दू नहीं बन पायेगा. उन्होंने कहा कि इस देश की मूल सभ्यता बनी रहे, इस देश की मूल पहिचान, मूल संस्कृति बनी रहे इसके लिए जरूरी है कि देश में जनसँख्या असंतुलन को रोका जाये तथा हर वर्ग हर समुदाय के लिए दो बच्चों का कानून लाया जाये. श्री चव्हाणके जी ने कहा कि पूरे देश की यात्रा करके उन्होंने 10 करोड़ से ज्यादा लोगों के हस्ताक्षर इकट्ठे किये हैं तथा इन हस्ताक्षरों को वह देश के प्रधानमन्त्री मोदी जी को सौंपेगे तथा कहेंगे कि मोदी इस देश में लोकतंत्र है और लोकतंत्र जनता का होता है, जनता के लिए होता है और अब देश की जनता ने आपको ये हस्ताक्षर भेजे हैं तथा इसके माध्यम से देश की जनता अब दो बच्चों का कानून मांग रही है. उन्होंने कहा कि उन्हें विश्वास है कि प्रधानमन्त्री जी देश की जनता की भावनाओं को समझेंगे तथा ये कानून लायेंगे. अपने संबोधन के अंत में श्री सुरेश चव्हाणके जी ने देश की जनता का धन्यवाद करते हुए कहा कि देश विरोधी ताकतों ने इस यात्रा को रोकने के तमाम प्रयास किये लेकिन हिंदुस्तान की राष्ट्रवादी जनता की दृढ इच्छाशक्ति तथा बुलंद हौंसलों के आगे सारी आसुरी ताकतें ध्वस्त हो गयी तथा जनता के इसी प्यार, समर्थन तथा हौसले के दम पर आज यात्रा अपने अंतिम पडाव दिल्ली पहुँची है तथा सफल हुई है. उन्होंने कहा कि जनता की ये मेहनत व्यर्थ नहीं जायेगी तथा जनसंख्या नियंत्रण क़ानून आएगा.

राष्ट्र आज गवाह बना #जनसंख्या_नियंत्रण_कानून की ऐतिहासिक मांग का जब उमड़ा जनसैलाब दिल्ली के रामलीला मैदान पर श्री सुरेश चव्हाणके के नेतृत्व में

नई दिल्ली : भारत का हर कोना, हर नुक्कड़, ज्यादा आबादी होने का जीता जागता उदाहरण है। चाहे आप कहीं भी हों मेट्रो स्टेशन, हवाई अड्डा, रेलवे स्टेशन, सड़क, हाईवे, बस स्टाॅप, अस्पताल, शाॅपिंग माॅल, बाजार, मंदिर या फिर कोई सामाजिक या धार्मिक समारोह, आप इन सब जगहों को दिन के किसी भी समय भीड़ से भरा देख सकते हैं। इससे साफ पता चलता है कि देश में जनंसख्या कितनी ज्यादा है। सन् 2011 की जनगणना के अनुसार भारत की आबादी 1,210,193,422 है, जिसका अर्थ है कि भारत ने एक अरब के आंकड़े को पार कर लिया है। यह चीन के बाद दुनिया का सबसे ज्यादा आबादी वाला देश है और विभिन्न अध्ययनों से यह पता चला है कि सन् 2025 तक भारत चीन को भी पछाड़ देगा और विश्व का सबसे ज्यादा आबादी वाला देश बन जाएगा। इस तथ्य के बावजूद कि यहां जनसंख्या नीतियां, परिवार नियोजन और कल्याण कार्यक्रम सरकार ने शुरु किए हैं और प्रजनन दर में लगातार कमी आई है पर आबादी का वास्तविक स्थिरीकरण केवल 2050 तक ही हो पाएगा। अगर जल्द ही इस देश में जनसंख्या नियंत्रण के लिए कानून नहीं बनाया गया तो इस देश के लिए बढ़ती जनसंख्या विनाश का कारण बन सकती है। अफसोस की बात तो यह है कि इस कानून को कुछ कट्टरपंथी अपना मज़हबी अधिकार बता कर हंगामा मचा रहे हैं . देश की बढ़ती जनसंख्‍या को पर नियंत्रण लगाने के लिए भारत सरकार को जल्‍द ही सख्‍त कानून बनाना चाहिए। समय रहते जनसंख्‍या विस्‍फोट को रोका नहीं गया तो आने वाली पीढियां खाद्यान्‍न, जल सहित कई प्राथमिक संसाधनों और रोजगार के लिए तरसेगी। खतरा इस बात का भी है कि अभी ही देश में बहुत ज्‍यादा गरीबी और बेरोजगारी है। इस बात का इंतजार है कि भारत भी चीन की तरह ही जल्‍द ही एक बच्‍चा नीति को कानून के रूप में लागू करेगा। हमारे देश में 1960 के दशक के शुरू में एक आधिकारिक परिवार नियोजन कार्यक्रम लागू किया था। विश्व में ऐसा करने वाला भारत पहला देश था। मगर सरकार के लाख प्रयासों और देश के बजट का एक बड़ा भाग खर्च करने के बावजूद इस क्षेत्र में वांछित परिणाम हासिल नहीं किए जा सके। देश की आबादी आजादी के बाद चार गुना बढ़ गई। इसका कारण ये था कि केवल एक वर्ग ने अपनी आबादी को रोकने के लिए हर प्रयास किये लेकिन बच्चे ऊपर वाले की देन है जैसी बातें करने वाले तमाम मजहबी कट्टरपन्थियो ने इसको किसी भी समय नहीं माना और हिन्दू आबादी तेजी से घटती चली घई और वहीँ मुस्लिम आबादी तेजी से बढ़ी और कई स्थल ऐसे बन गये जहाँ अन्य मत धर्म के लोगों का दुश्वार हो गया . ऊपर के तमाम चुनौतीयो को भांप कर ही राष्ट्र निर्माण संस्था के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाण जी की जनसंख्या नियंत्रण क़ानून के लिए 18 फरवरी से 22 अप्रैल तक पूरे भारत की 20,000 किलोमीटर की यात्रा पर पूरा राष्ट्र भ्रमण करते हुए आख़िरकार आज अर्थात २२ अप्रैल २०१८ को नई दिल्ली में अपनी भारत बचाओ यात्रा के पहले चरण का समापन किया जिसमे देश के हर हिस्से से लोगों ने अपनी सक्रिय सहभागिता दर्ज की .. भारत के तमाम हिस्सों से आये लोगों के अलावा इसमें कई अप्रवासी मेहमान भी आये जो विदेश में रह कर भी भारत भूमि के प्रति अथाह प्रेम रखते हैं और अपनी मातृभूमि को किसी भी हाल में आक्रान्ताओं के हाथ में न जाने देने के प्रति संकल्पित हैं . आप सबका बहुत बहुत धन्यवाद इस महाभियान को सफल बनाने और 10 करोड़ के हस्ताक्षर युक्त अभिलेख भारत की सरकार को देने और इस बेहद जरूरी क़ानून को पास करवाने के लिए भरी जाने वाली हुंकार में साथी और सहयोगी बनने के लिए .

श्री सुरेश चव्हाणके जी के शब्द अब गूंज रहे सत्ता के गलियारों में. राजस्थान भाजपा विधायक का दावा "2030 के बाद हिन्दुस्थान नहीं देख पायेगा हिन्दू प्रधानमंत्री"

नई दिल्ली : राष्ट्र निर्माण ट्रस्ट के राष्ट्रीय अध्यक्ष तथा सुदर्शन टीवी के चेयरमैन श्री सुरेश चव्हाणके जी "हम दो हमारे दो तो सबके दो" के जिस मिशन के साथ भारत बचाओ यात्रा निकले, उस मिशन को, उस यात्रा को देश के राष्ट्रवादी लोगों का अपार समर्थन तथा सहयोग मिला. अपनी यात्रा के दौरान श्री शुरेश चव्हाणके जी ने तीव्र गति से देश की बढ़ती हुई आबादी से उत्पन होने वाली समस्याओं के बारे में देश को जाग्रत किया तथा इसके खिलाफ उठ खड़े होने होने का आह्वान किया, सुरेश जी की उसी बात को राजस्थान के अलवर से भाजपा विधायक बनवारी लाल सिंह सिंघल ने दोहराया है. श्री सुरेश चव्हाणके जी के शब्द अब सत्ता के गलियारों में गूँज रहे हैं. भाजपा विधायक बनवारी लाल सिंघल ने देश को चेताते हुए कहा कि अगर देश में जनसंख्या नियंत्रण कानून नहीं बना तथा इसी गति से जनसंख्या बढ़ती रही तो 2030 के बाद देश में कोई ही हिन्दू प्रधानमंत्री नहीं बन पायेगा. विधायक सिंघल ने कहा कि वर्ष 2030 के बाद देश की सत्ता पर मुसलमान काबिज हो जाएंगे. उन्होंने कहा कि अधिक बच्चे पैदा कर वे मुगलकाल वापस लाना चाहते हैं। विधायक बनवारी लाल सिंघल ने अलवर में पत्रकार वार्ता में कहा कि हिंदू समाज हम दो हमारे दो के नारे से भी नीचे आकर एक बच्चे पर सीमित हो रहा है वहीं मुसलमान वर्ष 2030 के बाद सत्ता में काबिज होने का लक्ष्य तय कर अपनी आबादी बढ़ा रहा है. उन्होंने आशंका जताई कि आने वाले सालों में देश में मुगलकाल जैसी स्थित हो जाएगी. विधायक ने कहा कि देश में एक कानून, एक विधान, एक प्रधान और एक निशान हो. उन्होंने कहा कि अगर हिंदुस्तान को हिन्दुस्तान बनाये रखना है तो देश की जनता को उठ खड़ा होना होगा तथा सरकार से दो बच्चों का कानून मांगना ही होगा. गौरतलब है कि जनसख्या नियंत्रण कानून की मांग को लेकर भारत बचाओ यात्रा की आज पूर्णाहुति है.

शांति काल मे जो अपना पसीना बहाते हैं, युद्ध काल मे उन्हें ख़ून नहीं बहाना पड़ता है, हिंदुओं ये संदेश हमारे लिए है - गुरुग्राम से श्री #SureshChavhanke

गुरुग्राम / हरियाण: "हम दो हमारे दो तो सबके दो" के नारे के साथ 18 फरवरी को जम्मू से शुरू हुई 70 दिवसीय "भारत बचाओ महा रथयात्रा" 24 राज्यों में लगभग 16 हज़ार किलोमीटर की दूरी तय करती हुई आज हरियाणा के गुरुग्राम शहर पहुंची जहां यात्रा का विभिन्न संगठनों और गणमान्य व्यक्तियों ने अभूतपूर्व स्वागत किया। गुरुग्राम में दर्जनों जगहों पर लोगों ने पुष्पवर्षा कर यात्रा का अभूतपूर्व स्वागत किया गया। भारत बचाओ महा रथयात्रा के गुरुग्राम शहर में प्रवेश करने पर स्थानीय लोग कई गाडीयो के साथ काफिले में शामिल होकर जुलूस निकलते हुए गौशाला मैदान सभा स्थल तक बन्दे मातरम के नारे लगाते हुए पहुचे। बाद में पूरे शहर में कई किलोमीटर तक विभिन्न सड़कों से चलकर यात्रा शहर के गौशाला मैदान पहुंची । जहा एक बड़ी जनसभा का आयोजन हुआ। यहां राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके, सुदर्शन आयुर्वेद की निदेशक माया चव्हाणके, यात्रा संयोजक मेजर जनरल एस पी सिन्हा,सह संयोजक कर्नल टी पी एस त्यागी, कर्नल यू बी सिंह, लेफ्टिनेंट मनोरंजन सिंह, हिंदुभूषण श्यामजी महाराज, यात्रा प्रभारी राजवीर चौधर, सहित यात्रा में शामिल सभी लोगों का गुरुग्राम शहर के स्वामी विवेकानंद जी, कन्हैया लाल आर्य, मेजर जनरल जीडी बक्शी, प्रमोद राघव जी, डॉ धर्मवीर राठी जी, संतोष सिंह शाहनी, सहित गणमान्य लोगों ने माल्यार्पण कर स्वागत किया। बाद में राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके ने सुभाष चौक पर जनसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि देश में अनियंत्रित जन्मदर और अवैध घुसपैठ के कारण देश मे उत्पन्न जनसँख्या असंतुलन देश की सम्प्रभुता के लिए अत्यंत खतरनाक और चिंताजनक है। उन्होंने आगे कहा कि इस असंतुलन के कारण कई राज्यों में कभी बहुसंख्यक रहे हिन्दू अल्पसंख्यक हो चुके हैं। जहां जहां हिन्दू अल्पसंख्यक हुए हैं वहां विभाजनकारी तत्व मज़बूत हुए हैं और देश को बांटने की कोशिशें की हैं। 1947 में भारत का विभाजन धर्म के आधार पर ही हुआ था लेकिन आज एक बार फिर से धर्म के आधार पर देश को विभाजित करने की मांग उठने लगी है। उन्होंने जनसँख्या असंतुलन को इसका जिम्मेदार बताते हुए कहा कि कठोर और प्रभावी जनसँख्या नियंत्रण कानून शीघ्र बनाकर इसे लागू नहीं किया गया तो जनसँख्या असंतुलन के कारण पूरे देश मे हिन्दू अल्पसंख्यक हो जाएंगे। 2029 के बाद कोई हिन्दू देश का प्रधानमंत्री नहीं बन पाएगा। देश के टुकड़े करने वाले तत्व मज़बूत होंगे। आज ही यह स्थिति है कि भारत तेरे टुकड़े होंगे का नारा देने वाले द्रोहियों का तथाकथित सेक्युलर पार्टियां और मीडिया समर्थन करतीं हैं। देश तोड़ने वाले नारे को अभिव्यक्ति की आज़ादी के नाम पर सही बताया जाता है। और हम दो हमारे दो तो सबके दो के समता मूलक नारे को सांप्रदायिक कहा जाता है। उन्होंने आगे कहा कि इतिहास गवाह है कि जब जब हिन्दू घटा है तब तब देश कमज़ोर हुआ है और इसे विभाजन का अभिशाप झेलना पड़ा है।लेकिन अब किसी भी कीमत पर देश को बंटने नहीं देंगे। देश की एक इंच भूमि भी अब देश से अलग नहीं होने देंगे चाहे इसके लिए जो हो जाये। उन्होंने कहा कि यह देश तभी तक सुरक्षित और धर्मनिरपेक्ष है जब तक हिन्दू बहुसंख्यक है। उन्होंने कहा कि दिल्ली की गद्दी पर कोई सुल्तान न बैठ सके इसके लिए देश में जनसँख्या का मौलिक अनुपात बने रहना चाहिए। उन्होंने लोगों को आगाह करते हुए कहा आज़ादी से पहले पाकिस्तान में भी बड़े बड़े मन्दिर और हिंदुओं के व्यावसायिक प्रतिष्ठान थे लेकिन आज उनपर हिंदुओं का कब्ज़ा नहीं है। उन्होंने कहा कि जनसँख्या नियंत्रण कानून देश और धर्म को बचाने की अंतिम लड़ाई है। उन्होंने कहा कि देश में नरेंद्र मोदी की सरकार है और इस समय देश का माहौल भी इस कानून के निर्माण के अनुकूल है। इसलिए इस समय इसके लिए सबको भरपूर प्रयास करना चाहिए। उन्होंने उज्जैन के लोगों से लाखों की संख्या में जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए हस्ताक्षर भेजने की अपील की। वहीं सभा में आए मेहमान मेजर जनरल जीडी बक्शी ने सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि जनसँख्या असंतुलन के कारण आज देश एक बार फिर विभाजन की ओर बढ़ रहा है और देश की अखंडता खतरे में है।और जब देश खतरे में हो तो एक फौजी कैसे आराम से रह सकता है। यही कारण है कि 70 साल की उम्र में एक रिटायर्ड फौजी अधिकारी अपनी आरामदेह जिंदगी को छोड़कर 20 हज़ार किलोमीटर की लंबी यात्रा पर आप सबों को जगाने निकल पड़ा है। श्री सिन्हा ने लोगों से अधिकतम संख्या में जनसँख्या नियंत्रण कानून के पक्ष में हस्ताक्षरित फार्म देने की अपील की। यात्रा के सह संयोजक वीर चक्र सम्मानित कर्नल टी पी एस त्यागी ने प्रस्तावित जनसँख्या नियन्त्रण कानून को समय की अनिवार्यता बताते हुए कहा कि इस कानून के बिना देश के अखण्डता की रक्षा सम्भव नहीं है। उन्होंने यात्रा के सफल संचालन के लिए लोगों से तन,मन, धन से सहायता करने की अपील की। ज्ञात हो कि 18 फरवरी को इस महा रथयात्रा की शुरुआत जम्मू से हुई थी। 62 दिनों की इस यात्रा में अबतक 24राज्यों में लगभग 17 हज़ार किलोमीटर की दूरी तय कर लाखों लोगों के हस्ताक्षरित ज्ञापन लिए जा चुके हैं। 22 अप्रैल को दिल्ली में यात्रा के समापन पर 10 करोड़ लोगों के हस्ताक्षरित ज्ञापन राष्ट्रपति महोदय को सौंप कर जनसँख्या नियंत्रण कानून बनाने के लिए आवश्यक कार्यवाही का आग्रह किया जाएगा। यात्रा अभी तक पंजाब, हरियाणा, हिमाचल, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, बंगाल, उड़ीसा, छत्तीसगढ़, आन्ध्र प्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु, पॉन्डिचेरी, केरल, कर्नाटक, महाराष्ट्र, गुजरात आदि राज्यों से गुजर चुकी है। आगे यह यात्रा राजस्थान, हरियाणा होकर राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली पहुँच कर जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए लोगों का समर्थन जुटाएगी।

राजस्थान अलवर ने ली शपथ श्री सुरेश चव्हाणके के साथ "देश नहीं बंटने देंगे, गाय नहीं कटने देंगे, हिन्दू न घटने देंगे"

अलवर / राजस्थान : भारत भर में जनसँख्या नियंत्रण कानून मांग का भारी समर्थन .. "हम दो हमारे दो तो सबके दो" के नारे के साथ 18 फरवरी को जम्मू से शुरू हुई 70 दिवसीय "भारत बचाओ महा रथयात्रा" 24 राज्यों में लगभग 16 हज़ार किलोमीटर की दूरी तय करती हुई आज राजस्थान के अलवर शहर पहुंची जहां यात्रा का विभिन्न संगठनों और गणमान्य व्यक्तियों ने अभूतपूर्व स्वागत किया। अलवर में दर्जनों जगहों पर लोगों ने पुष्पवर्षा कर यात्रा का अभूतपूर्व स्वागत किया गया। भारत बचाओ महा रथयात्रा के अलवर शहर में प्रवेश करने पर स्थानीय लोग कई गाडीयो के साथ काफिले में शामिल होकर जुलूस निकलते हुए प्रताप ऑडिटोरियम सभा स्थल तक बन्दे मातरम के नारे लगाते हुए पहुचे। बाद में पूरे शहर में कई किलोमीटर तक विभिन्न सड़कों से चलकर यात्रा शहर के प्रताप ऑडिटोरियम पहुंची । जहा एक बड़ी जनसभा का आयोजन हुआ। यहां राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके, सुदर्शन आयुर्वेद की निदेशक माया चव्हाणके, यात्रा संयोजक मेजर जनरल एस पी सिन्हा,सह संयोजक कर्नल टी पी एस त्यागी, कर्नल यू बी सिंह, लेफ्टिनेंट मनोरंजन सिंह, हिंदुभूषण श्यामजी महाराज, यात्रा प्रभारी राजवीर चौधर, सहित यात्रा में शामिल सभी लोगों का अलवर शहर के शहर के सदर विधायक बनवारी लाल सिंघल , जनसभा संयोजक विजय यादव, और कई वरिष्ट कार्यकर्ताओ सहित गणमान्य लोगों ने माल्यार्पण कर स्वागत किया। बाद में राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके ने सुभाष चौक पर जनसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि देश में अनियंत्रित जन्मदर और अवैध घुसपैठ के कारण देश मे उत्पन्न जनसँख्या असंतुलन देश की सम्प्रभुता के लिए अत्यंत खतरनाक और चिंताजनक है। उन्होंने आगे कहा कि इस असंतुलन के कारण कई राज्यों में कभी बहुसंख्यक रहे हिन्दू अल्पसंख्यक हो चुके हैं। जहां जहां हिन्दू अल्पसंख्यक हुए हैं वहां विभाजनकारी तत्व मज़बूत हुए हैं और देश को बांटने की कोशिशें की हैं। 1947 में भारत का विभाजन धर्म के आधार पर ही हुआ था लेकिन आज एक बार फिर से धर्म के आधार पर देश को विभाजित करने की मांग उठने लगी है। उन्होंने जनसँख्या असंतुलन को इसका जिम्मेदार बताते हुए कहा कि कठोर और प्रभावी जनसँख्या नियंत्रण कानून शीघ्र बनाकर इसे लागू नहीं किया गया तो जनसँख्या असंतुलन के कारण पूरे देश मे हिन्दू अल्पसंख्यक हो जाएंगे। 2029 के बाद कोई हिन्दू देश का प्रधानमंत्री नहीं बन पाएगा। देश के टुकड़े करने वाले तत्व मज़बूत होंगे। आज ही यह स्थिति है कि भारत तेरे टुकड़े होंगे का नारा देने वाले द्रोहियों का तथाकथित सेक्युलर पार्टियां और मीडिया समर्थन करतीं हैं। देश तोड़ने वाले नारे को अभिव्यक्ति की आज़ादी के नाम पर सही बताया जाता है। और हम दो हमारे दो तो सबके दो के समता मूलक नारे को सांप्रदायिक कहा जाता है। उन्होंने आगे कहा कि इतिहास गवाह है कि जब जब हिन्दू घटा है तब तब देश कमज़ोर हुआ है और इसे विभाजन का अभिशाप झेलना पड़ा है।लेकिन अब किसी भी कीमत पर देश को बंटने नहीं देंगे। देश की एक इंच भूमि भी अब देश से अलग नहीं होने देंगे चाहे इसके लिए जो हो जाये। उन्होंने कहा कि यह देश तभी तक सुरक्षित और धर्मनिरपेक्ष है जब तक हिन्दू बहुसंख्यक है। उन्होंने कहा कि दिल्ली की गद्दी पर कोई सुल्तान न बैठ सके इसके लिए देश में जनसँख्या का मौलिक अनुपात बने रहना चाहिए। उन्होंने लोगों को आगाह करते हुए कहा आज़ादी से पहले पाकिस्तान में भी बड़े बड़े मन्दिर और हिंदुओं के व्यावसायिक प्रतिष्ठान थे लेकिन आज उनपर हिंदुओं का कब्ज़ा नहीं है। उन्होंने कहा कि जनसँख्या नियंत्रण कानून देश और धर्म को बचाने की अंतिम लड़ाई है। उन्होंने कहा कि देश में नरेंद्र मोदी की सरकार है और इस समय देश का माहौल भी इस कानून के निर्माण के अनुकूल है। इसलिए इस समय इसके लिए सबको भरपूर प्रयास करना चाहिए। उन्होंने उज्जैन के लोगों से लाखों की संख्या में जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए हस्ताक्षर भेजने की अपील की। वहीं यात्रा के संयोजक मेजर जनरल एस पी सिन्हा ने सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि जनसँख्या असंतुलन के कारण आज देश एक बार फिर विभाजन की ओर बढ़ रहा है और देश की अखंडता खतरे में है।और जब देश खतरे में हो तो एक फौजी कैसे आराम से रह सकता है। यही कारण है कि 70 साल की उम्र में एक रिटायर्ड फौजी अधिकारी अपनी आरामदेह जिंदगी को छोड़कर 20 हज़ार किलोमीटर की लंबी यात्रा पर आप सबों को जगाने निकल पड़ा है। श्री सिन्हा ने लोगों से अधिकतम संख्या में जनसँख्या नियंत्रण कानून के पक्ष में हस्ताक्षरित फार्म देने की अपील की। यात्रा के सह संयोजक वीर चक्र सम्मानित कर्नल टी पी एस त्यागी ने प्रस्तावित जनसँख्या नियन्त्रण कानून को समय की अनिवार्यता बताते हुए कहा कि इस कानून के बिना देश के अखण्डता की रक्षा सम्भव नहीं है। उन्होंने यात्रा के सफल संचालन के लिए लोगों से तन,मन, धन से सहायता करने की अपील की। ज्ञात हो कि 18 फरवरी को इस महा रथयात्रा की शुरुआत जम्मू से हुई थी। 62 दिनों की इस यात्रा में अबतक 24राज्यों में लगभग 17 हज़ार किलोमीटर की दूरी तय कर लाखों लोगों के हस्ताक्षरित ज्ञापन लिए जा चुके हैं। 22 अप्रैल को दिल्ली में यात्रा के समापन पर 10 करोड़ लोगों के हस्ताक्षरित ज्ञापन राष्ट्रपति महोदय को सौंप कर जनसँख्या नियंत्रण कानून बनाने के लिए आवश्यक कार्यवाही का आग्रह किया जाएगा। यात्रा अभी तक पंजाब, हरियाणा, हिमाचल, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, बंगाल, उड़ीसा, छत्तीसगढ़, आन्ध्र प्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु, पॉन्डिचेरी, केरल, कर्नाटक, महाराष्ट्र, गुजरात आदि राज्यों से गुजर चुकी है। आगे यह यात्रा राजस्थान, हरियाणा होकर राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली पहुँच कर जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए लोगों का समर्थन जुटाएगी।

भारत से बड़े मन्दिर और व्यापारी कभी पाकिस्तान में थे लेकिन कट्टरपंथियों ने आबादी बढ़ा कर निगल लिया उन सबको - आगरा से श्री सुरेश चव्हाणके

आगरा / UP: "हम दो हमारे दो तो सबके दो" के नारे के साथ 18 फरवरी को जम्मू से शुरू हुई 70 दिवसीय "भारत बचाओ महा रथयात्रा" 24 राज्यों में लगभग 16 हज़ार किलोमीटर की दूरी तय करती हुई आज उत्तर प्रदेश के आगरा शहर पहुंची जहां यात्रा का विभिन्न संगठनों और गणमान्य व्यक्तियों ने अभूतपूर्व स्वागत किया। आगरा में दर्जनों जगहों पर लोगों ने पुष्पवर्षा कर यात्रा का अभूतपूर्व स्वागत किया गया। भारत बचाओ महा रथयात्रा के आगरा शहर में प्रवेश करने पर स्थानीय लोग कई गाडीयो के साथ काफिले में शामिल होकर जुलूस निकलते हुए संजय पैलेस शहीद पार्क सभा स्थल तक बन्दे मातरम के नारे लगाते हुए पहुचे। बाद में पूरे शहर में कई किलोमीटर तक विभिन्न सड़कों से चलकर यात्रा शहर के शहीद पार्क पहुंची । जहा एक बड़ी जनसभा का आयोजन हुआ। यहां राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके, सुदर्शन आयुर्वेद की निदेशक माया चव्हाणके, यात्रा संयोजक मेजर जनरल एस पी सिन्हा,सह संयोजक कर्नल टी पी एस त्यागी, कर्नल यू बी सिंह, लेफ्टिनेंट मनोरंजन सिंह, हिंदुभूषण श्यामजी महाराज, यात्रा प्रभारी राजवीर चौधरी, लेफ्टिनेंट मनोरंजन सिंह, क्षेत्रीय समन्वयक सचिन रावत, सहित यात्रा में शामिल सभी लोगों का सविता सैन समाज के कार्यकर्त्ता राज सविता, राजकुमार वर्मा, दुर्गेश पण्डे, अविनाश राना जी,हिन्दू जागरण के जीतेन्द्र प्रताप सिंह, जयपाल सिंह, कुलदीप ठाकुरजी, करतार सिंह बघेल, अशोक राजपूत, आगरा शहर के सहित कई गणमान्य लोगों ने माल्यार्पण कर स्वागत किया। बाद में राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके ने सुभाष चौक पर जनसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि देश में अनियंत्रित जन्मदर और अवैध घुसपैठ के कारण देश मे उत्पन्न जनसँख्या असंतुलन देश की सम्प्रभुता के लिए अत्यंत खतरनाक और चिंताजनक है। उन्होंने आगे कहा कि इस असंतुलन के कारण कई राज्यों में कभी बहुसंख्यक रहे हिन्दू अल्पसंख्यक हो चुके हैं। जहां जहां हिन्दू अल्पसंख्यक हुए हैं वहां विभाजनकारी तत्व मज़बूत हुए हैं और देश को बांटने की कोशिशें की हैं। 1947 में भारत का विभाजन धर्म के आधार पर ही हुआ था लेकिन आज एक बार फिर से धर्म के आधार पर देश को विभाजित करने की मांग उठने लगी है। उन्होंने जनसँख्या असंतुलन को इसका जिम्मेदार बताते हुए कहा कि कठोर और प्रभावी जनसँख्या नियंत्रण कानून शीघ्र बनाकर इसे लागू नहीं किया गया तो जनसँख्या असंतुलन के कारण पूरे देश मे हिन्दू अल्पसंख्यक हो जाएंगे। 2029 के बाद कोई हिन्दू देश का प्रधानमंत्री नहीं बन पाएगा। देश के टुकड़े करने वाले तत्व मज़बूत होंगे। आज ही यह स्थिति है कि भारत तेरे टुकड़े होंगे का नारा देने वाले द्रोहियों का तथाकथित सेक्युलर पार्टियां और मीडिया समर्थन करतीं हैं। देश तोड़ने वाले नारे को अभिव्यक्ति की आज़ादी के नाम पर सही बताया जाता है। और हम दो हमारे दो तो सबके दो के समता मूलक नारे को सांप्रदायिक कहा जाता है। उन्होंने आगे कहा कि इतिहास गवाह है कि जब जब हिन्दू घटा है तब तब देश कमज़ोर हुआ है और इसे विभाजन का अभिशाप झेलना पड़ा है।लेकिन अब किसी भी कीमत पर देश को बंटने नहीं देंगे। देश की एक इंच भूमि भी अब देश से अलग नहीं होने देंगे चाहे इसके लिए जो हो जाये। उन्होंने कहा कि यह देश तभी तक सुरक्षित और धर्मनिरपेक्ष है जब तक हिन्दू बहुसंख्यक है। उन्होंने कहा कि दिल्ली की गद्दी पर कोई सुल्तान न बैठ सके इसके लिए देश में जनसँख्या का मौलिक अनुपात बने रहना चाहिए। उन्होंने लोगों को आगाह करते हुए कहा आज़ादी से पहले पाकिस्तान में भी बड़े बड़े मन्दिर और हिंदुओं के व्यावसायिक प्रतिष्ठान थे लेकिन आज उनपर हिंदुओं का कब्ज़ा नहीं है। उन्होंने कहा कि जनसँख्या नियंत्रण कानून देश और धर्म को बचाने की अंतिम लड़ाई है। उन्होंने कहा कि देश में नरेंद्र मोदी की सरकार है और इस समय देश का माहौल भी इस कानून के निर्माण के अनुकूल है। इसलिए इस समय इसके लिए सबको भरपूर प्रयास करना चाहिए। उन्होंने उज्जैन के लोगों से लाखों की संख्या में जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए हस्ताक्षर भेजने की अपील की। वहीं यात्रा के संयोजक मेजर जनरल एस पी सिन्हा ने सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि जनसँख्या असंतुलन के कारण आज देश एक बार फिर विभाजन की ओर बढ़ रहा है और देश की अखंडता खतरे में है।और जब देश खतरे में हो तो एक फौजी कैसे आराम से रह सकता है। यही कारण है कि 70 साल की उम्र में एक रिटायर्ड फौजी अधिकारी अपनी आरामदेह जिंदगी को छोड़कर 20 हज़ार किलोमीटर की लंबी यात्रा पर आप सबों को जगाने निकल पड़ा है। श्री सिन्हा ने लोगों से अधिकतम संख्या में जनसँख्या नियंत्रण कानून के पक्ष में हस्ताक्षरित फार्म देने की अपील की। यात्रा के सह संयोजक वीर चक्र सम्मानित कर्नल टी पी एस त्यागी ने प्रस्तावित जनसँख्या नियन्त्रण कानून को समय की अनिवार्यता बताते हुए कहा कि इस कानून के बिना देश के अखण्डता की रक्षा सम्भव नहीं है। उन्होंने यात्रा के सफल संचालन के लिए लोगों से तन,मन, धन से सहायता करने की अपील की।ज्ञात हो कि 18 फरवरी को इस महा रथयात्रा की शुरुआत जम्मू से हुई थी। 61 दिनों की इस यात्रा में अबतक 24राज्यों में लगभग 17 हज़ार किलोमीटर की दूरी तय कर लाखों लोगों के हस्ताक्षरित ज्ञापन लिए जा चुके हैं। 22 अप्रैल को दिल्ली में यात्रा के समापन पर 10 करोड़ लोगों के हस्ताक्षरित ज्ञापन राष्ट्रपति महोदय को सौंप कर जनसँख्या नियंत्रण कानून बनाने के लिए आवश्यक कार्यवाही का आग्रह किया जाएगा। यात्रा अभी तक पंजाब, हरियाणा, हिमाचल, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, बंगाल, उड़ीसा, छत्तीसगढ़, आन्ध्र प्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु, पॉन्डिचेरी, केरल, कर्नाटक, महाराष्ट्र, गुजरात आदि राज्यों से गुजर चुकी है। आगे यह यात्रा राजस्थान, हरियाणा होकर राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली पहुँच कर जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए लोगों का समर्थन जुटाएगी।

पिंक सिटी कहा जाने वाला जयपुर रंगा था भगवा रंग में जब भारत बचाओ यात्रा ले कर पहुंचे श्री सुरेश चव्हाणके

जयपुर / राजस्थान : "हम दो हमारे दो तो सबके दो" के नारे के साथ 18 फरवरी को जम्मू से शुरू हुई 70 दिवसीय "भारत बचाओ महा रथयात्रा" 24 राज्यों में लगभग 16 हज़ार किलोमीटर की दूरी तय करती हुई आज राजस्थान राजधानी जयपुर ( पिंक सिटी) पहुंची जहां यात्रा का विभिन्न संगठनों और गणमान्य व्यक्तियों ने अभूतपूर्व स्वागत किया। जयपुर में दर्जनों जगहों पर लोगों ने पुष्पवर्षा कर यात्रा का अभूतपूर्व स्वागत किया गया। भारत बचाओ महा रथयात्रा के जयपुर शहर में प्रवेश करने पर स्थानीय लोग शामिल होकर सभा स्थल तक बन्दे मातरम के नारे लगाते हुए पहुचे। बाद में पूरे शहर में कई किलोमीटर तक विभिन्न सड़कों से चलकर यात्रा शहर के विश्कर्मा औधोगिग क्षेत्र रोड नं एक पहुंची । जहा एक बड़ी जनसभा का आयोजन हुआ। यहां राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके, सुदर्शन आयुर्वेद की निदेशक माया चव्हाणके, यात्रा संयोजक मेजर जनरल एस पी सिन्हा,सह संयोजक कर्नल टी पी एस त्यागी, कर्नल यू बी सिंह, लेफ्टिनेंट मनोरंजन सिंह, हिंदुभूषण श्यामजी महाराज, यात्रा प्रभारी राजवीर चौधरी, लेफ्टिनेंट मनोरंजन सिंह, क्षेत्रीय समन्वयक सचिन रावत, सहित यात्रा में शामिल सभी लोगों का जयपुर के दिनेश मित्तल, रिद्धकरण परसरामपुरिया, मुकेश कुमावत, राजेंद्र कुमावत, सहित कई गणमान्य लोगों ने माल्यार्पण कर स्वागत किया। बाद में राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके ने सुभाष चौक पर जनसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि देश में अनियंत्रित जन्मदर और अवैध घुसपैठ के कारण देश मे उत्पन्न जनसँख्या असंतुलन देश की सम्प्रभुता के लिए अत्यंत खतरनाक और चिंताजनक है। उन्होंने आगे कहा कि इस असंतुलन के कारण कई राज्यों में कभी बहुसंख्यक रहे हिन्दू अल्पसंख्यक हो चुके हैं। जहां जहां हिन्दू अल्पसंख्यक हुए हैं वहां विभाजनकारी तत्व मज़बूत हुए हैं और देश को बांटने की कोशिशें की हैं। 1947 में भारत का विभाजन धर्म के आधार पर ही हुआ था लेकिन आज एक बार फिर से धर्म के आधार पर देश को विभाजित करने की मांग उठने लगी है। उन्होंने जनसँख्या असंतुलन को इसका जिम्मेदार बताते हुए कहा कि कठोर और प्रभावी जनसँख्या नियंत्रण कानून शीघ्र बनाकर इसे लागू नहीं किया गया तो जनसँख्या असंतुलन के कारण पूरे देश मे हिन्दू अल्पसंख्यक हो जाएंगे। 2029 के बाद कोई हिन्दू देश का प्रधानमंत्री नहीं बन पाएगा। देश के टुकड़े करने वाले तत्व मज़बूत होंगे। आज ही यह स्थिति है कि भारत तेरे टुकड़े होंगे का नारा देने वाले द्रोहियों का तथाकथित सेक्युलर पार्टियां और मीडिया समर्थन करतीं हैं। देश तोड़ने वाले नारे को अभिव्यक्ति की आज़ादी के नाम पर सही बताया जाता है। और हम दो हमारे दो तो सबके दो के समता मूलक नारे को सांप्रदायिक कहा जाता है। उन्होंने आगे कहा कि इतिहास गवाह है कि जब जब हिन्दू घटा है तब तब देश कमज़ोर हुआ है और इसे विभाजन का अभिशाप झेलना पड़ा है।लेकिन अब किसी भी कीमत पर देश को बंटने नहीं देंगे। देश की एक इंच भूमि भी अब देश से अलग नहीं होने देंगे चाहे इसके लिए जो हो जाये। उन्होंने कहा कि यह देश तभी तक सुरक्षित और धर्मनिरपेक्ष है जब तक हिन्दू बहुसंख्यक है। उन्होंने कहा कि दिल्ली की गद्दी पर कोई सुल्तान न बैठ सके इसके लिए देश में जनसँख्या का मौलिक अनुपात बने रहना चाहिए। उन्होंने लोगों को आगाह करते हुए कहा आज़ादी से पहले पाकिस्तान में भी बड़े बड़े मन्दिर और हिंदुओं के व्यावसायिक प्रतिष्ठान थे लेकिन आज उनपर हिंदुओं का कब्ज़ा नहीं है। उन्होंने कहा कि जनसँख्या नियंत्रण कानून देश और धर्म को बचाने की अंतिम लड़ाई है। उन्होंने कहा कि देश में नरेंद्र मोदी की सरकार है और इस समय देश का माहौल भी इस कानून के निर्माण के अनुकूल है। इसलिए इस समय इसके लिए सबको भरपूर प्रयास करना चाहिए। उन्होंने उज्जैन के लोगों से लाखों की संख्या में जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए हस्ताक्षर भेजने की अपील की। वहीं यात्रा के संयोजक मेजर जनरल एस पी सिन्हा ने सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि जनसँख्या असंतुलन के कारण आज देश एक बार फिर विभाजन की ओर बढ़ रहा है और देश की अखंडता खतरे में है।और जब देश खतरे में हो तो एक फौजी कैसे आराम से रह सकता है। यही कारण है कि 70 साल की उम्र में एक रिटायर्ड फौजी अधिकारी अपनी आरामदेह जिंदगी को छोड़कर 20 हज़ार किलोमीटर की लंबी यात्रा पर आप सबों को जगाने निकल पड़ा है। श्री सिन्हा ने लोगों से अधिकतम संख्या में जनसँख्या नियंत्रण कानून के पक्ष में हस्ताक्षरित फार्म देने की अपील की। यात्रा के सह संयोजक वीर चक्र सम्मानित कर्नल टी पी एस त्यागी ने प्रस्तावित जनसँख्या नियन्त्रण कानून को समय की अनिवार्यता बताते हुए कहा कि इस कानून के बिना देश के अखण्डता की रक्षा सम्भव नहीं है। उन्होंने यात्रा के सफल संचालन के लिए लोगों से तन,मन, धन से सहायता करने की अपील की। ज्ञात हो कि 18 फरवरी को इस महा रथयात्रा की शुरुआत जम्मू से हुई थी। 60 दिनों की इस यात्रा में अबतक 24राज्यों में लगभग 17 हज़ार किलोमीटर की दूरी तय कर लाखों लोगों के हस्ताक्षरित ज्ञापन लिए जा चुके हैं। 22 अप्रैल को दिल्ली में यात्रा के समापन पर 10 करोड़ लोगों के हस्ताक्षरित ज्ञापन राष्ट्रपति महोदय को सौंप कर जनसँख्या नियंत्रण कानून बनाने के लिए आवश्यक कार्यवाही का आग्रह किया जाएगा। यात्रा अभी तक पंजाब, हरियाणा, हिमाचल, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, बंगाल, उड़ीसा, छत्तीसगढ़, आन्ध्र प्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु, पॉन्डिचेरी, केरल, कर्नाटक, महाराष्ट्र, गुजरात आदि राज्यों से गुजर चुकी है। आगे यह यात्रा राजस्थान, हरियाणा होकर राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली पहुँच कर जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए लोगों का समर्थन जुटाएगी।

13 साल की आयु में बना दी गयी मां, अब तक 38 बच्चे पैदा कराए गये... इसी पीड़ा के खिलाफ ही निकली है भारत बचाओ यात्रा

युगांडा / अफ्रीका : राष्ट्र निर्माण ट्रस्ट के अध्यक्ष तथा सुदर्शन टीवी के चेयरमैन श्री सुरेश चव्हाणके जी के नेतृत्व में "हम दो हमारे दो तो सबके दो" के मिशन के साथ शुरू हुई भारत बचाओ यात्रा अब अपने अंतिम चरण में पहुँच चुकी है. 18 फरवरी को हिंदुस्तान के मुकुट जम्मू की धरती से शुरू हुई 20 हजार किलोमीटर की 70 दिवसीय भारत बचाओ यात्रा कन्याकुमारी होते हुए 22 अप्रैल को दिल्ली के ऐतिहासिक रामलीला मैदान में अपना आख़िरी पड़ाव पूरा करेगी. भारत बचाओ यात्रा का उद्देश्य बढ़ती हुई जनसंख्या को रोकना है ताकि देश प्रगति के पथ पर आगे बढ़ सके तथा देश में संसाधनों की कोई कमी न हो व् राष्ट्र की मूल संस्कृति बची रही. आज के प्रगतिशाली युग में भी ऐसी विकृत मानसिकता के लोग मौजूद हैं जो महिलाओं को उपभोग की वास्तु समझते हैं, बच्चा पैदा करने की मशीन समझते हैं. महिलाओं के साथ हो रहे इन अत्याचारों को रोकने के लिए ही भारत बचाओ यात्रा निकाली जा रही है. आज हम आपको एक ऐसी महिला के बारे में बताने जा रहे हैं जिसकी मात्र 12 वर्ष की आयु में शादी कर दी गयी थी तथा आज उसके 38 बच्चे हैं. दुनिया में किसी भी औरत के लिए मां बनना सबसे बड़ा सुख माना गया है. बेशक मां बनने का एहसास किसी भी महिला के लिए सबसे खास होता है, लेकिन औरत की यही खूबी अगर उसकी मजबूरी बन जाए, उसको केवल बच्चे पैदा करने की मशीन समझा जाये तथा जबरन बच्चे पैदा कराए जाएँ तब फिर लगता है कि ,महिलाओं पर हो रहे इन अत्याचारों के खिलाफ उठ खड़े होने की जरूरत है. गौरतलब है कि युगांडा के मुकोनो जिले के कबिम्बिरी गांव की रहने वाली मरियम नबातांजी की शादी मात्र 12 वर्ष की आयु में ही कर दी गयी थी तथा 13 वर्ष की आयु में मरियम ने 1 पहले बच्चे को जन दिया था. इसके बाद मरियम की ससुराल में मरियम को बच्चे पैदा की मशीन समझा गया तथा आज जहाँ मरियम की आयु 37 वर्ष हैं वहीं उनके 38 बच्चे हैं. इस सीमित आयु में इतने बच्चे पैदा करने में मरियम को असहनीय पीड़ा झेलनी पड़ी और मरियम ने अब तक 6 बार जुड़वां, 4 बार तिड़वां और 3 बार चुड़वा तथा 2 बार 1-1 बच्चे को जन्म दिया है. आपको बता दें कि युगांडा में मुस्लिम आबादी दुसरे नम्बर पर है. मरियम की पीड़ा को ज़रा एक बार महसूस करके तो देखिये कि किस तरह एक महिला को सिर्फ बच्चे पैदा करने के कम में लगाया गया था उनकी जिन्दगी को तबाह किया गया. हिन्दुस्तान में बहुत सी ऐसी जगह हैं जहाँ महिलाओं पर इसी तरह जुल होते हैं तथा उन्हें घर की चारदीवारी में कैदा करके रखा जता है तथा उन्हें भी मरियम की तरह प्रताड़ित किया जाता है. लेकिन अब ऐसा नहीं होने दिया जाएगा, महिलाओं पर अत्याचार स्वीकार नहीं किये जायेंगे तथा जिस तरह से भारत बचाओ यात्रा को देश की जनता का साथ मिला है उसे देखते हुए देश की सरकार को जनसंख्या नियंत्रण कानून लाना ही पड़ेगा.

नरेन्द्र मोदी के दरबार तक गूंजी है जनसंख्या नियंत्रण क़ानून के लिए सुरेश चव्हाणके जी की मुहिम. आबादी नियंत्रित करने वाले राज्यों को विशेष सुविधा

नई दिल्ली : जिस आवाज को ले कर राष्ट्र निर्माण संस्था के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी ने जम्मू से 20 हजार किलोमीटर की यात्रा का उद्घोष किया था जो देश के हर हिस्से और हर कोने में लोगों को जगाती हुई और जनंसख्या रोकथाम की वजह बताती हुयी निकली थी अब उसके सकारात्माक परिणाम आने शुरू हो गये हैं और कहना गलत नहीं होगा कि अब वो मांग मोदी के दरबार में गूँज रही है जिस पर केंद्र सरकार भी संजीदगी से सोच और विचार कर रही है . ज्ञात हो कि भारत बचाओ यात्रा की मुहिम तब रंग लाइ जब खुद केंद्र सरकार ने घोषणा की उन राज्यों को सुविधा देने की जो जनसंख्या की रोकथाम पर अमल करेंगे . प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ट्वीट में लिखा कि केंद्र सरकार ने वित्त आयोग को उन राज्यों को प्रोत्साहित करने के लिए सुझाव दिया है, जो जनसंख्या नियंत्रण पर काम कर चुके हैं। इस प्रकार, तमिलनाडु जैसे राज्य जिसने इस क्षेत्र में बहुत प्रयास किए हैं, उन्हें जनसंख्या नियंत्रण के लिए ऊर्जा और संसाधन निश्चित रूप से लाभा होगा। पीएम मोदी की यह टिप्पणी इसलिए अहम है कि भारत की आबादी तेजी से बढ़ रही है। आबादी के मामले में चीन के बाद भारत दूसरे स्थान पर है। मगर, जिस तेजी से भारत में आबादी बढ़ रही है, वह दिन दूर नहीं जब चीन को भारत पीछे छोड़ देगा। इसका प्रतिकूल असर प्राकृतिक संसाधनों पर पड़ेगा। इसके साथ ही जनसंख्या विस्फोट के शुरुआती प्रभाव बेरोजगारी, गरीबी, निरक्षरता, खराब स्वास्थ्य, प्रदूषण और ग्लोबल वार्मिंग के रूप में सामने आने लगे हैं। इसे देखते हुए बीते दिनों जनसंख्या नियंत्रण के लिए सुप्रीम कोर्ट में तीन अलग-अलग याचिकाएं भी दायर की जा चुकी हैं। याचिकाओं में कहा गया है कि केंद्र सरकार दो बच्चों की नीति अपनाते हुए जनसंख्या नियंत्रण के कड़े उपाए सुनिश्चित करे। इसका पालन करने वालों को सम्मानित और विफल होने वालों को दंडित करने की मांग की गई है। भारत का सबसे बड़ा शहर मुंबई है, जिसकी आबादी 1.25 करोड़ है। दूसरे नंबर पर दिल्ली है, जहां करीब 1.1 करोड़ लोग रहते हैं। अन्य प्रमुख शहरों में बंगलौर 84.3 लाख, हैदराबाद 68.1 लाख, और अहमदाबाद 55.7 लाख है। कुल मिलाकर भारत में 50 से अधिक शहरी क्षेत्र हैं, जिनकी आबादी 10 लाख से अधिक है। अगर राज्यों की बात करें, तो भारत को 29 राज्यों में सबसे अधिक जनसंख्या उत्तर प्रदेश में निवास करती है। यूपी में करीब 20 करोड़ लोग रहते हैं। यह दुनिया के अधिकांश देशों से बड़ा है। अगर यूपी एक देश होता, तो आबादी के लिहाज से यह चीन, भारत, संयुक्त राज्य और इंडोनेशिया के बाद दुनिया का पांचवा बड़ा देश होता। वहीं, सबसे कम आबादी वाला राज्य सिक्किम है, जहां पांच लाख लोग रहते हैं। भारत साल 1952 में परिवार नियोजन अपनाने वाला दुनिया का पहला देश था। फिर भी जनसंख्या विस्फोट की समस्या खत्म नहीं हुई है। अगर यही स्थिति बनी रही, तो भारत 2024 तक चीन को आबादी के मामले में पीछे छोड़ देगा।केरल में जन्मदर लगभग एक समान 1.56 है। उत्तर प्रदेश और बिहार ऐसे दो राज्य हैं, जो भारत की आबादी का एक चौथाई हिस्सा बनाते हैं। यहां प्रजनन दर क्रमशः 2.74 और 3.41 है, जो पूरे देश में सर्वाधिक है। सबसे कम प्रजनन दर 1.17 सिक्किम की है। वहीं, दक्षिण भारत की बात करें, तो वहां भी प्रजनन दर काफी कम है. नतीजतन साल 1951 में तमिलनाडु की जनसंख्या बिहार की तुलना में थोड़ा अधिक थी। मगर, 60 साल बाद बिहार की जनसंख्या तमिलनाडु से लगभग 1.5 गुना है। मध्य प्रदेश में 1951 में केरल की तुलना में 37 फीसद अधिक आबादी थी, जो 2011 की जनगणना में बढ़कर 217 फीसद हो गई है।

अकबर के अरमान दफन करने वाला राजस्थान एक बार फिर दफन करेगा आबादी बढ़ा कर भारत जीतना चाह रहे कट्टरपन्थियो के मंसूबे - श्री सुरेश चव्हाणके विदासर से

विदासर / राजस्थान : "हम दो हमारे दो तो सबके दो" के नारे के साथ 18 फरवरी को जम्मू से शुरू हुई 70 दिवसीय "भारत बचाओ महा रथयात्रा" 24 राज्यों में लगभग 16 हज़ार किलोमीटर की दूरी तय करती हुई आज राजस्थान प्रान्त के चुरू जनपद के विदासर तहसील पहुंची जहां यात्रा का विभिन्न संगठनों और गणमान्य व्यक्तियों ने अभूतपूर्व स्वागत किया। विदासर में दर्जनों जगहों पर लोगों ने पुष्पवर्षा कर यात्रा का अभूतपूर्व स्वागत किया गया। भारत बचाओ महा रथयात्रा के विदासर शहर में प्रवेश करने पर स्थानीय लोग कई किलोमीटर लंबे जुलस के रूप में हज़ारों की संख्या में अपने वाहनों के साथ यात्रा में शामिल हुए । बाद में पूरे शहर में कई किलोमीटर तक विभिन्न सड़कों से चलकर यात्रा शहर के तेरी चौक पहुंची जहां माध्यमिक स्कूल के मैदान एक बड़ी जनसभा का आयोजन हुआ। यहां राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके, सुदर्शन आयुर्वेद की निदेशक माया चव्हाणके, यात्रा संयोजक मेजर जनरल एस पी सिन्हा,सह संयोजक कर्नल टी पी एस त्यागी, कर्नल यू बी सिंह, लेफ्टिनेंट मनोरंजन सिंह, हिंदुभूषण श्यामजी महाराज, यात्रा प्रभारी राजवीर चौधरी, लेफ्टिनेंट मनोरंजन सिंह, क्षेत्रीय समन्वयक सचिन रावत, सहित यात्रा में शामिल सभी लोगों का विदासर के संत महामंडेश्वर मेलदास महाराज जी, श्री शंकर लाल सोनी, जगदीश प्रसाद सोनी, प्रह्लादराज पुरोहित, अजय जी सहित कई गणमान्य लोगों ने माल्यार्पण कर स्वागत किया। बाद में राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके ने सुभाष चौक पर जनसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि देश में अनियंत्रित जन्मदर और अवैध घुसपैठ के कारण देश मे उत्पन्न जनसँख्या असंतुलन देश की सम्प्रभुता के लिए अत्यंत खतरनाक और चिंताजनक है। उन्होंने आगे कहा कि इस असंतुलन के कारण कई राज्यों में कभी बहुसंख्यक रहे हिन्दू अल्पसंख्यक हो चुके हैं। जहां जहां हिन्दू अल्पसंख्यक हुए हैं वहां विभाजनकारी तत्व मज़बूत हुए हैं और देश को बांटने की कोशिशें की हैं। 1947 में भारत का विभाजन धर्म के आधार पर ही हुआ था लेकिन आज एक बार फिर से धर्म के आधार पर देश को विभाजित करने की मांग उठने लगी है। उन्होंने जनसँख्या असंतुलन को इसका जिम्मेदार बताते हुए कहा कि कठोर और प्रभावी जनसँख्या नियंत्रण कानून शीघ्र बनाकर इसे लागू नहीं किया गया तो जनसँख्या असंतुलन के कारण पूरे देश मे हिन्दू अल्पसंख्यक हो जाएंगे। 2029 के बाद कोई हिन्दू देश का प्रधानमंत्री नहीं बन पाएगा। देश के टुकड़े करने वाले तत्व मज़बूत होंगे। आज ही यह स्थिति है कि भारत तेरे टुकड़े होंगे का नारा देने वाले द्रोहियों का तथाकथित सेक्युलर पार्टियां और मीडिया समर्थन करतीं हैं। देश तोड़ने वाले नारे को अभिव्यक्ति की आज़ादी के नाम पर सही बताया जाता है। और हम दो हमारे दो तो सबके दो के समता मूलक नारे को सांप्रदायिक कहा जाता है। उन्होंने आगे कहा कि इतिहास गवाह है कि जब जब हिन्दू घटा है तब तब देश कमज़ोर हुआ है और इसे विभाजन का अभिशाप झेलना पड़ा है।लेकिन अब किसी भी कीमत पर देश को बंटने नहीं देंगे। देश की एक इंच भूमि भी अब देश से अलग नहीं होने देंगे चाहे इसके लिए जो हो जाये। उन्होंने कहा कि यह देश तभी तक सुरक्षित और धर्मनिरपेक्ष है जब तक हिन्दू बहुसंख्यक है। उन्होंने कहा कि दिल्ली की गद्दी पर कोई सुल्तान न बैठ सके इसके लिए देश में जनसँख्या का मौलिक अनुपात बने रहना चाहिए। उन्होंने लोगों को आगाह करते हुए कहा आज़ादी से पहले पाकिस्तान में भी बड़े बड़े मन्दिर और हिंदुओं के व्यावसायिक प्रतिष्ठान थे लेकिन आज उनपर हिंदुओं का कब्ज़ा नहीं है। उन्होंने कहा कि जनसँख्या नियंत्रण कानून देश और धर्म को बचाने की अंतिम लड़ाई है। उन्होंने कहा कि देश में नरेंद्र मोदी की सरकार है और इस समय देश का माहौल भी इस कानून के निर्माण के अनुकूल है। इसलिए इस समय इसके लिए सबको भरपूर प्रयास करना चाहिए। उन्होंने उज्जैन के लोगों से लाखों की संख्या में जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए हस्ताक्षर भेजने की अपील की। वहीं यात्रा के संयोजक मेजर जनरल एस पी सिन्हा ने सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि जनसँख्या असंतुलन के कारण आज देश एक बार फिर विभाजन की ओर बढ़ रहा है और देश की अखंडता खतरे में है।और जब देश खतरे में हो तो एक फौजी कैसे आराम से रह सकता है। यही कारण है कि 70 साल की उम्र में एक रिटायर्ड फौजी अधिकारी अपनी आरामदेह जिंदगी को छोड़कर 20 हज़ार किलोमीटर की लंबी यात्रा पर आप सबों को जगाने निकल पड़ा है। श्री सिन्हा ने लोगों से अधिकतम संख्या में जनसँख्या नियंत्रण कानून के पक्ष में हस्ताक्षरित फार्म देने की अपील की। यात्रा के सह संयोजक वीर चक्र सम्मानित कर्नल टी पी एस त्यागी ने प्रस्तावित जनसँख्या नियन्त्रण कानून को समय की अनिवार्यता बताते हुए कहा कि इस कानून के बिना देश के अखण्डता की रक्षा सम्भव नहीं है। उन्होंने यात्रा के सफल संचालन के लिए लोगों से तन,मन, धन से सहायता करने की अपील की। ज्ञात हो कि 18 फरवरी को इस महा रथयात्रा की शुरुआत जम्मू से हुई थी। 59 दिनों की इस यात्रा में अबतक 24राज्यों में लगभग 16हज़ार किलोमीटर की दूरी तय कर लाखों लोगों के हस्ताक्षरित ज्ञापन लिए जा चुके हैं। 22 अप्रैल को दिल्ली में यात्रा के समापन पर 10 करोड़ लोगों के हस्ताक्षरित ज्ञापन राष्ट्रपति महोदय को सौंप कर जनसँख्या नियंत्रण कानून बनाने के लिए आवश्यक कार्यवाही का आग्रह किया जाएगा। यात्रा अभी तक पंजाब, हरियाणा, हिमाचल, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, बंगाल, उड़ीसा, छत्तीसगढ़, आन्ध्र प्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु, पॉन्डिचेरी, केरल, कर्नाटक, महाराष्ट्र, गुजरात आदि राज्यों से गुजर चुकी है। आगे यह यात्रा राजस्थान, हरियाणा होकर राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली पहुँच कर जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए लोगों का समर्थन जुटाएगी।

भारत बचाओ यात्रा में राजस्थान का बीदासर बना अभूतपूर्व रोड शो का गवाह.. हर जुबान पर जनसंख्या नियंत्रण कानून की चर्चा

बीदासर / राजस्थान : भारत बचाओ यात्रा के बीदासर पड़ाव में श्री सुरेश चव्हाणके जी के नेतृत्व में भव्य रोड शो का अयोजन किया गया है . इस अवसर पर श्री सुरेश चव्हाणके जी के साथ भारत बचाओ यात्रा के सभी सहयात्री राजस्थानी परिवेश में दिखे और जनता ने उनको अपने जिले में आने पर दिल खोल कर स्वागत किया . बीदासर में आयोजित रोड शो से पहले श्री सुरेश चव्हाणके जी ने उन सभी राजस्थानी वीरों को याद किया जिन्होंने स्वतंत्रता से पहले और स्वतंत्रता के बाद भारत की एकता और अखंडता को बचाए और बनाये रखने के लिए अपने प्राणों की आहुति दी है . राष्ट्र निर्माण संस्था के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी ने राजस्थान के उन सभी वीरो को नमन किया जिन्होंने हत्यारे खिलजी , धूर्त अकबर आदि जल्लादों से लड़ कर और अपने बलिदान दे कर हिंदुत्व के साथ राष्ट्र का गौरव जीवित रखा . बीदासर की जनता को उनके अभूतपूर्व स्वागत और सम्मान देने के लिए सुरेश चव्हाणके जी ने धन्यवाद भी बोला और उनके साथ मिल कर राजस्थान की हर समस्या से लड़ने का विश्वास भी दिलाया . इस अवसर पर कई वाहनों का काफिला था जिसमे हम दो हमारे दो तो सबके दो के नारों के साथ भारत माता की जय और वन्देमातरम के नारे गूंजते रहे .

19 अप्रैल का पड़ाव है आगरा जहाँ तेजी से पनप रहा मज़हबी कट्टरपंथ . दीजिये अपनी सहभागिता

आगरा : ये वो आगरा है जहाँ तेजोमहालय को हम से छीन कर उसको ताजमहल का नाम दे दिया गया .. उस स्थान पर नमाज तो हो सकती है लेकिन भगवा वस्त्र उतार लिए जाते हैं . यहाँ पर गौ वध और साम्प्रदायिक उन्माद आदि की ख़बरें आम हैं जिसमे लव जिहाद जैसी गंभीर समस्याएं भी शामिल हैं . कई बार इस स्थाने के उन्मादियों ने धार्मिक सत्ता को चुनौती देते हुए भारत के कानून के रक्षको को भी ललकारा है जिसका जवाब केवल कडा कानून ही दे सकता है . यदि समय रहते उन्मादियो की बेतहाशा बढती संख्या काबू न की गयी तो निश्चित तौर पर जो क्षेत्र पहले अतिप्रभावित होंगे उनमे से आगरा प्रमुख रूप से अग्रणी होगा . चलिए मिलते हैं आप से आगरा में और संकल्प लेते हैं हमारी विरासत को बचाने का .. मिलिए श्री सुरेश चव्हाणके जी से आगरा में इसी 19 अप्रैल को .. आगरा में शामिल होने के लिए सम्पर्क कीजिए - 08755285832

असीमानंद जी को भगवा आतंकवाद बोलने वालों ने कभी जनसंख्या आतंकवाद पर एक भी शब्द क्यों नहीं बोला - सुरेश चव्हाणके

जोधपुर / राजस्थान : भारत बचाओ यात्रा के जोधपुर पड़ाव में श्री सुरेश चव्हाणके जी ने जोधपुर में आम जनमानस को आंदोलित करते हुए एकतरफा बढ़ रही आबादी के कट्टरपंथी समर्थको को सीधे सीधे जनसंख्या जिहाद का नाम दिया . जनसंख्या को बढा कर राष्ट्र को कब्ज़ा करने के मंसूबे पाले तमाम कट्टरपंथियों को सीधे सीधे चुनौती देते हुए राष्ट्र निर्माण संस्था के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी ने जब जोधपुर के राष्ट्रभक्तो से पूछा कि किया वो दिल्ली की गद्दी पर एक बार फिर से खिलजी को देखना चाहते हैं तो आम जनमानस ने एक स्वर में हाथ उठा कर न कहा और खिलजी को रोकने के लिए सुरेश चव्हाणके जी के हर प्रयासों में साझीदारी निभाने की बात कही . सुरेश चव्हाणके जी ने इस अवसर पर इस पूरी यात्रा में आने वाली तमाम समस्या और दिक्कतों का वर्णन किया और बताया कि किस प्रकार से जम्मू से उन्हें रोकने की कोशिश की गयी . कभी कट्टरपंथी रशीद इंजीनियर के द्वारा तो कभी सरकारी रूप में महबूबा मुफ़्ती द्वारा लेकिन राष्ट्रभक्तो के उफनते जूनून ने समुन्दर का रूप ले लिया और फिर कोई नहीं बचा इसको रोकने वाला ..जोधपुर की जनता ने सुरेश जी के समर्थन में भारत माता की जय के साथ हम दो हमारे दो तो सबके दो के नारे लगाए और दिल्ली तक पहुच कर इस कानून के बन न जाने तक हर संघर्ष में साथ देने का वादा किया .. इस पूरे अवसर पर जोधपुर भगवामय बना रहा और सुरेश जी के स्वागत के लिए आम जनमानस ने अभूतपूर्ण जोश और उत्साह दिखाया .. सुरेश जी के कार्यक्रम के लिए समाज का हर वर्ग और हर आयु वर्ग ने अपनी सहभागिता दर्ज करवाई .

भारत बचाओ यात्रा घार पहुची, कई संगठनो ने य़ात्रा का किया भव्य स्वागत

घार: जनसंख्या नियंत्रण कानून के लिए राष्ट्र निर्माण संस्था के अध्यक्ष श्री सुरेश जी चव्हाणके जी के नेतृत्व में निकाली गई भारत बचाओ महारथ यात्रा को धार पहुंची। जहां पर कई संगठनो के द्वारा यात्रा का भव्य स्वागत किया गया।वहीं लाल बाग से रोड़ शो प्रारंभ हुआ। हम दो हमारे दो तो सबके दो के नारे लगाए गए। जिसके बाद सुरेश जी ने राजवाडा मे विशाल जनसभा को सम्बोधित किया।

जनसंख्या नियंत्रण कानून के तहत ऑल एसोसिएशन के सदस्यों ने 50 हजार लोगो के लिए हस्ताक्षर

bathinda punjab: बठिंडा (पंजाब) में विभिन्न एनजीओज की एशोशिएसन ने राष्ट्रनिर्माण ट्रस्ट के चेयरमैन श्री सुरेश चव्हाणके द्वारा उठाए गए जनसंख्या नियंत्रण कानून के मुद्दे को गम्भीरता से लेते हुए पिछले दिनों बैठक कर विचार विमश किया। ऑल एसोशिएसन के सदस्यों ने मिलकर हस्ताक्षर अभियान के तहत लोगों के हस्ताक्षर लिए। पांच हजार लोगों के हस्ताक्षर सहित देश बचाओ यात्रा का जोरदार समर्थन करते जिला धीश बठिंडा द्वारा प्रधान मंत्री को शीघ्र अति शीघ्र #हम दो हमारे दो तो सबके दो का कानून बनाने की मांग की है। मांग विभिन्न एनजीओज के प्रतिनिधियों ने योग ऋषि आश्रम गोनियाना के स्वामी सूर्य देव जी की अगुवाई में दिया गया।

बाइक जुलूस निकालने को लेकर पुलिस ने की घेराबंदी, भारी संख्या में पुलिसबल तैनात

coimbatore: भारत बचाओ महारथ यात्रा का काफिला कोयंबटूर पहुंचा। जहां कार्यकर्ताओं ने रथयात्रा का पुष्प वर्षा करके भव्य स्वागत किया। इस दौरान भारी संख्या में पुलिसबल मौजूद रहा। वहीं बाइक जुलूस निकालने को लेकर पुलिस ने घेराबंदी कर कार्यकर्ताओं को रोक दिया। शहर के मिनी हॉल में जनसभा का शुभांरभ हुआ। यात्रा के महा नायक श्री सुरेश चव्हाणके जी ने जनसभा को संबोधित किया। कोयंबटूर वासियों ने 3 लाख हस्ताक्षर देने का संकल्प लिया।

पांडिचेरी में भारत बचाओ य़ात्रा की विशाल जनसभा, सुरेश जी ने विनायक मंदिर में यात्रा की सफलता का मांगा आशीर्वाद

Pondicherry: भारत बचाओ यात्रा का काफिला पांडुचेरी पहुंचा। पांडुचेरी बाला जी नगर के जैन भवन में यात्रा का भव्य स्वागत हुआ और वहीं सुरेश चव्हाणके जी ने एक विशाल जनसभा को सम्बोधित किया। लोगो को जनसंख्या निय़ंत्रण कानून का महत्व समझाया। जिसके बाद यात्रा अरविंदो आश्रम पहुंची। जहां पर अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके जी सहित सभी लोगों ने महर्षि अरविंद की समाधि और माणक विनायक मंदिर में दर्शन कर अभियान की कामयाबी की पूजा अर्चना की। साथ ही शीश झुकाकर यात्रा की सफलता का आशीर्वाद मांगा।

तेलंगाना पुलिस ने इंसानीयत को किया तार-तार, यात्रा में शामिल देशभक्तों से की अभद्रता

Hyderabad: जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाने की मांग के साथ शुरू हुई भारत बचाओं यात्रा देश के अलग अलग हिस्सों से होती हुई जब हैदराबाद पहुंची। जहां यात्रा को रूकावट का सामना करना पड़ा। ओवैसी की पार्टी AIMIM के कार्यकर्ताओं ने यात्रा में शामिल लोगों के साथ मारपीट की और इस दौरान पुलिस भी उनका सहयोग करती दिखी। यहां तक कि य़ात्रा का नेतृत्व कर रहे सुरेश चव्हाणके जी और उनकी पत्नी को पुलिस गिरफ्तार करके ले गई और उनके सुरक्षा बलों के साथ अभद्रता की। आपको बता दें कि चव्हाणके जी हैदराबाद मे भाग्यलक्ष्मी मंदिर जाना चाहते थे लेकिन अचानक से हैदराबाद पुलिस उन्हें लॉ एंड ऑर्डर की दिक़्क़त होने का कारण बताकर हिरासत मे लेकर शहर से बाहर आ गयी। भारत बचाओ यात्रा शुरूआती दौर से विवादों में रही है। इस पर रोक लगाने की पहले भी कोशिशे की गई हैं। सुप्रीम कोर्ट में याचिका भी दाखिल की गई थी। हालांकि याचिका की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने यात्रा पर रोक लगाने से इंकार कर दिया था।

नागपुर में भव्य जुलूस निकालकर कार्यकर्ताओ ने किया स्वागत, सुरेश चव्हाणके जी ने विशाल जनसभा को संबोधित किया।

Nagpur: जनसंख्या नियंत्रण कानून के लिए भारत बचाओ महारथ यात्रा" छत्तीसगढ़ प्रान्त के भिलाई, दुर्ग, राजनांदगांव, में सभा आयोजित कर महाराष्ट्र प्रान्त कि सीमा में प्रवेश कर सकोली, भंडारा होते हुए नागपुर पहुंची। नागपुर के श्री राम गृह में विभिन्न संगठनों संस्थाओं और नगर के गणमान्य व्यक्तियों द्वारा राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके, यात्रा के संयोजक मेजर जनरल एसपी सिन्हा, सह संयोजक कर्नल टीपीएस त्यागी, हिंदुभूषण श्यामजी महाराज, विजय यादव, विवेकानंद आदि का माल्यार्पण और पुष्प वर्षा कर स्वागत किया गया। जिसके बाद राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके जी ने एक विशाल जनसभा को सम्बोधित किया और झारखंड के मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। जिन्होंने स्थानीय चुनाव के लिए दो बच्चे का कानून लागू करवाया। साथ ही उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को हार्दिक धन्यावाद दिया। जिन्होंने उत्तराखंड में ध्रर्मान्तरण पर बेन लगाकर कानून पारित किया। चव्हाणके जी ने नागपुर की जनता से भी सीएम त्रिवेन्द्र रावत को धन्यावाद करने की अपील की।

संबलपुर में महारथ यात्रा का भव्य स्वागत, सभी धर्मों का मिला समर्थन

Sambalpur: राष्ट्र निर्माण समिति की जनसंख्या नियंत्रण कानून लागू करने की मांग को लेकर 18 फ़रवरी से जम्मू से निकली `भारत बचाओ महारथयात्रा`संभलपुर पहुंची। शहर के अग्रसेन भवन में विभिन्न संगठनों, संस्थाओं और नगर के गणमान्य व्यक्तियों द्वारा राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके, यात्रा के संयोजक मेजर जनरल एसपी सिन्हा, सह संयोजक कर्नल टीपीएस त्यागी, हिंदुभूषण श्यामजी महाराज, विजय यादव, विवेकानंद आदि का माल्यार्पण और पुष्प वर्षा कर स्वागत किया गया। वहीं राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके जी ने अग्रसेन भवन में एक विशाल जनसभा को सम्बोधित किया।

बंगाल में यात्रा को मिला जोरदार समर्थन

KOLKATA: "भारत बचाओ महा रथयात्रा" 10 राज्यों में 5 हज़ार किलोमीटर की दूरी तय कर बंगाल की राजधानी कोलकाता पहुंची। जहां पर राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके, यात्रा के संयोजक मेजर जनरल एसपी सिन्हा, सह संयोजक कर्नल टीपीएस त्यागी, कर्नल यूबी सिंह, हिंदुभूषण श्यामजी महाराज, समाजसेवी विजय यादव, राष्ट्रनिर्माण के संयोजक विवेकानंद सहित यात्रा में शामिल सभी लोगों का भव्य स्वागत किया गया। बंगाल के दुर्गापुर, आसनसोल, बर्दवान आदि नगरों से गुजरती हुई महा रथयात्रा के कोलकाता पहुंचने पर भव्य नगर भ्रमण हुआ। जिसमें बड़ी संख्या में स्थानीय लोग शामिल हुए। यहां चौरंगी रोड के रोटरी सदन में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए सुरेश चव्हाणके जी ने अनियंत्रित जन्मदर और अवैध घुसपैठ के कारण देश मे उत्पन्न जनसँख्या असंतुलन को देश की सम्प्रभुता के लिए अत्यंत खतरनाक और चिंताजनक बताते हुए कहा कि इस असंतुलन के कारण कई राज्यों में कभी बहुसंख्यक रहे हिन्दू अल्पसंख्यक हो चुके हैं। जहां जहां हिन्दू अल्पसंख्यक हुए हैं वहां विभाजनकारी तत्व मज़बूत हुए हैं और देश को बांटने की कोशिशें की हैं।

भारत बचाओ महारथ यात्रा पहुंची निरसा

Nirsa: 18 फरवरी को जम्मू से शुरू हुई 70 दिवसीय "भारत बचाओ महा रथयात्रा" गोला, बोकारो, धनबाद, होते हुए निरसा पहुंची। नगर भ्रमण के बाद यात्रा निरसा शहर के आज़ाद दुर्गा मंदिर जामताड़ा रोड पहुंची। जहां पर जिला संयोजक भारत स्वाभिमान के मंजीत सिंह और अनेक गणमान्य व्यक्तियों ने राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके, यात्रा के संयोजक मेजर जनरल एसपी सिन्हा, सह संयोजक कर्नल टीपीएस त्यागी, हिंदुभूषण श्यामजी महाराज, विजय यादव, विवेकानंद आदि का माल्यार्पण और पुष्प वर्षा कर स्वागत किया। दुर्गा मंदिर में एक विशाल जनसभा को सम्बोधित करते हुए जिला संघ चालक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के श्री विश्वनाथ पांडेय ने कहा कि जनसँख्या नियंत्रण कानून के अभियान में वो पूरी तरह से राष्ट्रनिर्माण संगठन के साथ हैं।उन्होंने कहा कि जनसँख्या पर नियंत्रण किये बिना देश की प्रगति नहीं हो सकती। वहीं राष्ट्रनिर्माण के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके ने अनियंत्रित जन्मदर और अवैध घुसपैठ के कारण देश मे उत्पन्न जनसँख्या असंतुलन को देश की सम्प्रभुता के लिए अत्यंत खतरनाक और चिंताजनक बताते हुए कहा कि इस असंतुलन के कारण कई राज्यों में कभी बहुसंख्यक रहे हिन्दू अल्पसंख्यक हो चुके हैं। जहां जहां हिन्दू अल्पसंख्यक हुए हैं वहां विभाजनकारी तत्व मज़बूत हुए हैं और देश को बांटने की कोशिशें की हैं।

हस्ताक्षर अभियान को सफल बनाये- सुरेश चव्हाणके

Ranchi: जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए भारत बचाओ महारथ यात्रा मोक्ष धाम की नगरी बोध गया चौपारण, बरही बाजार, हजारी बाग से होते हुए रांची पहुँची। काफिले के पहुचने पर रथ यात्रा के संयोजक वीर शिवाजी चौक में शिवाजी कि मूर्ति पर माल्यार्पण कर कामयाबी का आशीष लिया। जुलूस के साथ काफिला आगे बढ़ता हुआ मोरहाबादी मैदान पहुंचा, जहां पर विशाल जनसभा की गयी। सभा को संबोधित करते हुए सुरेश जी ने अभियान के बारे में बता कर लोगो को जागरूक किया। साथ ही उन्होंने कहा कि बढ़ती हुई आबादी की दर कभी भी भारत को विकसित देशों की श्रेणी में नहीं आने देगी। इस कानून को लाने के लिए हस्ताक्षर अभियान को सफल बनाना होगा।

देश में जनसँख्या नियंत्रण कानून जरुरी, मुहीम को सफल बनाने की ली शपथ

NAWADA: भारत बचाओ यात्रा का काफिला नवादा पंहुचा. यात्रा को सफल बनाने के लिए यात्रा में शामिल राष्ट्र निर्माण संस्था के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके जी, कर्नल टीपीएस त्यागी, जर्नल एसपी सिंह सहित पूरी टीम को नवादा की जनता का भरपूर सहयोग मिला. भाजपा के जिलाध्यक्ष शशिभूषण कुमार बल्लू, बिहिप के जिलामंत्री कैलाश विश्वकर्मा, बजरंग दल के जिलासंयोजक जीतेन्द्र प्रताप जीतू सहित अन्य लोगो ने फूल मालाओ के साथ यात्रा में मौजूद लोगो का भव्य स्वागत किया. इस मौके पर सुरेश चव्हाणके जी ने जनता को संबोधित करते हुए कहा कि देश में जनसँख्या के अनुपात में तेज़ी से आ रहे बदलाव से असंतुलन की गंभीर समस्या उत्पन्न हुई है जिसके कारण सामाजिक, सांस्क्रतिक, राजनीतिक अस्थिर होने का खतरा मंडरा रहा है. उन्होंने हम दो हमारे दो तो सबके दो का नारे के साथ – साथ जनता से मुहीम को सफल बनाने की शपथ भी ली. साथ ही केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने मोबइल से लाइव आकर जनसँख्या नियंत्रण का सन्देश लोगो तक पहुंचाया.

यूपी से निकलकर पटना पहुची भारत बचाओ महारथ यात्रा

Patna: "हम दो हमारे दो तो सबके दो" के नारे को लेकर निकाल रही भारत बचाओ महा रथयात्रा का उत्तर प्रदेश के समस्त जनपदों में रैली एवं जनसभा आयोजित कर बनारस में सम्पूर्ण हुआ। काफिला बनारस से आगे कि ओर कूच करता हुआ मुगलसराय, चंदौली, बक्सर, आरा, होते हुए विहार कि राजधानी पटना पंहुचा। जहा गांधी मैदान में विशाल जनसभा का आयोजन हुआ। राष्ट्र निर्माण संस्था के अध्यक्ष श्री सुरेश चव्हाणके जी ने संबोधित कर जन संख्या कानून लाने की जरूरत को बताया।

बाबा विश्वनाथ की नगरी वाराणसी पहुंची भारत बचाओ महायात्रा

VARANASI: भारत बचाओ महायात्रा 6 राज्यों के दर्जनों शहर से गुज़रकर बाबा विश्वनाथ की नगरी वाराणसी पहुंची. बाबा की नगरी में यात्रा का अभूतपूर्व स्वागत किया गया. विभिन्न संगठनों, संस्थाओं और नगर के गणमान्य व्यक्तियों ने मिलकर राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके, यात्रा के संयोजक मेजर जनरल एसपी सिन्हा, सह संयोजक कर्नल टीपीएस त्यागी, हिंदुभूषण श्यामजी महाराज, विजय यादव, विवेकानंद आदि का माल्यार्पण और फूलो की वर्षा के साथ स्वागत किया गया. सुरेश चव्हाणके जी ने दुर्गा कुंड के करपात्री स्टेट में आयोजित एक विशाल जनसभा में अनियंत्रित जन्मदर और अवैध घुसपैठ के कारण देश मे उत्पन्न जनसँख्या असंतुलन को देश की सम्प्रभुता के लिए अत्यंत खतरनाक और चिंताजनक बताते हुए कहा कि इस असंतुलन के कारण कई राज्यों में कभी बहुसंख्यक रहे हिन्दू अल्पसंख्यक हो चुके हैं. जहां जहां हिन्दू अल्पसंख्यक हुए हैं वहां विभाजनकारी तत्व मज़बूत हुए हैं और देश को बांटने की कोशिशें की हैं.

भगवान श्री राम की जन्म भूमि अयोध्या पहुंची भारत बचाओ महारथ यात्रा

Ayodhya : भारत बचाओ महायात्रा "हम दो हमारे दो तो सबके दो" का नारा लेकर कई प्रान्तों और जनपदों में नुक्कड़ सभाएं आयोजित करते हुए भगवान श्री राम की पावन जन्म भूमि अयोध्या में पहुंची. वही अयोध्या के कारसेवकपुरम में जनसभा का भव्य आयोजन हुआ. इससे पहले बाराबंकी में बजरंग दल के जिला प्रमुख ने अपने सैकड़ो कार्यकर्ताओ के साथ बाइक जुलूस निकला और साथ ही राष्ट्र निर्माण संस्था के अध्यक्ष श्री सुरेश जी का स्वागत पर भारत माता के जयघोष के साथ किया. सैकड़ो की संख्या में कार्यकर्ताओ ने फूलो की वर्षा की. वहाँ से एल.आई.सी चौराहा तक भव्य जुलूस निकालकर जनपदवासियों को जनसँख्या नियंत्रण कानून की मांग के बारे में अवगत कराया.

जब जब हिन्दू घटा है तब तब देश बटा है सुरेश चव्हानके जी ने जनता को संबोधित करते हुए कहा

Gonda: भारत बचाओ महारथ यात्रा बहराइच होते हुए गोंडा पहुंची. संत आसाराम बापू आश्रम में विश्व हिंदू परिषद् के कार्यकर्ताओ और जिला संयोजको ने यात्रा का स्वागत किया. महारथ यात्रा के संयोजक ने कार्यकर्ताओ के इस भारी समर्थन को सराहा. श्री चव्हानके जी ने कहा जब जब हिन्दू घटा है तब तब देश बटा है. इस बढ़ती जनसंख्या से असंतुलन बिघटन होता है. हम दो हमारे दो तो सबके दो होना चाहिए. तभी हम अपने भारत को बचा सकते है. देश की संस्कृति को सुदृढ़ बनाना अपना लक्ष्य बनाना होगा. तभी हम लोग सुरक्षित होंगे.

हरदोई मे आर्य समाज के कार्यकर्ताओं ने भारत बचाओ रथ यात्रा का स्वागत किया

Hardoi: भारत बचाओ यात्रा का हरदोई पहुचने पर आर्यसमाज मंदिर में फूल मालयो के साथ जोरदार स्वागत हुआ. राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके जी ने राष्ट्रीय सांसद संग के जिला प्रचारक अवधेश जी, आर्य समाज मंदिर के प्रदेश उपप्रधान राजीव रंजन मिश्रा जी के साथ-साथ अदि लोगो का आभार व्यक्त किया. जिन्होंने हरदोई में सहयोग देकर यात्रा को सफल बनाया है. सुरेश चव्हाणके जी ने हरदोई की जनता को संबोधित करते हुए कहा कि हरदोई में विस्तार से मैं इसलिए बोल रहा हूँ क्योकि हमे न केबल बडती विधर्मियो की जनसख्या की चिंता है बल्कि इसे विधर्मियो को और भी ज्यादा प्रोत्साहित करके देशद्रोही तादात बढाने वाले नरेश अग्रवाल जैसे लोगो से भी चिंता है. उन्होंने कहा जो आदमी राम जी, सीता जी, विष्णु जी का अपमान करता हो और पाकिस्थान का गुण गाता हो क्या ऐसे आदमी को हम हिन्दू कहेगे. केवल नाम होना पर्याप्त नहीं है गुण भी होने चाहिए. हम हिन्दुस्थान का पाकिस्थान नहीं बनाने देना चाहते. हिन्दुस्तान जब आजाद हुआ था तब धर्म के नाम पर पाकिस्तान बना था. लेकिन अब जनसँख्या ज्यादा होने पर दसको बाद फिर से यही होने वाला है.इसलिए जनसंख्या नियंत्रण के लिए कानून बनना जरुरी है.

संभल प्रशासन ने सुरक्षा का हवाला देकर भारत बचाओ को संभल जाने से रोका, धरने पर बैठे सुरेश चव्हाणके जी

Sambhal: जनसँख्या नियंत्रण कानून हेतु राष्ट्र निर्माण संगठन द्वारा आयोजित भारत बचाओ महा रथयात्रा सातवे दिन संभल प्रशाशन के चलते धरने में तब्दील हो गयी. यात्रा का काफिला शांतिपूर्वक हापुड़ होती हुई गजरौला पहुची जहाँ बड़ी संख्या में लोग भारत बचाओ यात्रा का स्वागत के लिए फूल मालाये लेकर गजरौला वासी इंतजार में खड़े रहे. काफिले के पहुचते ही श्री चव्हाणके जी का स्वागत एवं करनाल सिन्हा जी को पुष्प भेट कर स्वागत किया. जिसके बाद यात्रा प्रस्थान करती हुई राजतपुर पहुची, वहाँ के उपस्थिति ग्रामवासियो ने सामूहिक हस्ताक्षर की एक फाइल भेट कर संस्था के अध्यक्ष जी के हस्ताक्षर अभियान को मजबूत बनाया. जनसभा को संबोधित करते हुए श्री सुरेश जी ने कहा हमें खुद जागरूक बनना होगा. हमें देश को बांटने से रोकना होगा. हम दो हमारे दो तो सबके दो इस नारे को सफल बनाना है. राजतपुर जनसभा को संबोधित कर जैसे ही काफिला संभल की ओर बड़ा तो संभल प्रशाशन ने सुरक्षा का हवाला देकर दो रुट बेरिकेटिंग से जाम किये थे. यात्रा के लिए एक रुट बनाया गया था. दरअसल काफिले की संख्या एवं भारी समर्थन को हुजूम को देखकर प्रशासन के कान खड़े हुए जिसके चलते प्रशासन ने आनन फानन में तीसरे रुट को भी बंद कर दिया. जोया चौराहे पर यातायात बाधित होने की स्थिति को देखते हुए यात्रा के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके जी जोया चौराहे पर धरने में बैठ गए. जिसके पश्चात् जनरल सिन्हा जी एवं अशोक गोयल ने अपनी यात्रा के कार्यकताओ का मनोबल बढ़ाया .

गाज़ियाबाद के रामलीला मैदान में हुई भारत बचाओ यात्रा की विशाल जनसभा

Gaziabad: 'हम दो हमारे दो तो सबके दो" के नारे के साथ देश मे अनियंत्रित ढंग से बढ़ रही जनसँख्या पर नियंत्रण के लिए जनसँख्या नियंत्रण कानून हेतु राष्ट्र निर्माण संगठन द्वारा आयोजित भारत बचाओ महा रथयात्रा आज छठे दिन पूरे जोश और उत्साह के साथ गाज़ियाबाद पहुँची, लगभग 1200 किलोमीटर की दूरी तय कर पहुंची इस यात्रा का गाज़ियाबाद में भव्य स्वागत किया गया, ढोल नगाड़ों और पुष्प वर्षा के बीच भारत माता की जय और वन्दे मातरम के नारों के साथ राष्ट्रनिर्माण संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके, संयोजक मेजर जनरल एस पी सिन्हा, सह संयोजक कर्नल टी पी एस त्यागी सहित यात्रा में शामिल लोगों को पुष्प गुच्छ प्रदान कर स्वागत किया गया, यात्रा के गाज़ियाबाद शहर में पहुंचने से पहले वाहन सहित सैकड़ों लोगों का काफिला यात्रा में शामिल हुआ, एक बड़े रोड शो के रूप में यह यात्रा गाज़ियाबाद के रामलीला ग्राउंड पहुंची जहां एक विशाल जनसभा का आयोजन हुआ, राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि खतरनाक ढंग से बढ़ती हुई आबादी ने न सिर्फ देश के विकास के पहिये को अवरुद्ध किया है, बल्कि देश के भीतर जनसांख्यिकीय असंतुलन को पैदा किया है,उन्होंने जनसांख्यिकीय असंतुलन की इस स्थिति को देश की एकता और सम्प्रभुता के लिए अत्यंत घातक बताते हुए कहा कि इस असंतुलन ने देश मे चिंताजनक स्थिति पैदा कर दी है। कई राज्यों में बहुसंख्यक हिन्दू अल्पसंख्यक हो चुके हैं। किसी भी देश मे बहुसंख्यक समुदाय का अल्पसंख्यक हो जाना उस देश की सम्प्रभुता के लिए एक गम्भीर खतरा हो जाता है।

भारत बचाओ यात्रा के मेरठ पहुचने पर जनता ने सुरेश चव्हाणके जी और यात्रा में शामिल लोगो को पगड़ी पहनाकर स्वागत किया

Meerut: भारत बचाओ महा रथयात्रा का मेरठ पहुंचने पर जोरदार स्वागत हुआ, चौधरी चरण विश्वविद्यालय के बृहस्पति भवन में स्वागत समारोह में संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके जी सहित यात्रा में शामिल लोगों का पगड़ी और माला से स्वागत किया गया, राष्ट्रनिर्माण के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके जी ने पांच सौ से ज्यादा छात्रों की सभा को सम्बोधित करते हुए यात्रा के उद्देश्यों और अनिवार्यता पर प्रकाश डाला, जनसँख्या नियंत्रण कानून के लिए हस्ताक्षर अभियान को पूरा करने की छात्रों से प्रतिज्ञा करवाई, उन्होंने छात्रों से खून के बदले मेहनत का पसीना माँगा, उन्होंने कहा कि जो देश को काट डालने की बात करते है, उनको सबक सिखाएंगे.

शामली की जनता ने भारत बचाओ यात्रा का गर्मजोशी के साथ स्वागत किया

Shamli: सुरेश चव्हाणके जी द्वारा शुरू की गई जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग को लेकर भारत बचाओ यात्रा के शामली पहुंचने पर हिंदू संगठनों के कार्यकर्ताओं ने गर्मजोशी से स्वागत किया, जय श्रीराम और हम दो हमारे दो का नारा हर तरफ गूंजता रहा, हिंदू रक्षा सेना, हिंदू जागरण मंच और व्यापारी सेना के कार्यकर्ताओं ने जय श्रीराम, हम दो हमारे दो, भारत बचाओ के नारे लगाए, सुरेश चव्हाणके जी ने जनता को संबोधित करते हुए कहा कि हम दो हमारे दो का कानून सभी पर प्रभावी रूप से लागू होना चाहिए, वहीं हिंदू रक्षा सेना के जिलाध्यक्ष कुलदीप गौड़ के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने ढोल बाजे के साथ यात्रा का स्वागत किया, साथ ही केंद्र सरकार से जनसंख्या नियंत्रण को लेकर गंभीरता से ठोस कदम उठाए जाने की मांग की, इस मौके पर हिंदू रक्षा सेना के जिला संयोजक सुरेश बजाज, कमल बंसल, रविंद्र मुंडेट, हंसराज, महेंद्र सिंह सैनी, अमित राणा, विकास संगल, दिनेश, सचिन तोमर, सुमित पारचा, अमित राणा, अनुज मेहरा, राजेश धीमान आशु नामदेव, विकास रेलपार, दीपक मुंडेट और अनुज राणा आदि कार्यकर्ता मौजूद रहे।

भारत बचाओ यात्रा के लुधियाना में रोड शो के दौरान राष्ट्र निर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके जी ने जनता को संबोधित किया

Ludhiyana: लुधियाना में भारत बचाओ यात्रा के पहुचने पर राष्ट्र निर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके जी ने रोड शो में जनता को संबोधित करते हुए कहा कि अगर बड़ती हुई जनसँख्या को रोकना है तो हमे संविधानिक तरीके से कानून लाना होगा, हम खून खराबा कतिले आम नहीं कर सकते, उन्होंने जनता से पूछा क्या हमे देश में कानून लाने का हक़ है या नहीं,अगर हक़ है तो कानून सरकार लाएगी, और सरकार कानून तभी लाएगी जब हम खुद सरकार से कानून लाने की मांग करेगे, इसीलिए हमने भारत बचाओ हम दो हमारे दो तो सबके दो यात्रा शुरू की है, यह यात्रा 70 दिन की है, जो कि कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी, से दिल्ली तक भारत में होते हुए जाएगी.

भारत बचाओ यात्रा के जालंधर पहुंचने पर जनता ने का किया भव्य स्वागत

jalandhar: देश में जनंसख्या नियंत्रण कानून लागू करवाने के लिए राष्ट्र निर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके जी के मार्गर्दर्शन में निकाली जा रही भारत बचाओ यात्रा का जालंधर की जनता ने जोरदार स्वागत किया, इस मौके पर सुरेश चव्हाणके जी ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि जहां एक ओर हिंदू समाज परिवार कल्याण को अपनाकर कम बच्चे पैदा कर सरकार की नीतियों का अनुसरण कर रहा है, वहीं दूसरी ओर एक विशेष वर्ग में अनियंत्रित जन्मदर आदर्श जनसांख्यिकीय अनुपात के लिए गंभीर खतरा उत्पन्न कर रहा है, सच तो यह है कि भारत की सुरक्षा तभी संभव है, जब देश का मौलिक आदर्श जनसांख्यिकीय अनुपात अक्षुण्ण रहे, इसीलिए हमने नारा दिया है हम दो, हमारे दो तो सबके दो।

पंजाब के अमृतसर में जनसँख्या नियंत्रण भारत बचाओ यात्रा में उपस्थित जनता को राष्ट्र निर्माण के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके जी ने संबोधित किया

Amritsar: अमृतसर के दुर्गियाना मंदिर में भारत बचाओ यात्रा का आगाज़ हुआ, अमृतसर की जनता ने यात्रा में शामिल होकर यात्रा को सफल बनाया, वहीं सुरेश चव्हाणके जी ने यात्रा में उपस्थित लोगो को संबोधित किया और जनसंख्या के असंतुलन से आने वाले समय में भारत पाकिस्तान न बन जाये इसलिए समय रहते सभी को जगना होगा नहीं तो आने वाले समय में भारत मुग्लिस्तान बन जाएगा इस खतरे से देश को अगर बचाना है तो "हम दो हमारे दो तो सबके दो" इस कानून को बनाने के लिए केंद्र सरकार से मांग करनी होगी और एक शशक्त जनसँख्या नियंत्रण कानून देश में लाना होगाए हिन्दुओं की घटती आबादी लिए सरकार को एक शसक्त कानून बनाना होगाए इस बीच जनता से देश के लिए अपना सर्वस्य न्योछावर करने का आव्हान करते हुए प्रधान संपादक भावुक हो गए.

राष्ट्र आज गवाह बनेगा साजिशन बढ़ती आबादी के खिलाफ एक महाअभियान के शुभारंभ का

18 फ़रवरी- जम्मू : राष्ट्र आज गवाह बनेगा साजिशन बढ़ती आबादी के खिलाफ एक महाअभियान के शुभारंभ का जिसे अंनत काल तक भारत बचाओ यात्रा के नाम से जाना जाएगा

राष्ट्र निर्माण संगठन ने बेटी - बचाओ , बेटी - पढ़ाओ अभियान को दिया बढ़ावा

WEST DELHI : डॉ. भीमराव अम्बेडकर महाविद्यालय में सुदर्शन राष्ट्र निर्माण ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान को बढ़ावा देने के लिए पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता आयोजित की इस प्रतियोगिता में सैंकड़ो छात्र - छात्राओं ने प्रतिभाग लिया अग्रणी रहे छात्रों को सम्मानित भी किया गया |

सांसद नरेश अग्रवाल के जहरीले बयान के बाद उसके आवास पर राष्ट्र निर्माण संगठन के कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन

नई दिल्ली : सांसद नरेश अग्रवाल के जहरीले बयान व् कुलभूषण जाधव के खिलाफ जहर उगलने पर उनके आवास पर राष्ट्र निर्माण संगठन के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया और सुप्रीम कोर्ट से मांग की की ऐसे बोलने वाले सांसदों पे कड़ी करवाई करे ताकि भविष्य में किसी सैनिक का अपमान करने की कोई हिमाकत न करे